Thursday, May 23, 2024
Homeदेश-समाजनैनीताल में कॉन्ग्रेस नेता सलमान खुर्शीद के घर आगजनी-पथराव, किताब पर रोक के लिए...

नैनीताल में कॉन्ग्रेस नेता सलमान खुर्शीद के घर आगजनी-पथराव, किताब पर रोक के लिए हाईकोर्ट में याचिका

एडवोकेट विनीत जिंदल ने हिंदुत्व की तुलना इस्लामिक जिहादी संगठन आईएस और बोको हराम से करने पर कॉन्ग्रेस नेता सलमान खुर्शीद की किताब पर प्रतिबंध लगाने के लिए दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

कॉन्ग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद के नैनीताल स्थित घर में तोड़फोड़, पथराव और आगज़नी की खबर है। सलमान खुर्शीद ने फेसबुक पर अपने घर की तस्वीरें साझा करते हुए यह जानकारी दी। जानकारी के मुताबिक, सलमान खुर्शीद के किताब में हिंदुत्व के बारे में की गई टिप्पणी से नाराज लोगों ने सोमवार (15 नवंबर 2021) को उनके घर में तोड़फोड़ की और आग लगा दी। घटना की सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुँचकर जाँच में जुट गई है। 

कुछ मीडिया रिपोर्ट में बताया जा रहा है कि उपद्रवियों के हाथ में बीजेपी का झंडा था और वे साम्प्रदायिक नारे लगा रहे थे। सलमान खुर्शीद ने जो तस्वीरें फेसबुक पर साझा की हैं, उनमें टूटे काँच दिख रहे हैं, साथ ही एक जगह कुछ जलता दिखाई दे रहा है। लॉन में कुछ लोगों ने आग लगा रखी है। डीजीआई (कुमाऊं) नीलेश आनंद ने मामले को लेकर बताया, “राकेश कपिल और 20 अन्य पर मामला दर्ज किया गया है। अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।”

उल्लेखनीय है कि सलमान खुर्शीद द्वारा लिखित पुस्तक ‘सनराइज ओवर अयोध्या’: नेशनहुड इन आवर टाइम्स’ को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। एक वकील ने इस किताब के प्रसार, बिक्री, खरीद और प्रकाशन को रोकने के लिए दिल्ली उच्च न्यायालय में याचिका दायर की है।

एडवोकेट विनीत जिंदल ने हिंदुत्व की तुलना इस्लामिक जिहादी संगठन आईएस और बोको हराम से करने पर कॉन्ग्रेस नेता सलमान खुर्शीद की किताब पर प्रतिबंध लगाने के लिए दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। यह टिप्पणी किताब के पेज 113 पर ‘द केसर स्काई’ नामक एक अध्याय में की गई है। इसमें कहा गया है कि आईएसआईएस और बोको हराम के लिए हिंदू धर्म की समानता को एक नकारात्मक विचारधारा के रूप में माना जाता है, जिसका हिंदू पालन कर रहे हैं और हिंदू धर्म हिंसक, अमानवीय और दमनकारी है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोहिणी आचार्य के पहुँचने के बाद शुरू हुई हिंसा, पूर्व CM का बॉडीगार्ड लेकर घूम रही थीं: बिहार पुलिस ने दर्ज की 7 FIR,...

राबड़ी आवास पर उपस्थित बॉडीगार्ड और पुलिसकर्मियों से पूरे मामले में पूछताछ की इस दौरान विशेष अधिकारी मौजूद रहे।

मी लॉर्ड! भीड़ का चेहरा भी होता है, मजहब भी होता है… यदि यह सच नहीं तो ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारों के साथ ‘काफिरों’ पर...

राजस्थान हाईकोर्ट के जज फरजंद अली 18 मुस्लिमों को जमानत दे देते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि चारभुजा नाथ की यात्रा पर इस्लामी मजहबी स्थल के सामने हमला करने वालों का कोई मजहब नहीं था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -