Friday, June 21, 2024
Homeदेश-समाजजालसाज सुकेश चंद्रशेखर तिहाड़ में भी रिश्वत देने से नहीं आ रहा बाज, भेजा...

जालसाज सुकेश चंद्रशेखर तिहाड़ में भी रिश्वत देने से नहीं आ रहा बाज, भेजा गया दूसरी जगह: जेल के 3 अधिकारियों के खिलाफ जाँच के आदेश

"हमें सूचना मिली थी कि कैदी सुकेश चंद्रशेखर ने जेल नंबर 4 के एक कर्मचारी को रिश्वत देने की कोशिश की थी, जहाँ वह बंद था. उसने कथित तौर पर एक अधिकारी को 1.25 लाख रुपए भिजवाए।"

दिल्ली के तिहाड़ जेल के तीन अधिकारियों के खिलाफ महाठग सुकेश चंद्रशेखर (Sukesh Chandrashekhar) से रिश्वत लेने के आरोपों की जाँच के आदेश दिए गए हैं। तिहाड़ में सुख-सुविधा पाने के लिए जालसाज ने जेल के अधिकारियों और कर्मियों को रिश्वत देने का मामला सामने आया है। रिपोर्ट के अनुसार, सुकेश चंद्रशेखर ने एक कैदी के भाई के बैंक खाते में 1.25 लाख रुपए डलवाए, जहाँ से जेल के अधिकारियों को पैसे पहुँचाए गए। हालाँकि, मामले का खुलासा होते ही सुकेश चंद्रशेखर की जेल को बदल दिया और दो जेल अधीक्षक और एक वार्डर को पुलिस लाइन में भेज दिया गया है।

बता दें कि सुकेश चंद्रशेखर 200 करोड़ रुपए के मनी लॉन्ड्रिंग केस सहित कई मामलों का सामना कर रहा है। रिपोर्ट के अनुसार, पूरा मामला तिहाड़ में रिश्वतखोरी से जुड़ा है। सुकेश चंद्रशेखर ने तमाम सतर्कता के बाद भी जेल संख्या 4 में तैनात कर्मियों को विशेष सुविधाओं के लिए करीब सवा लाख रुपए की रिश्वत दी। जिस जेल अधिकारी को रिश्वत दिया जाना था, उसके पास रिश्वत पहुँचाने के लिए उसने जेल के एक कैदी की मदद ली। इस कैदी के भाई के खाते में सुकेश ने करीब सवा लाख रुपए जमा करवा दिए। इस शख्स ने बाद में यह रकम जेल अधिकारी तक पहुँचा भी दिया।

लेकिन, जब यह मामला अधिकारियों के संज्ञान में आया, जब जेल अधिकारी सहित तीन जेलकर्मियों को लाइन में भेज दिया गया। फिलहाल सभी मुख्यालय से संबद्ध रहेंगे। जेल महानिदेशक संदीप गोयल ने कहा, “हमें सूचना मिली थी कि कैदी सुकेश चंद्रशेखर ने जेल नंबर 4 के एक कर्मचारी को रिश्वत देने की कोशिश की थी, जहाँ वह बंद था. उसने कथित तौर पर एक अधिकारी को 1.25 लाख रुपए भिजवाए।”

उन्होंने कहा, “हम जाँच करवा रहे हैं और वहीं तीनों आरोपित अधिकारियों का तबादला कर दिया है। सुकेश को भी दूसरी जेल में स्थानांतरित कर दिया गया है।” उन्होंने आगे बताया, “इनके खिलाफ विभागीय जाँच के नतीजों में यदि दोष सिद्ध होता है तो सभी को बर्खास्त करने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।”

गौरतलब है कि इससे पहले जनवरी में, दिल्ली पुलिस ने फोर्टिस हेल्थकेयर कार्यकर्ता से लगभग 200 करोड़ रुपए की जबरन वसूली में कैदी और कॉनमैन सुकेश चंद्रशेखर की मदद करने के आरोप में जेल स्टाफ के सात सदस्यों को गिरफ्तार किया था। आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने जेल प्रशासन से इसे अनुमति देने के लिए कहा था। भ्रष्टाचार निरोधक कानून के तहत रोहिणी जेल के 82 अधिकारियों व कर्मचारियों की जाँच के लिए दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने तिहाड़ जेल से अनुमति माँगी थी।

बता दें कि जालसाज सुकेश द्वारा जेलकर्मियों को रिश्वत देने के मामले पहले भी आते रहे हैं। बार-बार इस तरह के मामले सामने आने के बाद ही करीब डेढ़ साल से उसे एक जेल में अधिक दिनों तक नहीं रखा जाता है। उसका जेल समय समय पर बदला जाता है। लेकिन अब जेल बदले जाने की प्रशासन की नीति भी कारगर साबित नहीं हो रही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

CM केजरीवाल ने माँगे थे ₹100 करोड़, हमने ₹45 करोड़ का पता लगाया: ED ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया, कहा- निचली अदालत के...

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री और AAP मुखिया अरविन्द केजरीवाल की नियमित जमानत पर अंतरिम तौर पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -