Wednesday, June 12, 2024
Homeदेश-समाजमुगल आक्रांताओं के कारण मेरे पूर्वज मुस्लिम बने, मेरी आस्था सनातन में: बिहार की...

मुगल आक्रांताओं के कारण मेरे पूर्वज मुस्लिम बने, मेरी आस्था सनातन में: बिहार की नसीमा खातून बनी मीनाक्षी शर्मा, प्रेमी से रचाया विवाह

पैदा मुस्लिम हुई। निकाह भी मुस्लिम से ही। जब बेटी पैदा होने के बाद शौहर ने दिया तलाक और दूसरे मर्द के साथ हमबिस्तर होकर हलाला का बनाया दबाव... तो हिंदू दोस्त को बनाया प्रेमी, धर्म परिवर्तन कर सनातन में घर-वापसी करते हुए रचाई शादी।

बिहार के पुर्णिया की रहने वाली नसीमा खातून नाम ने इस्लाम त्यागकर घर वापसी की और अपने प्रेमी महेश शर्मा से हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार शादी कर ली। नसीमा खातून अब मीनाक्षी शर्मा बन गई है। नसीमा का कहना है कि उसके शौहर ने 6 महीने पहले उसे तीन तलाक दे दिया था। इसके बाद उस पर हलाला का दबाव बनाया जा रहा था। युवती की पहले पति से डेढ़ साल की एक बच्ची भी है।

बिहार के पुर्णिया की रहने वाली नसीमा खातून सोशल मीडिया इंस्टाग्राम के जरिए महेश शर्मा के संपर्क में आई थी। महेश उत्तर प्रदेश के बरेली क्षेत्र के रहने वाले हैं। सोशल मीडिया पर संपर्क के बाद दोनों में धीरे-धीरे बातचीत होने लगी। इसके बाद दोनों के बीच दोस्ती और फिर प्यार हो गया। इसके बाद दोनों ने शादी करने का फैसला कर लिया।

अपने प्रेमी से शादी करने के लिए नसीमा खातून पुर्णिया से बरेली आ गई। यहाँ नसीमा ने 10 जनवरी 2024 को बरेली के जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र देकर घर वापसी का आग्रह किया था। ऑपइंडिया के पास मौजूद इस पत्र में नसीमा ने कहा था कि वह 20 साल की वयस्क है और तलाकशुदा है। वह अपना अच्छा-बुरा सोचने में पूरी तरह तरह सक्षम है। इसलिए उसके आवेदन पर तुरंत कार्रवाई की जाए।

अपने आवेदन में नसीमा ने लिखा है, “मुगल आक्रांताओं के आतंक के कारण मेरे पूर्वज इस्लाम धर्म के अनुयायी बन गए थे, किन्तु मेरा विश्वास और आस्था हिंदू सनातन धर्म में है। मैं हिंदू देवी-देवताओं की पूजा अर्चना करती हूँ। इस्लाम धर्म में महिलाओं का कोई सम्मान नहीं है। तीन तलाक, हलाला जैसी कुप्रथाएँ प्रचलित हैं। मैं स्वेच्छा से घरवापसी कर हिंदू/वैदिक/सनातन धर्म ग्रहण करना चाहती हूँ।”

इसके बाद नसीमा खातून कानूनी तौर पर धर्म परिवर्तन कर लिया। फिर वह बरेली के अगस्त्य मुनि आश्रम पहुँची। वहाँ पंडित केके शंखधार से मुलाकात की पंडित शंखधर ने जरूरी दस्तावेज की जाँच करने बाद वैदिक विधि से उसका सनातन में घर वापसी करवाई। इसके बाद नसीमा से मीनाक्षी बनी युवती का विवाह उसके प्रेमी महेश शर्मा के साथ विवाह संपन्न कराया।

शादी के बाद नसीमा को अब अपने परिजनों का भय सता रहा है। उसने बरेली के एसएसपी को एक चिट्ठी लिखकर सुरक्षा की गुहार लगाई है। ऑपइंडिया के पास मौजूद चिट्ठी में नसीमा ने लिखा है कि सनातन में वापसी और प्रेमी के साथ शादी करने से उसके घर वाले खुश नहीं हैं। नसीमा ने लिखा, “वे मेरी और मेरे पति तथा ससुराल वालों के जान के दुश्मन बन गए हैं और जान से मारने की धमकी दे रहे हैं।”

नसीमा का कहना है कि उसका निकाह आगरा में हुआ था, जिससे उसकी डेढ़ साल की एक बच्ची भी है। उसने बताया कि किसी बात को लेकर 6 महीने पहले उसके शौहर ने तीन तलाक दे दिया। इसके बाद उस पर हलाला के लिए दबाव बनाया जाने लगा था। जब उसने हलाला का विरोध किया तो शौहर और उसके परिजनों ने उसे धक्के मारकर घर से निकाल दिया। इसके बाद मायके में रहने लगी। इसी दौरान वह सोशल मीडिया के माध्यम से बरेली के महेश शर्मा के संपर्क में आई।

बता दें कि दो पहले ही यूपी के बुलंदशहर में शाहिदा नाम की एक मुस्लिम महिला ने घर वापसी के बाद अपने प्रेमी ओम प्रकाश से शादी कर ली थी। घर वापसी के बाद उसने अपना नाम शारदा रख लिया था। शाहिदा अपने शराबी शौहर से पहले ही तलाक ले चुकी थीं। शाहिदा के 2 नाबालिग बेटे भी अब हिन्दू धर्म के अनुसार जीवन बिताएँगे। इस घर वापसी में हिन्दू संगठनों ने शाहिदा की मदद की है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

नाबालिग औलाद ने ही अपने इमाम अब्बा का किया सिर तन से जुदा: कट्टर इस्लामी-वामी मचा रहे ‘मुस्लिम टारगेट किलिंग’ का शोर, पुलिस जाँच...

जिसे वामी-इस्लामी हैंडल घोषित करना चाहते थे टारगेट किलिंग, शामली में मस्जिद के उस इमाम का सिर उनके ही नाबालिग बेटे ने किया था तन से जुदा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -