Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजकचरे की गाड़ी में रख कर श्मशान पहुँचाए जा रहे कोरोना संक्रमितों के शव:...

कचरे की गाड़ी में रख कर श्मशान पहुँचाए जा रहे कोरोना संक्रमितों के शव: छत्तीसगढ़ से Video वायरल

संक्रमित मरीजों का शव कूड़े वाली गाड़ी में रख कर दाह संस्कार के लिए श्मशान लाया जाता है। पूछने पर मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी जिम्मेदारी नगर पंचायत पर थोप देते हैं। छत्तीसगढ़ की कॉन्ग्रेसी सरकार में...

कोरोना संक्रमण के बढ़ते कहर ने व्यापक स्तर पर अमानवीयता को जन्म दे दिया है। यही वजह है कि पहले महाराष्ट्र जैसे राज्य में संक्रमितों के शव को कूड़े के बैग में लपेटे देखा गया और अब ऐसी ही दिल दहलाने वाली तस्वीर छत्तीसगढ़ से आई है। ताजा तस्वीरों में देखा जा सकता है संक्रमित मरीजों का शव कूड़े वाली गाड़ी में रख कर दाह संस्कार के लिए श्मशान लाया गया है।

जानकारी के मुताबिक, पूरी घटना राजनंदगाँव की है। वीडियो में देख सकते हैं कि चार कर्मचारी पीपीई किट पहने हुए हैं और कोरोना से संक्रमित मरीज के शव को कूड़े की गाड़ी में से निकाल कर श्मशान घाट पर उतार रहे हैं।

घटना की वीडियो वायरल होने के बाद जब इस पूरे मामले पर मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि शव वाहन की व्यवस्था करने की जिम्मेदारी नगर पंचायत और मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) की होती है।

वहीं राजनंदगाँव प्रेस क्लब के निदेशक अजय सोनी ने कहा कि कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों और बेड की कमी से निपटने के लिए, राजनंदगाँव प्रेस क्लब को कोविड केंद्र में तब्दील किया गया है। यहाँ असिम्प्टोमेटिक मरीजों का मुफ्त इलाज चल रहा है। मरीजों के लिए 30 बेड की व्यवस्था की गई है। उनकी देखभाल के लिए प्रेस क्लब में स्वास्थ्यकर्मी भी हर समय उपस्थित रहेंगे।

बता दें कि कोरोना कहर की तेज रफ्तार के बीच छत्तीसगढ़ भी उन राज्यों में से एक है, जहाँ संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ रही है। ताजा आँकड़ों के मुताबिक इस समय वहाँ 1 लाख से ज्यादा एक्टिव केस हैं। बुधवार को भी राज्य में 14 हजार केस दर्ज किए गए, जबकि 120 लोगों ने अपनी जान गँवाई। इसके साथ राज्य में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 4 लाख 86 हजार पार कर गई है। मरने वाले भी 5000 से ज्यादा हैं। 

राज्य में प्रशासन की लापरवाही और स्वास्थ्य सुविधाओं की हकीकत उजागर करते हुए पिछले दिनों एक और वीडियो रायपुर के अस्पताल से वायरल हुई थी। वीडियो में देखा गया था कि राज्य की राजधानी में स्थित मुख्य सरकारी अस्पताल में कोरोना मरीजों की लाशें भरी पड़ी हैं।

इसके अलावा आईसीयू और ऑक्सीजन उपकण बेड भी फुल हैं। नए कोरोना मरीजों के लिए अस्पताल में बिल्कुल भी जगह नहीं बची है। पिछले सप्ताह अस्पताल की एक वीडियो वायरल हुई थी, जिसमें साफ तौर पर लाशों को इधर-उधर बिखरे हुए दिखाया गया था। रायपुर सरकारी अस्पताल की स्थिति इस वक्त बेहद खराब हो चुकी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe