Thursday, April 25, 2024
Homeदेश-समाजझारखंड: BJP नेता को गोली मार पैदल ही फरार हो गए 2 बदमाश, पार्टी...

झारखंड: BJP नेता को गोली मार पैदल ही फरार हो गए 2 बदमाश, पार्टी ने कहा- जंगलराज लौट आया

रविवार की शाम जयवर्धन सिंह बस स्टैंड के पास स्थित प्रज्ञा केंद्र के सामने बैठे हुए थे। तभी पीछे से दो युवक आए और उनके पीठ व गर्दन के पास सटा कर गोली मार दी। वह वहीं गिर गए।

झारखंड के लातेहार जिले के बरवाडीह बस स्टैंड पर भाजपा जिला महामंत्री जयवर्धन सिंह की रविवार (जुलाई 5, 2020) को गोली मारकर हत्या कर दी गई। घटना कल शाम करीब साढ़े 7 बजे घटी। आरोपित मौके से पैदल ही फरार हो गए। भाजपा ने आरोप लगाया कि झारखंड में जंगलराज की फिर वापसी हो गई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रविवार की शाम जयवर्धन सिंह बस स्टैंड के पास स्थित प्रज्ञा केंद्र के सामने बैठे हुए थे। तभी पीछे से दो युवक आए और उनके पीठ व गर्दन के पास सटा कर गोली मार दी। वह वहीं गिर गए।

गोली मारने के बाद दोनों बदमाश फायरिंग करते हुए बस स्टैंड से होते हुए बाजार के मुख्य सड़क से भाग निकले। लोगो ने दोनों युवकों का पीछा भी किया, लेकिन दोनों पैदल ही फरार हो गए।

इस घटना की सूचना पाते ही बरवाडीह डीएसपी अमरनाथ ने पुलिस इंस्पेक्टर उदय प्रताप सिंह व पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर पहुँच कर गोली मारने वालों के बारे में जानकारी जुटाई। साथ ही उनकी धड़पकड़ के लिए छापेमारी अभियान शुरू किया।

पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने इस घटना पर कहा कि राज्य में कानून-व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है। लातेहार भाजपा जिला महामंत्री जयवर्धन सिंह की सरेआम हत्या हो गई। इसकी जितनी भर्त्सना की जाए कम है। सरकार अपराधियों को तत्काल पकड़ कर कड़ी कार्रवाई करे। कानून-व्यवस्था में सुधार नहीं हुआ, तो भाजपा उग्र आंदोलन करेगी।

बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने जयवर्धन सिंह की हत्या पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ऐसा लगता है कि झारखंड में जंगलराज वापस आ गया है। उन्होंने कहा कि राज्य में कानून-व्यवस्था पूरी तरह से चौपट हो गई है। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। राज्य में पिछले 6 महीने में नक्सली और आपराधिक घटनाओं में अप्रत्याशित रूप से वृद्धि हुई है।

गौरतलब है कि जयवर्धन सिंह पर पहले भी हमला हुआ था। 2018 में जब वह लातेहार व्यवहार न्यायालय में गवाही देने गए थे तभी कुछ लोगों ने हमला कर दिया था। हालाँकि इस घटना में पुलिस ने अपराधियों को फौरन पकड़ लिया था। इसके अलावा करीब 6 साल पहले भी उनपर जानलेवा हमले का प्रयास हुआ था।

लोगों के मुताबिक, वे लगातार अपने ऊपर हमले की आशंका जताते थे। इसके लिए उन्होंने हथियार की माँग भी की थी। लेकिन उनके आर्म्स विधानसभा चुनाव के दौरान थाने में जमा करवा लिए गए थे। चुनाव के बाद उन्होंने लिखित आवेदन देकर हथियार को वापस रिलीज करने की माँग की थी, मगर प्रशासन ने इस पर कोई कार्रवाई नहीं की।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्नाटक में सारे मुस्लिमों को आरक्षण मिलने से संतुष्ट नहीं पिछड़ा आयोग, कॉन्ग्रेस की सरकार को भेजा जाएगा समन: लोग भी उठा रहे सवाल

कर्नाटक राज्य में सारे मुस्लिमों को आरक्षण देने का मामला शांत नहीं है। NCBC अध्यक्ष ने कहा है कि वो इस पर जल्द ही मुख्य सचिव को समन भेजेंगे।

मार्क्सवादी सोच पर नहीं करेंगे काम: संपत्ति के बँटवारे पर बोला सुप्रीम कोर्ट, कहा- निजी प्रॉपर्टी नहीं ले सकते

संपत्ति के बँटवारे केस सुनवाई करते हुए सीजेआई ने कहा है कि वो मार्क्सवादी विचार का पालन नहीं करेंगे, जो कहता है कि सब संपत्ति राज्य की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe