Monday, August 15, 2022
Homeदेश-समाज50 लाख रुपए घूस लेकर चीनी नागरिकों को वीजा दिलाने में मदद की: CBI...

50 लाख रुपए घूस लेकर चीनी नागरिकों को वीजा दिलाने में मदद की: CBI ने कॉन्ग्रेस नेता कार्ति चिदंबरम के चेन्नई स्थित आवास पर मारा छापा

बता दें कि इसके अलावा, कार्ति के खिलाफ INX मीडिया और एयरसेल-मैक्सिस घोटालों से संबंधित कुछ अन्य मामले भी लंबित हैं। हालाँकि, उस मामले में चिदंबरम को अग्रिम जमानत मिल गई गई थी। 

सीबीआई (CBI) ने शनिवार (9 जुलाई 2022) को कॉन्ग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम के चेन्नई स्थिति आवास पर छापा मारा है। सीबीआई यह छापेमारी साल चीनी नागरिकों को वीजा देने के बदले रिश्वत लेने के संबंध में की है।

सीबीआई का कहना है कि साल 2011 में 263 चीनी नागरिकों को वीजा जारी कराने के बदले कार्ति चिदंबरम ने रिश्वत ली थी, जिसकी जाँच एजेंसी कर रही है। जिस समय चीनी नागरिकों को वीजा जारी किया गया था, उस समय कार्ति चिदंबरम के पिता पी चिदंबरम केंद्रीय गृहमंत्री थे। इस मामले में वह CBI के समक्ष पेश भी हो चुके हैं।

सीबीआई ने FIR में कहा है कि यह मामला 263 चीनी नागरिकों को दोबारा वीजा जारी करने के लिए वेदांता समूह की कंपनी तलवंडी साबो पावर लिमिटेड (टीएसपीएल) के एक शीर्ष अधिकारी से जुड़ा है। इस अधिकारी ने कार्ति चिदंबरम और उनके करीबी एस भास्कर रमन को 50 लाख रुपए की रिश्वत दिए जाने के आरोपों से संबंधित है। वहीं, इससे संबंधित मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जाँच प्रवर्तन निदेशालय (ED) कर रहा है।

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने पिछले महीने के आखिरी सप्ताह में दिल्ली हाईकोर्ट को कार्ति के खिलाफ 12 जुलाई तक कोई भी दंडात्मक कार्रवाई नहीं करने का अश्वासन दिया था। इस मामले में जमानत की अग्रिम सुनवाई को लेकर कार्ति और ईडी के वकील के अनुरोध पर अदालत ने 12 जुलाई को तय किया है।

बता दें कि इसके अलावा, कार्ति के खिलाफ INX मीडिया और एयरसेल-मैक्सिस घोटालों से संबंधित कुछ अन्य मामले भी लंबित हैं। हालाँकि, उस मामले में चिदंबरम को अग्रिम जमानत मिल गई गई थी। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वो हिंदुस्तानी जो अभी भी नहीं हैं आजाद: PoJK के लोग देख रहे आशाभरी नजरों से भारत की ओर, हिंदू-सिखों का यहाँ हुआ था...

विभाजन की विभीषिका को भी भुलाया नहीं जा सकता। स्वतंत्रता-प्राप्ति का मूल्य समझकर और स्वतन्त्रता का मूल्य चुकाकर ही हम अपनी स्वतंत्रता को सुरक्षित और संरक्षित कर सकते हैं।

वे नहीं रहे… क्योंकि वे हिन्दू थे: अपनी नवजात बेटी को भी नहीं देख पाए गौ प्रेमी किशन भरवाड

27 वर्षीय हिंदू युवक किशन भरवाड़ को कट्टरपंथी मुस्लिमों ने 25 जनवरी 2022 को केवल हिंदू होने के कारण मार डाला था। वजह वही क्योंकि वे हिन्दू थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,977FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe