Thursday, June 30, 2022
Homeदेश-समाजहैदराबाद के अफजलगंज इलाके में केमिकल ब्लास्ट: बेटे भरत के चीथड़े उड़ गए, पिता...

हैदराबाद के अफजलगंज इलाके में केमिकल ब्लास्ट: बेटे भरत के चीथड़े उड़ गए, पिता वेणुगोपाल की हालत गंभीर

घटना की जानकारी मिलते ही अफजलगंज पुलिस की एक टीम मौके पर पहुँची पुलिस। इसके साथ ही फॉरेंसिक विभाग की CLUES टीम भी वहाँ पहुँच गई।

तेलंगाना (Telangana) की राजधानी हैदराबाद से चौंकाने वाले घटना प्रकाश में आई है। यहाँ रविवार (12 जून, 2022) को एक केमिकल ब्लास्ट (chemical Blast) हुआ। इसमें एक युवक की मौत की मौत हो गई, जबकि उनके पिता घायल हुए हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, ये घटना अफजलगंज के महाराजगंज इलाके की है। यहीं की मोगरम बस्ती में रहते थे भरत भट्टर। भरत पेशे से केमिकल का काम करते थे। वो गिरिराज कंपनी में काम करते थे और अपनी दुकान के सामने के नाले में एक्सपायर हो चुके केमिकल को फेंक देते थे। रविवार की सुबह भी उन्होंने ऐसा ही कुछ किया।

पुलिस का कहना है कि भरत ने केमिकल को नाली में बहाया। लेकिन नाली के जाम होने के कारण वो उसमें फँस गया। इसके बाद उन्होंने लोहे की रॉड से केमिकल को बाहर निकालने की कोशिश की। ये जानने के लिए कि केमिकल निकला या नहीं, उन्होंने उसमें पानी डाल दिया। इसी दौरान अचानक से जोरदार धमाका हो गया।

बताया जाता है कि केमिकल रिएक्शन के कारण हुआ धमाका इतना तेज था कि भरत करीब दो मंजिल की ऊँचाई तक ऊपर उड़ गए। उनके शरीर के टुकड़े-टुकड़े हो गए। इस हादसे में भरत के पिता वेणुगोपाल भी गंभीर रूप से घायल हुए हैं।

घटना की जानकारी मिलते ही अफजलगंज पुलिस की एक टीम मौके पर पहुँची। इसके साथ ही फॉरेंसिक विभाग की CLUES टीम भी वहाँ पहुँच गई। केमिकल को इकट्ठा कर मामले की छानबीन शुरू कर दी गई है।

वहीं पुलिस ने मृतक भरत भट्टर के शव को उस्मानिया अस्पताल की मॉर्चरी में रखवा दिया है। केस दर्ज कर जाँच शुरू कर दी गई है। लेकिन केमिकल ब्लास्ट की घटना से इलाके में डर का माहौल बताया जा रहा है। बहरहाल घटना को लेकर अभी तक अधिक खुलासा नहीं हो सका है।

Note:
पहले इस खबर का शीर्षक था – “हैदराबाद की मस्जिद में केमिकल ब्लास्ट: बेटे भरत के चीथड़े उड़ गए, पिता वेणुगोपाल की हालत गंभीर” – यह खबर मीडिया रिपोर्टों के आधार पर लिखी गई थी। उन मीडिया रिपोर्ट को अब एडिट कर दिया गया है, उसी आधार पर इस खबर को भी एडिट किया गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,188FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe