Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजबुरे फँसे पश्चिम बंगाल के आईपीएस अधिकारी: केंद्र सरकार छीन सकती है मेडल

बुरे फँसे पश्चिम बंगाल के आईपीएस अधिकारी: केंद्र सरकार छीन सकती है मेडल

केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल सरकार से उन आईपीएस अधिकारियों के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही करने को कहा है जो सीबीआई की कार्रवाई के खिलाफ वर्दी में 4 फरवरी को धरने पर बैठे थे।

ममता बनर्जी के साथ धरने पर बैठने वाले आईपीएस अधिकारियों पर केंद्र सरकार की गाज गिर सकती है। मीडिया में आ रही खबरों के अनुसार पाँच वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी जिनमें पश्चिम बंगाल के पुलिस महानिदेशक भी शामिल हैं ममता बनर्जी के साथ धरने पर बैठने के कारण अपनी वर्दी पर सजे पदकों से हाथ धो सकते हैं।

ध्यान रहे कि भारतीय पुलिस सेवा (IPS) अखिल भारतीय सेवा है और अखिल भारतीय सेवा नियमावली (AIS Rules) के अनुसार इस सेवा के अधिकारी केंद्र सरकार के विरुद्ध धरना प्रदर्शन नहीं कर सकते।

जिन अधिकारियों पर गाज गिर सकती है उनके नाम इस प्रकार हैं:

वीरेंद्र (1985 बैच), पुलिस महानिदेशक पश्चिम बंगाल

विनीत कुमार गोयल (1994 बैच), ADG, निदेशक, सुरक्षा

अनुज शर्मा (1991 बैच) एडीजी L&O

ज्ञानवंत सिंह (1993 बैच) CP, बिधाननगर

सुप्रतिम सरकार (1997 बैच) CP

केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल सरकार से उन आईपीएस अधिकारियों के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही करने को कहा है जो सीबीआई की कार्रवाई के खिलाफ वर्दी में 4 फरवरी को धरने पर बैठे थे। मेडल छीनने के अतिरिक्त सरकार इन अधिकारियों को भविष्य में केंद्र में सेवा देने से बैन भी कर सकती है। यदि केंद्र सरकार अनुशासन तोड़ने वाले अधिकारियों के विरुद्ध एक्शन लेती है तो यह ममता बनर्जी और उनका साथ देने वाले आईपीएस अधिकारियों के लिए एक बड़ा सबक होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

हिंदू मंदिरों की संपत्तियों का दूसरे धर्म के कार्यों में नहीं होगा उपयोग, कर्नाटक में HRCE ने लगाई रोक

कर्नाटक के हिन्दू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स (HRCE) विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में यह कहा गया है कि हिन्दू मंदिर से प्राप्त किए गए फंड और संपत्तियों का उपयोग किसी भी तरह के गैर -हिन्दू कार्य अथवा गैर-हिन्दू संस्था के लिए नहीं किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe