Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजशाहीन बाग़ के कारण रोज खर्च होते थे 6 घंटे: कैंसर मरीज की मौत,...

शाहीन बाग़ के कारण रोज खर्च होते थे 6 घंटे: कैंसर मरीज की मौत, बेटे ने की थी अमित शाह से अपील

दिल्ली पुलिस को मजबूरन वहाँ जाकर तम्बुओं को हटाना पड़ा क्योंकि कोरोना से उपजे खतरों को नज़रअंदाज़ करते हुए वो वहीं पर जमे हुए थे। भले ही ये उपद्रव ख़त्म हो गया लेकिन जिनका घर उनके कारण सूना हो गया, क्या उसके लिए गिरोह विशेष माफ़ी माँगेगा? ये एक ऐसा 'गाँधीवादी' आंदोलन था, जहाँ गाँधी को ही फासिस्ट बताया गया।

शाहीन बाग़ वालों ने 100 से अधिक दिनों तक दिल्ली में सड़क जाम कर पिकनिक मनाया लेकिन इसके कारण आम जनता को क्या परेशानियाँ झेलनी पड़ीं, इसे बारे में न तो लिबरल गैंग ने बात की और न ही मीडिया ने इसे उठाया। बच्चों को रोज स्कूल जाने में तकलीफ हुई, रोज लोगों को ऑफिस आने-जाने में घंटों देरी हुई और कई लोगों को तो अस्पताल तक पहुँचने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा। एक व्यक्ति को हार्ट अटैक आने के बाद समय पर हॉस्पिटल नहीं पहुँचाया जा सका, जिससे उसकी मृत्यु हो गई और तीन बेटियों के सिर से पिता का साया छिन गया।

ऐसी ही एक कहानी है मिन्टी शर्मा की, जिनके पिता कैंसर से जूझ रहे थे। जब सबा नकवी जैसे लिबरपंथी रोज शाहीन बाग़ वालों की तस्वीरें शेयर कर के गर्व महसूस कर रहे थे, तब मिन्टी अपने पिता को दिल्ली से रोज नोएडा ले जाने में व्यस्त थे। उनके पिता को रोज यात्रा करनी पड़ती थी और शाहीन बाग़ के उपद्रवियों के कारण उनकी तबियत बिगड़ती जा रही थी क्योंकि वहाँ घंटों जाम लगता था। एक बीमार व्यक्ति को आने-जाने में प्रतिदिन 6 घंटे लग जाते थे। मिन्टी ने सोशल मीडिया पर भी अपना दर्द बयाँ किया था।

उन्होंने 16 जनवरी को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से अपील की थी कि वो इस ‘पागलपन’ पर लगाम लगाएँ और साथ ही अपने पिता के दुःख को साझा किया था। शाहीन बाग़ वालों का सीएए विरोधी प्रदर्शन अनवरत जारी रहा और मिन्टी के पिता की मृत्यु हो गई। उससे पहले वो काफ़ी दिनों तक हॉस्पिटल में भर्ती भी थे। क्या उनकी मृत्यु के लिए शाहीन बाग़ वालों को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाना चाहिए? शाहीन बाग़ वालों के कारण ऐसे न जाने कितने ही मरीजों को दिक्कतें आई होंगी लेकिन सोशल मीडिया पर न साझा किए जाने के कारण उनके बारे में पता नहीं चला।

अभी भी सेक्युलर गिरोह शाहीन बाग वालों का गुणगान करने में लगा हुआ है कि उन्होंने एक सफल ‘आंदोलन’ चलाया। दिल्ली पुलिस को मजबूरन वहाँ जाकर तम्बुओं को हटाना पड़ा क्योंकि कोरोना से उपजे खतरों को नज़रअंदाज़ करते हुए वो वहीं पर जमे हुए थे। भले ही ये उपद्रव ख़त्म हो गया लेकिन जिनका घर उनके कारण सूना हो गया, क्या उसके लिए गिरोह विशेष माफ़ी माँगेगा? ये एक ऐसा ‘गाँधीवादी’ आंदोलन था, जहाँ गाँधी को ही फासिस्ट बताया गया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

SRH और KKR के मैच को दहलाने की थी साजिश… आतंकियों ने 38 बार की थी भारत की यात्रा, श्रीलंका में खाई फिदायीन हमले...

चेन्नई से ये चारों आतंकी इंडिगो एयरलाइंस की फ्लाइट से आए थे। इन चारों के टिकट एक ही PNR पर थे। यात्रियों की लिस्ट चेक की गई तो...

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -