Saturday, July 31, 2021
Homeराजनीति'जन रसोई': गौतम गंभीर की पहल पर जरूरतमंदों को मिलेगा मात्र ₹1 में भरपेट...

‘जन रसोई’: गौतम गंभीर की पहल पर जरूरतमंदों को मिलेगा मात्र ₹1 में भरपेट भोजन, कल होगी शुरुआत

"मेरा हमेशा से मानना रहा है कि जाति, पंथ, धर्म और वित्तीय हालात से परे सभी को स्वस्थ और स्वच्छ भोजन करने का अधिकार है। यह देखकर अफसोस होता है कि बेघर और बेसहारा लोगों को दिन में दो वक्त की रोटी भी नसीब नहीं हो पाती।"

भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी और भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने एक नई पहल करते हुए ‘जन रसोई’ भोजनालय की शुरुआत करेंगे। ‘जन रसोई’ की खास बात यह है कि इसमें उनके संसदीय निर्वाचन क्षेत्र पूर्वी दिल्ली में जरूरतमंद लोगों को दोपहर का भरपेट भोजन महज एक रुपए में दिया जाएगा।

गंभीर ने अपने कार्यालय में कहा कि वह गुरुवार (24 दिसंबर, 2020) को गाँधी नगर में पहले भोजनालय की शुरुआत करेंगे, जिसके बाद गणतंत्र दिवस के मौके पर ऐसा ही एक भोजनालय अशोक नगर में भी खोला जाएगा।

भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने कहा, “मेरा हमेशा से मानना रहा है कि जाति, पंथ, धर्म और वित्तीय हालात से परे सभी को स्वस्थ और स्वच्छ भोजन करने का अधिकार है। यह देखकर अफसोस होता है कि बेघर और बेसहारा लोगों को दिन में दो वक्त की रोटी भी नसीब नहीं हो पाती।” गंभीर ने पूर्वी दिल्ली के दस विधानसभा क्षेत्रों में कम से कम एक ‘जन रसोई’ भोजनालय खोलने की योजना बनाई है।

सांसद के कार्यालय की ओर से बयान में कहा गया है, “देश के सबसे बड़े थोक कपड़ा बाजारों में शुमार गाँधी नगर में खोली जाने वाली ‘जन रसोई’ पूरी तरह आधुनिक होगी, जिसमें जररूतमंदों को एक रुपये में भोजन उपलब्ध कराया जाएगा।”

जानकारी के मुताबिक, ‘जन रसोई’ में एक समय में 100 लोगों के बैठने की व्यवस्था होगी, लेकिन कोविड-19 महामारी के चलते केवल 50 लोगों को ही बैठने की अनुमित दी जाएगी। दोपहर के भोजन में चावल, दालें और सब्जी दी जाएगी। वहीं इस परियोजना का वित्त पोषण गौतम गंभीर फाउंडेशन तथा सांसद के निजी संसाधनों से किया जाएगा और इस कार्य में सरकार की मदद नहीं ली जाएगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ये नंगे, इनके हाथ अपराध में सने, फिर भी शर्म इन्हें आती नहीं… क्योंकि ये है बॉलीवुड

राज कुंद्रा या गहना वशिष्ठ तो बस नाम हैं। यहाँ किसिम किसिम के अपराध हैं। हिंदूफोबिया है। खुद के गुनाहों पर अजीब चुप्पी है।

‘द प्रिंट’ ने डाला वामपंथी सरकार की नाकामी पर पर्दा: यूपी-बिहार की तुलना में केरल-महाराष्ट्र को साबित किया कोविड प्रबंधन का ‘सुपर हीरो’

जॉन का दावा है कि केरल और महाराष्ट्र पर इसलिए सवाल उठाए जाते हैं, क्योंकि वे कोविड-19 मामलों का बेहतर तरीके से पता लगा रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,277FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe