Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाजयूपी में एक्शन ट्विटर का सुरक्षा कवच हटने का आधिकारिक प्रमाण: IT और कानून...

यूपी में एक्शन ट्विटर का सुरक्षा कवच हटने का आधिकारिक प्रमाण: IT और कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने 9 ट्वीट में लताड़ा

“भारतीय कंपनियाँ चाहे फार्मा हों, आईटी हों या अन्य जो संयुक्त राज्य अमेरिका या अन्य विदेशी देशों में व्यापार करने जाती हैं, स्वेच्छा से स्थानीय कानूनों का पालन करती हैं। फिर ट्विटर जैसे प्लेटफॉर्म दुर्व्यवहार और दुरुपयोग के शिकार लोगों को आवाज देने के लिए बनाए गए भारतीय कानूनों का पालन करने में अनिच्छा क्यों दिखा रहे हैं?”

आज केंद्रीय कानून और आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने लगातार कई ट्वीट करके सोशल मीडिया दिग्गज ट्विटर पर न सिर्फ हमला किया बल्कि स्पष्ट शब्दों में भारतीय IT कानूनों का पालन करना होगा यह सन्देश भी दिया। इसके साथ ही उन तमाम अटकलों पर विराम लगा दिया कि माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म ट्विटर 26 मई से लागू दिशानिर्देशों का पालन नहीं करने के लिए कोई न कोई सुरक्षित रास्ता निकाल लेगा।

सोशल मीडिया कंपनियों के कामकाज में पारदर्शिता लाने के लिए भारत सरकार द्वारा जारी नए दिशानिर्देशों का पालन करने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और अन्य डिजिटल पोर्टल्स को तीन महीने का समय दिया गया था। बाद में तीन सप्ताह का विस्तार देने के बावजूद, ट्विटर नए आईटी नियमों के अनुसार वैधानिक अनुपालन और शिकायत निवारण अधिकारियों को नियुक्त करने में विफल रहा। नतीजतन, सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनी ट्विटर अपने मध्यस्तता प्लेटफॉर्म होने का स्टेटस खो चुकी है, अब वह यूजर्स द्वारा पोस्ट की गई सामग्री के लिए उत्तरदायी हो जाएगा।

केंद्रीय मंत्री ने ट्विटर की मनमानी पर लताड़ा

रविशंकर प्रसाद ने अपने नौ ट्वीट्स वाले एक लंबे थ्रेड में, ट्विटर के भारतीय IT कानून को समय से पालन न करने के निर्णय को एक जानबूझकर लिए गए निर्णय के रूप में चिह्नित किया।

ट्विटर पर सेफ हार्बर प्रोटेक्शन अर्थात उसे अभी तक जो एक मध्यस्थता प्लैटफॉर्म होने की वजह से छूट मिली हुई थी, के खोने पर उठने वाले प्रश्नों का जवाब देते हुए मंत्री ने कहा, “ऐसे कई सवाल उठ रहे हैं कि क्या ट्विटर सुरक्षित हार्बर प्रावधान का हकदार है। हालाँकि, अब इस मामले का साधारण तथ्य यह है कि ट्विटर 26 मई से लागू हुए मध्यवर्ती दिशानिर्देशों का पालन करने में विफल रहा है।

उन्होंने आगे कहा, “इसके अलावा, ट्विटर को इसका अनुपालन करने के लिए कई अवसर दिए गए थे, हालाँकि हर बार इसने जानबूझकर गैर-अनुपालन का रास्ता चुना है।”

इस बात की ओर इशारा करते हुए कि कैसे बिना निगरानी वाली फर्जी खबरें देश में खतरा पैदा कर सकती हैं, रविशंकर प्रसाद ने कहा, “भारत की संस्कृति अपने बड़े भूगोल की तरह बदलती है। कुछ परिदृश्यों में, सोशल मीडिया के प्रसार के साथ, यहाँ तक ​​कि एक छोटी सी चिंगारी भी आग का कारण बन सकती है, खासकर फेक न्यूज़ फ़ैलाने के खतरे को देखते हुए, यही मध्यस्थ दिशानिर्देश लाने के उद्देश्यों में से एक भी था।”

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने फ्री स्पीच का समर्थन करते हुए सरकार के साथ अपारदर्शी होने के लिए सोशल मीडिया कंपनी ट्विटर पर कटाक्ष भी किया।

प्रसाद ने ट्विटर को उनके चयनात्मक निर्णय के लिए जिसमें बिना कोई सबूत प्रस्तुत किए चुनिंदा ट्वीट पर “मैनीपुलेटिव मीडिया’ लेबलिंग को भी याद दिलाया।

नवीनतम गाजियाबाद लोनी में घटित अपराध के बारे में बात करते हुए, जहाँ फर्जी खबरों को बढ़ावा देने के लिए एक सचेत प्रयास किया गया था, प्रसाद ने कहा, “यूपी में जो हुआ वह फर्जी खबरों से लड़ने में ट्विटर की मनमानी का उदाहरण था। हालाँकि ट्विटर अपने फैक्ट चेकिंग मैकेनिज्म को लेकर अति उत्साही रहा है, लेकिन यूपी जैसे कई मामलों में कार्रवाई करने में इसकी विफलता हैरान करने वाली है और गलत सूचना से लड़ने में इसकी असंगति को इंगित करती है।”

कंपनी की मंशा पर सवाल उठाते हुए, प्रसाद ने सवाल किया, “भारतीय कंपनियाँ चाहे फार्मा हों, आईटी हों या अन्य जो संयुक्त राज्य अमेरिका या अन्य विदेशी देशों में व्यापार करने जाती हैं, स्वेच्छा से स्थानीय कानूनों का पालन करती हैं। फिर ट्विटर जैसे प्लेटफॉर्म दुर्व्यवहार और दुरुपयोग के शिकार लोगों को आवाज देने के लिए बनाए गए भारतीय कानूनों का पालन करने में अनिच्छा क्यों दिखा रहे हैं?”

अंत में, मंत्री ने चेतावनी दी कि कोई भी विदेशी संस्था भूमि के कानून अर्थात उस देश के कानून से बच नहीं सकती है।

योगी सरकार ने किया ट्विटर पर FIR

उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में एक अपराध के बारे में फेक न्यूज़ फैलाने वाले ट्वीट्स को हटाने में विफल रहने के लिए ट्विटर इंडिया के खिलाफ कार्रवाई शुरू की है। इसी सिलसिले में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज की गई है।

यह एक्शन इस बात का प्रमाण भी है कि मध्यस्थता प्लेटफार्म के रूप में ट्विटर को जो कानूनी छूट प्रदान की गई थी, वह अब आधिकारिक रूप से समाप्त हो गई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ममता बनर्जी महान महिला’ – CPI(M) के दिवंगत नेता की बेटी ने लिखा लेख, ‘शर्मिंदा’ पार्टी करेगी कार्रवाई

माकपा नेताओं ने कहा ​कि ममता बनर्जी पर अजंता बिस्वास का लेख छपने के बाद से वे लोग बेहद शर्मिंदा महसूस कर रहे हैं।

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe