Wednesday, May 18, 2022
Homeदेश-समाजझोले में रखकर बम ले जा रहा था मोहम्मद अफरोज, सरिया से टकरा फटा?...

झोले में रखकर बम ले जा रहा था मोहम्मद अफरोज, सरिया से टकरा फटा? अब बिहार के अररिया में ब्लास्ट

गाँव में आम के बगीचे के पास जोरदार धमाका हुआ। ग्रामीणों ने सूचना पुलिस को दी। मौके पर मोहम्मद अफरोज घायल पड़ा था।

बांका के मदरसे के बाद अब बिहार के अररिया जिले के एक गाँव में जबरदस्त विस्फोट की खबर सामने आई है। घटना में मोहम्मद अफरोज नाम का एक व्यक्ति घायल हुआ है। पुलिस को घटनास्थल से दो जिंदा बम भी मिले हैं। पुलिस ने बताया है कि घटना की हर एंगल से जाँच की जा रही है।

घटना अररिया जिले के बैरगाछी थाना क्षेत्र के अंतर्गत भुवनेश्वरी रामपुर गाँव की है। मीडिया खबरों के मुताबिक गुरुवार (10 जून) की शाम को रामपुर गाँव में आम के बगीचे के पास एक जोरदार धमाका हुआ। गाँव के लोगों ने इस धमाके की सूचना पुलिस को दी जिसके बाद बैरगाछी थाना प्रभारी हरेन्द्र कुमार मौके पर पहुँचे। मौके पर मोहम्मद अफरोज घायल पड़ा था।

पुलिस ने अफरोज को अवस्था में अस्पताल पहुँचाया और मामले की छानबीन शुरू की। पुलिस अफरोज के परिजनों और ग्रामीणों से पूछताछ कर रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बैरगाछी थाना प्रभारी हरेन्द्र कुमार ने आशंका व्यक्त की है कि संभवतः अफरोज झोले में बम लेकर कहीं जा रहा था, लेकिन रास्ते में निर्माणाधीन मकान की सरिया से टकरा कर बम वहीं फट गया।

इससे पहले बांका जिले के नवटोलिया क्षेत्र में बने मदरसे में विस्फोट की खबर आई थी। वहाँ नूरी मस्जिद इस्लामपुर परिसर के आगे एक मदरसे में 7 जून को विस्फोट से आसपास का इलाका थर्रा उठा था। मदरसा पूरी तरह से ध्वस्त हो गया था और मौलाना की मौत हो गई थी।

घटना के संबंध में मीडिया रिपोर्टों में डीएम और एसपी के हवाले से बताया गया था कि यह मदरसा अवैध था। धमाका कंटेनर में रखे एक देसी बम के फटने से हुआ था। डीएम ने बताया था कि मदरसे का रजिस्ट्रेशन नहीं था। यह 18-20 वर्षो से रैयती जमीन पर चल रहा था और यहाँ 50-60 बच्चों को तालीम दी जा रही थी।

इससे पहले भी साल 2020 में बिहार के दरभंगा जिले के आजमनगर मोहल्ले में मोहम्मद नजीर नदाफ के घर पर बम विस्फोट हुआ था। घटना तब हुई जब नजीर अपने घर पर ही बम बना रहा था। घटना में नजीर के ही तीन बच्चे गंभीर रूप से घायल हो गए थे, लेकिन नजीर और उसकी पत्नी अफशाना खातून उन्हें छोड़कर फरार हो गए थे। हालाँकि पुलिस ने बाद में दोनों को पकड़ लिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मंदिर तोड़ा, खजाना लूटा पर हिला नहीं सके शिवलिंग: औरंगजेब के दरबारी लेखक ने भी कबूला था, शिव महापुराण में छिपा है इसका राज़

मंदिर के तोड़े जाने का एक महत्वपूर्ण प्रमाण 'मा-असीर-ए-आलमगीरी’ नाम की पुस्तक भी है। यह पुस्तक औरंगज़ेब के दरबारी लेखक सकी मुस्तईद ख़ान ने 1710 में लिखी थी।

हनुमान चालीसा के टुकड़े-टुकड़े किए, फिर जला कर फेंक दिया: पंजाब में बेअदबी की घटना, AAP सरकार निशाने पर

पंजाब में हनुमान चालीसा की बेअदबी का मामला। बठिंडा जिले हनुमान चालीसा के जले हुए पन्ने मिलने के बाद से हिन्दू संगठनों में काफी आक्रोश है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,629FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe