Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजचिन्मयानन्द रेप मामला: पीड़िता के वकील ने कहा- हमें नहीं मिला कोई नोटिस, गिरफ़्तारी...

चिन्मयानन्द रेप मामला: पीड़िता के वकील ने कहा- हमें नहीं मिला कोई नोटिस, गिरफ़्तारी की बात गलत

पीड़िता के वकील ने कहा कि उन्हें अभी तक कोई नोटिस नहीं प्राप्त हुआ है और न ही उनके खिलाफ किसी भी तरह की कार्रवाई की गई है। पीड़िता के गिरफ़्तारी की खबर गलत है।

पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानन्द वाले मामले में कुछ मीडिया रिपोर्टों में कहा जा रहा था कि पीड़िता को भी मामले की जाँच कर रही एसआईटी ने हिरासत में ले लिया है। क्योंकि उस पर चिन्मयानन्द को ब्लैकमेल कर ₹5 करोड़ माँगने का आरोप है। लेकिन अब खबर है कि छात्रा को हिरासत में नहीं लिया गया है। पीड़िता के वकील ने कहा कि उन्हें अभी तक कोई नोटिस नहीं प्राप्त हुआ है और न ही उनके खिलाफ किसी भी तरह की कार्रवाई की गई है। पीड़िता के गिरफ़्तारी की खबर गलत है। बता दें की कल सोमवार (सितम्बर 23, 2019) को इलाहबाद हाईकोर्ट ने पीड़िता के वकील ने अग्रिम जमानत याचिका दाखिल की थी। जिस पर 26 सितम्बर को सुनवाई होनी है।

हाईकोर्ट ने एसआईटी की जाँच प्रक्रिया पर भी संतुष्टि जताई है। एसआईटी के बारे में कोर्ट ने कहा था कि जाँच प्रक्रिया सही दिशा में जा रही है और सही तरीके से जाँच की जा रही है। बता दें कि पीड़िता और उसके दोस्तों का वीडियो सोशल मीडिया पर भी चल रहा है। अब कोर्ट इस बारे में निर्णय लेगा कि पीड़िता को ज्यूडिशियल कस्टडी में भेजना है या नहीं। हालाँकि, पीड़िता के गिरफ़्तार होने से स्वामी चिन्मयानन्द के ख़िलाफ़ चल रहे बलात्कार व यौन शोषण के मामलों पर कोई फ़र्क़ नहीं पड़ेगा। फ़िलहाल इस पर सुनवाई 26 सितम्बर को तय हुई है।

गौरतलब है कि मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, एसआईटी के आईजी नवीन अरोड़ा ने कोर्ट के सामने ब्लैकमेलिंग बात करते हुए आरोपित छात्रा और उसके दोस्त संजय की कॉल डिटेल पेश करते हुए बताया था कि दोनों के बीच 4200 बार बातचीत हुई थी। फिलहाल चिन्मयानंद 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में हैं।

शाहजहाँपुर स्थित स्वामी सुखदेवानंद विधि महाविद्यालय में एलएलएम की एक छात्रा ने 24 अगस्त को एक वीडियो वायरल करके पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर बलात्कार के गंभीर आरोप लगाए थे। बाद में मीडिया के सामने छात्रा ने चिन्‍मयानंद पर बलात्‍कार का आरोप लगाया था। चिन्‍मयानंद को इस मामले में हाल ही में गिरफ्तार किया गया था। उच्‍चतम न्‍यायालय के आदेश पर गठित एसआईटी इस प्रकरण की जाँच कर रही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

SRH और KKR के मैच को दहलाने की थी साजिश… आतंकियों ने 38 बार की थी भारत की यात्रा, श्रीलंका में खाई फिदायीन हमले...

चेन्नई से ये चारों आतंकी इंडिगो एयरलाइंस की फ्लाइट से आए थे। इन चारों के टिकट एक ही PNR पर थे। यात्रियों की लिस्ट चेक की गई तो...

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -