Wednesday, December 7, 2022
Homeदेश-समाजछठ पर्व पर 10 नवंबर को यूपी में रहेगा अवकाश: योगी सरकार ने जारी...

छठ पर्व पर 10 नवंबर को यूपी में रहेगा अवकाश: योगी सरकार ने जारी किया आदेश

डीजीपी मुकुल गोयल ने छठ पर्व से संबंधित आयोजन स्थलों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि आयोजन स्थलों पर सादे कपड़ों में महिला पुलिस कर्मियों की भी ड्यूटी लगाई जाए और कोविड प्रोटोकॉल का पालन किया जाए।

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने छठ पर्व पर अवकाश घोषित किया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने आदेश जारी किया है कि जिन जिलों में छठ का पर्व बड़े स्तर पर मनाया जाता है, वहाँ के जिलाधिकारी 10 नवंबर को स्थानीय स्तर पर अवकाश घोषित कर सकते हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार (8 नवंबर) को अपने सरकारी आवास पर वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए छठ पूजा व कार्तिक मास में होने वाले त्योहारों के प्रबंधन के बारे में जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ बैठक की।

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जारी किया गया आदेश

उन्होंने कहा कि 10 नवंबर को छठ का पर्व है। छठ के अवसर पर पूर्वी उत्तर प्रदेश सहित गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर, लखनऊ आदि महानगरों में नदियों, सरोवरों आदि पर भीड़भाड़ की संभावना रहती है। ऐसे में नदियों, तालाबों आदि के तटों पर साफ-सफाई तथा सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था की जाए।

बता दें कि राज्य के डीजीपी मुकुल गोयल ने छठ पर्व से संबंधित आयोजन स्थलों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि आयोजन स्थलों पर सादे कपड़ों में महिला पुलिस कर्मियों की भी ड्यूटी लगाई जाए और कोविड प्रोटोकॉल का पालन किया जाए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आमदनी से 3 गुना ज़्यादा है MCD का खर्च, कैसे चलेगी AAP की रेवड़ी वाली राजनीति? केंद्र सरकार से भी मिलता है पैसा, टैक्स...

एमसीडी आम आदमी पार्टी के लिए काँटो भरा ताज है। इसके आय और व्यय के बीच का जो अंतर है, उसे पाटना आम आदमी पार्टी के लिए आसान नहीं होगा।

काशी तमिल संगमम: जीवंत परंपराओं को आत्मसात करने की विशेषता ही भारतीय सांस्कृतिक संपूर्णता का आधार

प्रथम तमिल संगम मदुरै में हुआ था जो पाण्ड्य राजाओं की राजधानी थी और उस समय अगस्त्य, शिव, मुरुगवेल आदि विद्वानों ने इसमें हिस्सा लिया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
237,221FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe