Friday, April 19, 2024
Homeदेश-समाज'ब्राह्मणों को मार दिया जाना चाहिए, हिंदी एक आम भाषा है, इसे रिक्शा चलाने...

‘ब्राह्मणों को मार दिया जाना चाहिए, हिंदी एक आम भाषा है, इसे रिक्शा चलाने वाले लोग बोलते हैं’

"मैं ब्राह्मण हूँ, लेकिन मैंने अपनी फिल्म में लगून (जनेऊ) तोड़ दिया। मैंने बहुत पहले ही इसे उतार दिया था और अभी भी इसे नहीं पहनता। इन ब्राह्मणों को मार दिया जाना चाहिए।"

अपने विवादित बयान को लेकर चर्चा में रहने वाले असमिया गायक जुबीन गर्ग एक बार फिर विवादों में तब घिर गए, जब उन्होंने ब्राह्मण समाज को लेकर विवादित बयान दिया। उन्होंने शुक्रवार (जुलाई 26, 2019) को गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि ब्राह्मणों को मार देना चाहिए। अपनी अपकमिंग मूवी कंचनजंघा का प्रमोशन करते हुए उन्होंने कहा, “मैं ब्राह्मण हूँ, लेकिन मैंने अपनी फिल्म में लगून (जनेऊ) तोड़ दिया। मैंने बहुत पहले ही इसे उतार दिया था और अभी भी इसे नहीं पहनता। इन ब्राह्मणों को मार दिया जाना चाहिए।”

गर्ग के विवादित बयान के बाद ब्राह्मण समुदाय के कई लोगों ने उनके खिलाफ केस दर्ज कराया। गुवाहाटी के भांगागढ़ पुलिस स्टेशन के प्रभारी अधिकारी खरगेश्वर राभा ने कहा कि विभिन्न समूहों और जातियों के बीच नफरत फैलाने के लिए आईपीसी की कई धाराओं के तहत रविवार (जुलाई 28, 2019) को गर्ग के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। इसके अलावा गर्ग के खिलाफ एक और मामला गुवाहाटी के बाहरी इलाके बैहाटा चाराली में भी दर्ज किया गया है। इस मामले को भी भांगागढ़ पुलिस थाने में भेज दिया गया है, क्योंकि यह इलाका भी इसी थाने के अधिकार क्षेत्र में आता है।

इस कार्यक्रम के दौरान गर्ग ने हिंदी भाषा को लेकर भी विवादित बयान दिया। उन्होंने कहा कि यह एक आम भाषा है और इसे रिक्शा चलाने वाले लोग बोलते हैं। उनका यह बयान लोकल टीवी चैनल पर प्रसारित किया गया, जिसे देखकर सोशल मीडिया पर लोगों ने उनके खिलाफ आक्रोश जाहिर किया। अखिल असम ब्राह्मण समाज के उपाध्यक्ष सिबा सरमा का कहना है कि गर्ग भले ही अच्छे और प्रख्यात सिंगर हों, मगर ब्राह्मण समाज को लेकर दिया गया उनका बयान असंवैधानिक है।

शनिवार को बिश्वनाथ, उदलगुरी, दरांग, मोरीगांव समेत ब्राह्मण समाज की कई यूनिटों ने गायक गर्ग के खिलाफ बैठक की और जल्द ही सभी यूनिट गर्ग के खिलाफ शिकायत दर्ज कराएगी। साथ ही अखिल असम देवालय संघ के सचिव के सचिव मनोज शर्मा ने भी जुबीन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने की बात कही।

वहीं, अपने बयान को लेकर जुबीन का कहना है कि उनके बयान का गलत मतलब निकाला गया है, वह कुछ और कहना चाहते थे लेकिन लोगों ने इसका गलत मतलब निकाल लिया। गर्ग ने कहा कि वह अभी अपने बयान पर कुछ नहीं कहना चाहते हैं, बाद में वह अपने बयान पर सफाई देंगे।

गौरतलब है कि गायक गर्ग ने पिछले साल भी ब्राह्मण समुदाय को लेकर विवादित बयान दिया था। तब उन्होंने कामाख्या मंदिर में दी जाने वाली बलि और जनेऊ के खिलाफ बोलकर समुदाय को आक्रोशित कर दिया था। साथ ही जुबीन ने इसी साल जनवरी में सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न को लेकर आपत्तिजनक बयान दिया था। इतना ही नहीं, उन्होंने तो मीडिया के माध्यम से भारतीय एथलीट हिमा दास को सफलता के लिए बीफ खाने तक की सलाह दे डाली थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कॉन्ग्रेस-CPI(M) पर वोट बर्बाद मत करना… INDI गठबंधन मैंने बनाया था’: बंगाल में बोलीं CM ममता, अपने ही साथियों पर भड़कीं

ममता बनर्जी ने जनता से कहा- "अगर आप लोग भारतीय जनता पार्टी को हराना चाहते हो तो किसी कीमत पर कॉन्ग्रेस-सीपीआई (एम) को वोट मत देना।"

1200 निर्दोषों के नरसंहार पर चुप्पी, जवाबी कार्रवाई को ‘अपराध’ बताने वाला फोटोग्राफर TIME का दुलारा: हिन्दुओं की लाशों का ‘कारोबार’ करने वाले को...

मोताज़ अजैज़ा को 'Time' ने सम्मान दे दिया। 7 अक्टूबर को इजरायल में हमास ने जिन 1200 निर्दोषों को मारा था, उनकी तस्वीरें कब दिखाएँगे ये? फिलिस्तीनी जनता की पीड़ा के लिए हमास ही जिम्मेदार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe