Saturday, June 15, 2024
Homeदेश-समाजबिहार में थाने से 15 किमी दूर चल रही थी गन फैक्ट्री, कई राज्यों...

बिहार में थाने से 15 किमी दूर चल रही थी गन फैक्ट्री, कई राज्यों में होती थी सप्लाई: बंगाल में पकड़े गए हथियार तस्कर तो हुआ खुलासा, छापेमारी में 3 गिरफ्तार

कुछ दिनों पहले पश्चिम बंगाल पुलिस ने बिहार में बने अवैध हथियारों के साथ 3 तस्करों को गिरफ्तार किया था। इन्होंने पूछताछ में बिहार के पूर्णिया में अवैध हथियार की फैक्ट्री होने की जानकारी दी थी। इस जानकारी पर धमदाहा थानाक्षेत्र के गाँव कुकरौन में पश्चिम बंगाल की STF ने छापा मारा।

बिहार के पूर्णिया जिले में अवैध गन फैक्ट्री का पर्दाफाश हुआ है। इसका खुलासा पश्चिम बंगाल पुलिस की STF टीम ने किया है। यहाँ बने हथियार देश के कई हिस्सों में बेचे जाते थे। अवैध हथियार बनाने वाले गौरव और सौरव चौधरी नाम के 2 भाई बताए जा रहे हैं। दोनों छापेमारी से पहले फरार हो गए। अवैध हथियार बना रहे 3 कारीगरों को गिरफ्तार कर लिया गया है। मौके से भारी मात्रा में अवैध हथियार बरामद किए हैं। छापेमारी मंगलवार (21 मार्च 2023) को की गई।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मामला पूर्णिया के थानाक्षेत्र धमदाहा का है। कुछ दिनों पहले पश्चिम बंगाल पुलिस ने बिहार में बने अवैध हथियारों के साथ 3 तस्करों को गिरफ्तार किया था। इन्होंने पूछताछ में बिहार के पूर्णिया में अवैध हथियार की फैक्ट्री होने की जानकारी दी थी। इस जानकारी पर धमदाहा थानाक्षेत्र के गाँव कुकरौन में पश्चिम बंगाल की STF ने छापा मारा। कुकरौन गाँव थाने से लगभग 15 किलोमीटर दूर है। छापेमारी के दौरान बिहार पुलिस को भी साथ लिया गया था।

बताया जा रहा है कि जिसके मकान में अवैध हथियार बन रहे थे, वे गौरव और सौरव नाम के 2 सगे भाई हैं। कहा जा रहा कि छापेमारी की भनक लगते ही दोनों भाई घर से फरार हो गए। पुलिस ने मौके से अवैध हथियार बना रहे 3 कारीगरों को गिरफ्तार किया। इनमें से मोहम्मद शाहिद और मोहम्मद शहाबुद्दीन नाम के 2 कारीगर बिहार के मुंगेर जिले के रहने वाले हैं। तीसरा कारीगर मोहम्मद सोनू उर्फ़ शाहनवाज भागलपुर जिले का रहने वाला है। पुलिस की पूछताछ में तीनों कारीगरों ने मकान में लम्बे समय से अवैध हथियार बनने की जानकारी दी है।

गिरफ्तार हुए तीनों कारीगर शहाबुद्दीन, शाहिद और सोनू ने पुलिस को यह भी बताया कि वहाँ से बने हथियार ओडिशा, झारखंड और पश्चिम बंगाल तक बेचे जाते थे। कारीगरों को हर हथियार की बिक्री पर चौधरी भाइयों द्वारा फिक्स कमीशन मिलता था। पुलिस ने इस ठिकाने से 5 दर्जन से ज्यादा देशी कट्टा बनाने का सामान, लोहे की 60 रॉड, 50 बैरल बॉडी, 12 प्लेट बॉडी, 2 लेथ मशीनें, 16 स्लाइड, 20 अर्द्ध-निर्मित पिस्टल एवं एक तैयार देशी कट्टा बरामद किया है। पकड़े गए तीनों कारीगरों से पूछताछ चल रही है। फरार गौरव और सौरव की तलाश में दबिश दी जा रही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NSA, तीनों सेनाओं के प्रमुख, अर्धसैनिक बलों के निदेशक, LG, IB, R&AW – अमित शाह ने सबको बुलाया: कश्मीर में ‘एक्शन’ की तैयारी में...

NSA अजीत डोभाल के अलावा उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा, तीनों सेनाओं के प्रमुख के अलावा IB-R&AW के मुखिया व अर्धसैनिक बलों के निदेशक भी मौजूद रहेंगे।

अब तक की सबसे अधिक ऊँचाई पर पहुँचा भारत का विदेशी मुद्रा भंडार, उधर कंगाली की ओर बढ़ा पाकिस्तान: सिर्फ 2 महीने का बचा...

एक तरफ पाकिस्तान लगातार बर्बादी की कगार पर पहुँच रहा है, तो दूसरी तरफ भारत का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार बढ़ता जा रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -