Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजचाँदनी महल की 13 मस्जिदों से निकले 52 कोरोना+ जमाती: पूरा इलाक़ा सील, 3...

चाँदनी महल की 13 मस्जिदों से निकले 52 कोरोना+ जमाती: पूरा इलाक़ा सील, 3 की मौत

पूरे क्षेत्र को सैनिटाइज करने के लिए तैयारियाँ जोर-शोर से चल रही हैं। जो इन जमातियों के संपर्क में आए हैं, ऐसे लोगों की पहचान करने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। प्रशासन ने 'डोर टू डोर' जाकर सैम्पल लेने की कवायद शुरू की है।

दिल्ली के चाँदनी महल इलाक़े को सील कर दिया गया है। देशभर में लॉकडाउन के बाच कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है, ऐसे में कोरोना के कई हॉटस्पॉट भी सामने आ रहे हैं। बता दें कि पुरानी दिल्ली स्थित चाँदनी महल क्षेत्र के मस्जिदों से 102 जमातियों को निकाला गया था। इनमें से 52 कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इन जमातियों को इलाक़े के 13 मस्जिदों से निकाला गया था। ये सभी निजामुद्दीन स्थित मरकज़ के कार्यक्रमों में जाते रहते थे।

इनमें से कई के विदेशी होने की बात भी कही जा रही है। पिछले 3 दिनों में इस इलाक़े में 3 लोगों की कोरोना के कारण मौत हो चुकी है। अप्रैल 6, 2020 को 13 मस्जिदों से निकाले गए इन सभी जमातियों को गुलाबीबाग़ स्थित क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया था। अब 52 लोगों को कोरोना वायरस का संक्रमण होने के बाद जिला प्रशासन ने स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि पूरे इलाक़े को सील कर बाजार वगैरह बंद कराए जाएँ और लोगों के घरों तक ज़रूरी सामग्रियाँ पहुँचाने की व्यवस्था की जाए।

पूरे क्षेत्र को सैनिटाइज करने के लिए तैयारियाँ जोर-शोर से चल रही हैं। जो इन जमातियों के संपर्क में आए हैं, ऐसे लोगों की पहचान करने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। प्रशासन ने ‘डोर टू डोर’ जाकर सैम्पल लेने की कवायद शुरू की है। दिल्ली में अब तक 30 कन्टेनमेंट ज़ोन चिह्नित किए गए हैं। शुक्रवार (अप्रैल 10, 2020) को इनमें से 9 इलाक़ों को सील किया गया। इन क्षेत्रों में सख्ती बढ़ाई जाएगी और किसी को भी आने-जाने की अनुमति नहीं होगी। दिल्ली में कोरोना के मरीजों की संख्या 900 पार हो गई है। सीएम केजरीवाल भी इसके लिए तबलीगी जमात को जिम्मेदार बता रहे हैं।

फिलहाल चाँदनी महल में कर्फ्यू जैसे हालात हैं। चारों ओर सन्नाटा पसरा हुआ है और भारी पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है। बता दें कि जहाँ लॉकडाउन में आपको ये छूट रहती है कि आप दैनिक उपयोग की वस्तुएँ ख़रीदने के लिए तय समय पर दुकानों में जा सकते हैं, वहीं एरिया सील होने के बाद बाहर निकलने पर पूर्ण पाबन्दी रहती है और घरों तक चीजें मुहैया कराने की व्यवस्था की जाती है। कहा जा रहा है कि चाँदनी महल के इलाक़े में कई मस्जिदों में अभी भी जमाती छिपे हुए हैं, जो सामने नहीं आ रहे हैं और इलाज कराने से इनकार कर रहे हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe