Wednesday, May 25, 2022
Homeदेश-समाज6 जिले 66 मौलाना: मस्जिदों को सैनिटाइज तो मौलवियों को क्वारंटाइन कर रहा बिहार

6 जिले 66 मौलाना: मस्जिदों को सैनिटाइज तो मौलवियों को क्वारंटाइन कर रहा बिहार

दरभंगा जिले में भी 10 मौलवी आए थे, जिन्होंने क़रीब एक दर्जन मस्जिदों में भाषण दिया था। ये सभी 15 मार्च के आसपास दिल्ली से ट्रेन के माध्यम से दरभंगा पहुँचे थे। इन लोगों को स्थानीय स्तर पर सुविधा दिलाने और ठहराने में शामिल एक वार्ड पाषर्द समेत कुछ नामी लोगों को भी पुलिस ने अपने रडार पर लिया था।

तबलीगी जमात वालों ने पूरे भारत में कोरोना वायरस के प्रकोप को और बढ़ा दिया। एक तरह से दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज़ मस्जिद से निकल कर जमाती भारत के विभिन्न राज्यों में पहुँचे और वो वहाँ के मुस्लिम बहुल इलाक़ों में छिपे रहे। बिहार में भी कई मस्जिदों में जमाती छिपे हुए थे, जिन्हें एक-एक कर निकाला गया। इस दौरान मस्जिदों ओर मुस्लिम बहुल इलाक़ों में सर्च के लिए गई पुलिस टीम पर हमले भी हुए। मधुबनी में फायरिंग की गई।

सबसे पहले तो बात पटना की। यहाँ 14 विदेशी नागरिक एक मस्जिद में छिपे मिले। पटना का नूरी मस्जिद एक तरह से बिहार में जमातियों का मुख्यालय है। जब पुलिस-प्रशासन वहाँ पहुँचा तो वो सभी ख़ुद को स्वस्थ बताने लगे और मेडिकल टेस्ट से भी आनाकानी की। बाद में सभी विदेशी नागरिकों का मेडिकल टेस्ट कराया गया। ये सभी 15 दिनों तक उस मस्जिद में छिपे हुए थे। इनमें से कई ने बताया कि वो दिल्ली से पटना पहुँचे थे। उन सभी का पुराना ट्रेवल रिकॉर्ड मिला था।

इसी तरह बारा में भारत-नेपाल बॉर्डर पार करने की कोशिश कर रहे 9 मौलानाओं को पुलिस ने पकड़ लिया था। पता चला था कि ये सभी आसपास के इलाकों की मस्जिदों में छिपे हुए थे। सभी मौलाना तबलीगी जमात के मजहबी कार्यक्रमों में हिस्‍सा लेकर लौटे थे। उन्होंने बहाना बनाया था कि वो लॉकडाउन की वजह से यहाँ पर फँस गए हैं। जिन मौलानाओं को पकड़ा गया, वो सभी मटीअरवा गाँव के नजदीक ‘नो मैंस लैंड’ पार कर नेपाल में प्रवेश करने का प्रयास कर रहे थे। इन सबको आइसोलेट किया गया।

अररिया के जामा मस्जिद से भी 9 लोग पकड़े गए थे। मेडिकल टेस्ट कराने के बाद सबको क्वारंटाइन किया गया। एक व्यक्ति की मौत भी हो गई थी लेकिन बाद में पता चला कि उसकी मौत कोरोना के कारण नहीं बल्कि प्राकृतिक मृत्यु हुई थी। ये सभी मलेशिया से आए थे। इसी तरह किशनगंज के 13 लोग मिले थे, जिन्हें वहीं के एक मस्जिद में क्वारंटाइन किया गया था।

मधुबनी की बात करें तो वहाँ अंधराठाढ़ी थाना के गीदरगंज गाँव से चार जमाती और रुद्रपुर थाना क्षेत्र के हरना गाँव की एक मस्जिद से 11 बंगाली जमातियों को क्वारंटाइन किया गया था। अंधारठाढ़ी में पुलिस पर हमला भी किया गया था। इन सभी को क्वारंटाइन करने के बाद पुलिस ने मस्जिद को भी सैनिटाइज किया। ब्लीचिंग पाउडर और केमिकल्स के साथ पूरे इलाक़े में अग्निशमन विभाग को लगाया गया था।

मधुबनी से सटे दरभंगा जिले में भी 10 मौलवी आए थे, जिन्होंने क़रीब एक दर्जन मस्जिदों में भाषण दिया था। ये सभी 15 मार्च के आसपास दिल्ली से ट्रेन के माध्यम से दरभंगा पहुँचे थे। इन लोगों को स्थानीय स्तर पर सुविधा दिलाने और ठहराने में शामिल एक वार्ड पाषर्द समेत कुछ नामी लोगों को भी पुलिस ने अपने रडार पर लिया था। इसी तरह मोतिहारी के भी एक मौलवी को पकड़ के क्वारंटाइन किया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आतंकियों ने कश्मीरी अभिनेत्री की गोली मार कर हत्या की, 10 साल का भतीजा भी घायल: यासीन मलिक को सज़ा मिलने के बाद वारदात

जम्मू कश्मीर में आतंकियों ने कश्मीरी अभिनेत्री अमरीना भट्ट की गोली मार कर हत्या कर दी है। ये वारदात केंद्र शासित प्रदेश के चाडूरा इलाके में हुई, बडगाम जिले में स्थित है।

यासीन मलिक के घर के बाहर जमा हुई मुस्लिम भीड़, ‘अल्लाहु अकबर’ नारे के साथ सुरक्षा बलों पर हमला, पत्थरबाजी: श्रीनगर में बढ़ाई गई...

यासीन मलिक को सजा सुनाए जाने के बाद श्रीनगर स्थित उसके घर के बाहर उसके समर्थकों ने अल्लाहु अकबर की नारेबाजी की। पत्थर भी बरसाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,823FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe