Wednesday, November 30, 2022
Homeदेश-समाजपानीपत में गाय का सिर काटकर ले भागे हत्यारे, लोगों में रोष, अपराधियों की...

पानीपत में गाय का सिर काटकर ले भागे हत्यारे, लोगों में रोष, अपराधियों की पहचान के लिए CCTV फुटेज खँगालेगी पुलिस

सेक्टर-29 थाना पुलिस ने बताया कि मौके से गाय के शव के अलावा कुछ भी बरामद नहीं हुआ है। आरोपितों को पकड़ने के लिए आसपास की फैक्ट्रियों में लगे CCTV कैमरों की जाँच की जाएगी।

हरियाणा के पानीपत से गौहत्या की घटना सामने आई है। यहाँ एक गाय का सिर कटा शव मिलने से लोगों में काफी रोष है। गौहत्या की सूचना मिलने पर बड़ी संख्या में गौशाला के सेवादार व गौभक्त घटनास्थल पर पहुँचे। इसके बाद सेक्टर-29 थाना पुलिस भी मौके पर पहुँची।

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक, गौशाला प्रधान हरपाल सिंह ने अज्ञात हत्यारों के खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम के तहत सेक्टर-29 थाने में केस दर्ज कराया है। उन्होंने बताया कि लोगों ने काफी देर तक गाय का सिर ढूँढने का प्रयास किया, लेकिन वह नहीं मिला। गाय के शव को पोस्टमार्टम के लिए पशु अस्पताल भेज दिया गया है।

सेक्टर-29 थाना पुलिस ने बताया कि मौके से गाय के शव के अलावा कुछ भी बरामद नहीं हुआ है। आरोपितों को पकड़ने के लिए आसपास की फैक्ट्रियों में लगे CCTV कैमरों की जाँच की जाएगी।

रिपोर्ट के मुताबिक, गौशाला प्रधान हरपाल सिंह ने बताया कि सोमवार (25 अक्टूबर, 2021) की सुबह गाँव नांगलखेड़ी निवासी विनोद वर्मा ने सूचना दी कि सेक्टर-19 के पार्ट-2 स्थित चौराहे पर एक गौवंश का सिर कटा शव पड़ा है। शव के साथ काफी खून बिखरा हुआ था। उन्होंने बताया किसी तेजधार हथियार से गौवंश का सिर काटा गया है।

गाय की नाक में रस्सी डाली-पैर बाँधा, सिर पर हथौड़े के वार से कर दी हत्या

गौरतलब है कि हाल ही में पंजाब के गुरदासपुर जिले में स्थित एक अवैध बूचड़खाने में जिंदा गायों की नाक के अंदर रस्सी डालकर और पैरों को बाँधकर सिर पर हथौड़े से वार करके उनकी हत्या करने वाले 11 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। पुलिस ने बताया था कि जब उन्होंने दबिश दी उस समय आरोपितों ने तीन गायों के सिर पर हथौड़े से वार करके उन्हें मार दिया था। एक गाय अधमरी हालत में बेसुध जमीन पर पड़ी थी, जबकि चार को उन्होंने बचा लिया। पुलिस ने सभी आरोपितों को गिरफ्तार करने के बाद गायों को पशु अस्पताल पहुँचाया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोता हुआ आम का पेड़, आरती के समय मंदिर में देवता को प्रणाम करने वाला ताड़ का वृक्ष… वेदों से प्रेरित था जगदीश चंद्र...

छुईमुई का पौधा हमारे छूते ही प्रतिक्रिया देता है। जगदीश चंद्र बोस ने दिखाया कि अन्य पेड़-पौधों में भी ऐसा होता है, लेकिन नंगी आँखों से नहीं दिखता।

‘मौलाना साद को सौंपी जाए निजामुद्दीन मरकज की चाबियाँ’: दिल्ली HC के आदेश पर पुलिस को आपत्ति नहीं, तबलीगी जमात ने फैलाया था कोरोना

दिल्ली हाईकोर्ट ने पुलिस को तबलीगी जमात के निजामुद्दीन मरकज की चाबी मौलाना साद को सौंपने की हिदायत दी। पुलिस ने दावा किया है कि वह फरार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,143FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe