Saturday, May 15, 2021
Home देश-समाज नहीं रहे पोस्टर फाड़ने वाले केआर रामास्वामी: जानिए कैसे मिला 'ट्रैफिक' उपनाम, जिंदगी पर...

नहीं रहे पोस्टर फाड़ने वाले केआर रामास्वामी: जानिए कैसे मिला ‘ट्रैफिक’ उपनाम, जिंदगी पर क्यों बनी फिल्म

अपने बेहतरीन कामों की वजह से ट्रैफिक रामास्वामी की कहानी सिल्वर स्क्रीन पर भी नजर आई। 2018 में उनकी बॉयोपिक 'ट्रैफिक रामास्वामी' बनी, जिसका निर्देशन विकी ने किया और उनका किरदार एस चंद्रेशखर ने निभाया था।

सामाजिक कार्यकर्ता और ट्रैफिक रामास्वामी के नाम से विख्यात केआर रामास्वामी का मंगलवार ( 4 मई 2021) को चेन्नई में निधन हो गया। वे 87 वर्ष के थे। कुछ दिनों पहले रामास्वामी को इलाज के लिए चेन्नई के राजीव गाँधी जनरल हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। उनकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई थी, लेकिन फेफड़ों में परेशानी का इलाज चल रहा था। डॉक्टरों के मुताबिक, रामास्वामी वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे और उन्हें दिल का दौरा पड़ने के बाद बचाया नहीं जा सका।

चेन्नई के इस प्रख्यात सामाजिक कार्यकर्ता को राज्य में बड़े पैमाने पर पोस्टर संस्कृति के खिलाफ अभियान चलाने के लिए जाना जाता था। ट्रैफिक रामास्वामी को सड़क चौड़ीकरण, अतिक्रमण और यातायात उल्लंघन के खिलाफ मद्रास हाई कोर्ट में जनहित याचिकाएँ दायर करने के लिए भी जाना जाता था।

आम आदमी से जुड़े मुद्दों पर 500 से अधिक पीआईएल

1990 के दशक में वे चेन्नई शहर के मुख्य मार्गों पर यातायात को सुचारू करने के लिए वे घंटों खड़े रहते थे। इससे केआर रामास्वामी को ‘ट्रैफिक’ उपनाम मिला। रामास्वामी ट्रैफिक को नियमित करने के बाद जल्द ही सड़क पर अतिक्रमण और ट्रैफिक से जुड़े मुद्दों में सुधार की अपनी लड़ाई को अदालत में ले गए। सैकड़ों जनहित याचिकाएँ दायर कीं जिससे वे घर-घर में पहचाना जाने वाला नाम बन गए।

केआर रामास्वामी ने अपने जीवनकाल में 500 से अधिक जनहित याचिका (पीआईएल) दायर की। उन्हें तमिलनाडु में कई परिवर्तनों के लिए जिम्मेदार माना जाता है। 1998 में अपनी पहली जनहित याचिका उन्होंने मद्रास हाई कोर्ट में एनएससी बोस रोड पर एक फ्लाईओवर के निर्माण के राज्य सरकार के फैसले को चुनौती देते हुए दायर की थी। 2002 में उन्होंने मोटराइज्ड थ्री व्हीलर मेक-शिफ्ट ऑटो-रिक्शा के खिलाफ एक जनहित याचिका दायर की, जिसका इस्तेमाल मछली बेचने के लिए किया जाता था।

1 अप्रैल, 1934 को एक किसान परिवार में जन्मे रामास्वामी ने अपने जीवन के पहले 18 साल अपने परिवार की मदद करते हुए बिताए। 18 साल की उम्र में उन्होंने मद्रास के तत्कालीन मुख्यमंत्री सी राजगोपालाचारी के सहायक के रूप में काम करना शुरू कर किया। राजगोपालाचारी को रामास्वामी अपना रोल मॉडल मानते थे।

एक बार रामास्वामी ने कहा था, “राजाजी ने मुझे हमेशा गलत के खिलाफ सवाल करना सिखाया। उन्होंने यह भी कहा कि मुझे हमेशा उन लोगों की बात सुननी चाहिए जो मेरी आलोचना करते हैं। हम उनके जरिए अपनी गलतियाँ खोज सकते हैं। तब से मैंने उनकी वही सलाह मानी थी।”

जयललिता के खिलाफ चुनाव भी लड़े

रामास्वामी एक निडर कार्यकर्ता थे। उन्हें चेन्नई की सड़कों पर उन्हें अक्सर राजनेताओं, व्यापारियों और आम लोगों द्वारा लगाए गए बड़े-बड़े फ्लेक्स बोर्डों और होर्डिंग्स को फाड़ते हुए देखा जा सकता था। वह एक बार उपचुनावों में जयललिता के खिलाफ भी लड़े। रामास्वामी ने तब कहा था कि उनकी लड़ाई पूर्व मुख्यमंत्री के खिलाफ नहीं है, बल्कि तमिलनाडु में भ्रष्टाचार के खिलाफ है। हालाँकि वे महज 4590 वोट हासिल कर चुनाव हार गए थे।

अपने बेहतरीन कामों की वजह से ट्रैफिक रामास्वामी की कहानी सिल्वर स्क्रीन पर भी नजर आई। 2018 में उनकी बॉयोपिक ‘ट्रैफिक रामास्वामी’ बनी, जिसका निर्देशन विकी ने किया और उनका किरदार एस चंद्रेशखर ने निभाया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ईद के अगले दिन बंगाल में कंप्लिट लॉकडाउन का आदेश: 20000+ मामले, 30 मई तक लागू रहेंगे प्रतिबंध

पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। संक्रमण के चलते ममता बनर्जी के छोटे भाई का निधन हो गया। लॉकडाउन...

लॉकडाउन पर Confuse राहुल गाँधी: पहले जिनके लिए दी PM मोदी को ‘गाली’ अब उन्हीं पर बजा रहे ‘ताली’

ऐसा क्या है जिसने कॉन्ग्रेस को राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की वकालत करने के लिए मजबूर कर दिया है? किस कारण कॉन्ग्रेस और उसके युवराज राहुल गाँधी लगातार मोदी सरकार पर राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लगाने का दबाव बना रहे हैं?

जहाँ अभी अल-अक्शा मस्जिद, वहाँ पहले था यहूदियों का मंदिर: जानिए कहाँ से शुरू हुआ येरुशलम विवाद

येरुशलम में जहाँ अल अक्सा मस्जिद है उसी स्थान पर टेंपल माउंट पर ही यहूदियों का सेकेंड टेंपल हुआ करता था। सेकंड टेम्पल को यहूदी विद्रोह की सजा के रूप में 70 ईस्वी में रोमन साम्राज्य ने नष्ट कर दिया था।

इजरायल के विरोध में पूर्व पोर्न स्टार मिया खलीफा: ट्वीट कर बुरी तरह फँसीं, ‘किसान’ प्रदर्शन वाला ‘टूलकिट’ मामला

इजरायल और फिलिस्तीनी आंतकियों के बीच संघर्ष लगातार बढ़ता ही जा रहा है। पूर्व पोर्न-स्टार मिया खलीफा ने गलती से इजरायल के विरोध में...

पुणे में बनेगी कोरोना वैक्सीन, इसलिए 50% सिर्फ महाराष्ट्र को मिले: महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजीत पवार

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने कहा कि राज्य सरकार हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक के पुणे में लगने वाले वैक्सीन निर्माण संयंत्र से...

‘लगातार बम बरसाए, एकदम निर्ममता से… हमारा (हमास) एक भी लड़ाका नहीं था’: 10000+ फिलिस्तीनी घर छोड़ कर भागे

इजराइल और फिलिस्तीनी आंतकियों के बीच खूनी संघर्ष और तेज हो गया है। हमास को इजराइल की जवाबी कार्रवाई में कम से कम...

प्रचलित ख़बरें

दिल्ली में ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले पड़ोसी ने रखी सेक्स की डिमांड, केरल पुलिस से सेक्स के लिए ई-पास की डिमांड

दिल्ली में पड़ोसी ने ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले एक लड़की से साथ सोने को कहा। केरल में सेक्स के लिए ई-पास की माँग की।

हिरोइन है, फलस्तीन के समर्थन में नारे लगा रही थीं… इजरायली पुलिस ने टाँग में मारी गोली

इजरायल और फलस्तीन के बीच चल रहे संघर्ष में एक हिरोइन जख्मी हो गईं। उनका नाम है मैसा अब्द इलाहदी।

1971 में भारतीय नौसेना, 2021 में इजरायली सेना: ट्रिक वही-नतीजे भी वैसे, हमास ने ‘Metro’ में खुद भेज दिए शिकार

इजरायल ने एक ऐसी रणनीतिक युद्धकला का प्रदर्शन किया है, जिसने 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध की ताजा कर दी है।

इजरायली रॉकेट से मरीं केरल की सौम्या… NDTV फिर खेला शब्दों से, Video में कुछ और, शीर्षक में जिहादियों का बचाव

केरल की सौम्या इजरायल में थीं, जब उनकी मौत हुई। वह अपने पति से बात कर रही थीं, तभी फिलिस्तीनी रॉकेट उनके पास आकर गिरा। लेकिन NDTV ने...

गाजा पर गिराए 1000 बम, 160 विमानों ने 150 टारगेट पर दागे 450 मिसाइल: बोले नेतन्याहू- हमास को बहुत भारी कीमत चुकानी पड़ेगी

फलस्तीन के साथ हवाई संघर्ष के बीच इजरायल जमीनी लड़ाई की भी तैयारी कर रहा है। हथियारबंद टुकड़ियों के साथ 9000 रिजर्व सैनिकों की तैनाती।

इजरायल के विरोध में पूर्व पोर्न स्टार मिया खलीफा: ट्वीट कर बुरी तरह फँसीं, ‘किसान’ प्रदर्शन वाला ‘टूलकिट’ मामला

इजरायल और फिलिस्तीनी आंतकियों के बीच संघर्ष लगातार बढ़ता ही जा रहा है। पूर्व पोर्न-स्टार मिया खलीफा ने गलती से इजरायल के विरोध में...
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,351FansLike
94,220FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe