Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजआज़म ख़ान के बनवाए अवैध उर्दू गेट पर चला प्रशासन का बुलडोजर, 3 घंटे...

आज़म ख़ान के बनवाए अवैध उर्दू गेट पर चला प्रशासन का बुलडोजर, 3 घंटे में ढाह दिया

सपा शासनकाल में बने इस गेट की ऊँचाई बहुत कम थी लेकिन तब आज़म के मंत्री होने के कारण कई शिकायतों के बाद भी इस पर कार्रवाई नहीं की गई।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री आज़म ख़ान द्वारा बनवाए गए उर्दू गेट को प्रशासन ने बुलडोजर चलवा कर ढाह दिया। यह उर्दू गेट मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी के स्वार रोड पर बनवाया गया था। आज़म ख़ान ने इसे अपने विधायक फंड से बनवाया था। सपा शासनकाल में बने इस गेट की ऊँचाई बहुत कम थी लेकिन तब आज़म के मंत्री होने के कारण कई शिकायतों के बाद भी इस पर कार्रवाई नहीं की गई। अब योगी आदित्यनाथ की सरकार आने के बाद जनता की शिकायतों का संज्ञान लिया गया। इस गेट की ऊँचाई इतनी कम थी कि यहाँ से बस और ट्रक भी नहीं निकल पाते थे। ऐसे में, हमेशा दुर्घटना का ख़तरा बना रहता था। कई दुर्घटनाएँ हुई भी थी।

इस गेट को गिराने के लिए प्रशासन ने पूरी मुस्तैदी से काम लिया। भारी पुलिस फोर्स की मौजूदगी में यह कार्रवाई की गई। ऐसा नहीं है कि शिकायत मिलने के बाद अचानक से इस गेट को गिरा दिया गया। शासन ने इसके लिए एसआईटी की जाँच बिठाई थी, जिसमे इसे अवैध पाया गया। शहरी क्षेत्र में होने के बावजूद इसके निर्माण के लिए रामपुर विकास प्राधिकरण से अनुमति तक नहीं ली गई थी। अपर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में गठित कमेटी ने पाया कि स्वार रोड पीडब्ल्यूडी की है लेकिन बिना उसकी अनुमति के इसे बनवाया गया था। इसे नियम के विरुद्ध माना गया।

आज बुधवार (मार्च 6, 2019) सुबह बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स और प्रशासनिक अधिकारी पहुँचे और 6 बुलडोजर का प्रयोग कर के गेट को 3 घंटे की मशक्कत के बाद ढाह दिया गया। सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। गेट के आसपास के आधा किलोमीटर तक के क्षेत्र में चप्पे-चप्पे पर पुलिस की तैनाती की गई थी। इस गेट का निर्माण कराने वाले अधिकारियों से भी वसूली की जाएगी। वहीं आज़म ख़ान ने कहा कि इस रस्ते से ओवरलोड ट्रक गुजरते थे, इसी कारण दुर्घटनाएँ होती थी। उन्होंने कहा कि हादसों को रोकने के लिए ही उन्होंने इस गेट का निर्माण करवाया था।

इस गेट को बनवाने में ₹40 लाख ख़र्च किए गए थे। आज़म खान उत्तर प्रदेश की सपा सरकार में मंत्री रह चुके हैं। वे उत्तर प्रदेश विधानसभा में विपक्ष के नेता का पद भी संभाल चुके हैं। अक्सर विवादों में रहने वाले आज़म ख़ान को सपा सरकार के दौरान प्रदेश की सबसे ताक़तवर शख्सियतों में गिना जाता था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,028FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe