Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजMP में खून से लथपथ मिली गाय, फटे मुँह से खाने-पीने में असमर्थ: विस्फोटक...

MP में खून से लथपथ मिली गाय, फटे मुँह से खाने-पीने में असमर्थ: विस्फोटक खिलाए जाने की आशंका

शाम होने पर वापस घर आ जाती थी और आकर अपने 1 महीने के बच्चे को दूध पिलाती थी। इसी क्रम में गाय 14 जून को भी आसपास चरने गई थी, मगर वह शाम को घर वापस नहीं आई। गाय के नहीं लौटने पर उन्होंने पूरी रात उसे ढूँढा मगर वह नहीं मिली।

MP में एक गाय को विस्फोटक मिश्रित भोजन खाने से घायल होने का मामला सामने आया है। केरल में गर्भवती हथिनी और हिमाचल प्रदेश में गर्भवती गाय को विस्फोटक खिलाने की घटना के बाद अब मध्य प्रदेश के उमरिया में जानवरों के साथ क्रूरता की यह इस प्रकार की तीसरी घटना है।

आशंका जताई जा रही है कि उमरिया में एक माह के बछड़े को दूध पिलाती गाय को किसी ने विस्फोटक खिला दिया और अब उसके बचने की उम्मीद काफी कम बताई जा रही हैं। पीड़ित गाय कुछ खाने में भी असमर्थ है और न ही वह पानी पी सकती है।

गाय द्वारा विस्फोटक मिला भोजन खाने का संदेह

यह घटना मध्य प्रदेश के गिन्जरी गाँव की है। गाय के मलिक ओमप्रकाश अग्रवाल बताते हैं, कि वो रोजाना गाय को चरने के लिए छोड़ देते थे। रिपोर्ट्स के अनुसार उनका कहन अहै कि गाय घर के आसपास ही 500 मीटर के अंदर घूमकर चरती रहती थी।

शाम होने पर वापस घर आ जाती थी और आकर अपने 1 महीने के बच्चे को दूध पिलाती थी। इसी क्रम में गाय 14 जून को भी आसपास चरने गई थी, मगर वह शाम को घर वापस नहीं आई। गाय के नहीं लौटने पर उन्होंने पूरी रात उसे ढूँढा मगर वह नहीं मिली।

अगले दिन भी ओमप्रकाश ने गाय की तलाश जारी रखी लेकिन उस दिन भी उन्हें घर खाली हाथ लौटना पड़ा। कड़ी मशक्कत के बाद जब 16 जून को उन्हें गाय वापस मिली तो वह खून से पूरी तरह लथपथ थी। गाय का मुँह बुरी तरह से फटा हुआ था।

ओमप्रकाश ने आशंका जताई है कि विस्फोटक पदार्थ खाने की वजह से उसका जबड़ा और मुँह ज़ख्मी हो गया है। गाय की गंभीर हालत को देखते ही उन्होंने पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज की।

साथ ही पशु चिकित्सक को बुलाकर गाय का इलाज कराया गया। चिकित्सक ने बताया कि गाय की हालत काफ़ी नाजुक है। न वो कुछ खा पी सकेगी, न ही अपने बछड़े को दूध पिला सकेगी।

पुलिस ने किया मामला दर्ज

ओमप्रकाश अग्रवाल के तहरीर पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। जिला पुलिस अधीक्षक (एसपी) सचिन शर्मा ने बताया कि घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके ने पर पहुँचकर एक पशु चिकित्सक को बुलाया। पुलिस अब घायल गाय के मामले की जाँच कर रही है।

बजरंग दल ने की जल्द कार्रवाही की माँग

गाय के साथ हुई इस क्रूरता को लेकर बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने आरोपित को जल्द से जल्द गिरफ्तार कर कड़ी सजा की माँग की हैं। साथ ही मामले पर कार्रवाई नहीं करने पर आंदोलन करने की धमकी भी दी हैं। बजरंग दल के नेता उपेंद्र सिंह ने कहा, “इस मामले में पुलिस ने अगर आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया तो हम उसे तलाश कर लेंगे।”

जारी है गाय-बछड़ों सहित जानवरों पर अत्याचार

गौरतलब है कि एक हफ्ते पहले ही आगरा में दो युवकों ने एक बछड़े को डंडे से पीट-पीट कर मार डाला। क्योंकि भूख से बेहाल सड़क पर घूमते हुए एक बछड़े ने उसकी गाय-भैसों के साथ मिलकर उसके द्वारा दिया गया चारा खाने लगा था। जिसे देखते ही दो युवकों ने बछड़े पर जम कर लाठियाँ बरसानी शुरू कर दीं। उन दोनों ने बछड़े को इतना मारा कि उसकी मौत हो गई। जिसकी वीडियो पास के एक सीसीटीवी में कैद हो गई थी।

गाय और हथिनी को खिलाया गया था विस्फोटक

बता दें कि इस से पहले हिमाचल में बिलासपुर जिले के झंडुत्ता इलाके में एक गर्भवती गाय को विस्फोटक खिला दिया गया था, जिससे गाय बुरी तरह से घायल हो गई थी। जख्मी गाय ने इलाज के दौरान एक बछड़े को जन्म दिया था। मगर पशु चिकित्सकों का कहना था कि गाय अब नॉर्मल दिनों की तरह ढेर सारा चारा एक साथ नहीं खा सकेगी।

वहीं कुछ दिनों पहले केरल के मलप्पुरम एक 15 वर्षीय गर्भवती हथिनी एक अमानवीय कृत्य का शिकार हो गई थी। जहाँ उपद्रवी शख्स ने उसे पटाखों से भरा अनानास खिला दिया था, जिससे हथिनी के मुँह में विस्फोट हो गया और वह बुरी तरह जख्मी हो गई। हथिनी की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पता चला कि वह गर्भवती थी। उसका जबड़ा टूट गया था और मुँह में विस्फोट के कारण वह अनानास चबाने के बाद कुछ खा नहीं पा रही थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

6 साल के जुड़वा भाई, अगवा कर ₹20 लाख फिरौती ली; फिर भी हाथ-पैर बाँध यमुना में फेंका: ढाई साल बाद इंसाफ

मध्य प्रदेश स्थित सतना जिले के चित्रकूट में दो जुड़वा भाइयों के अपहरण और हत्या के मामले में 5 दोषियों को आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई गई है।

‘अपनी मौत के लिए दानिश सिद्दीकी खुद जिम्मेदार, नहीं माँगेंगे माफ़ी, वो दुश्मन की टैंक पर था’: ‘दैनिक भास्कर’ से बोला तालिबान

तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि दानिश सिद्दीकी का शव युद्धक्षेत्र में पड़ा था, जिसकी बाद में पहचान हुई तो रेडक्रॉस के हवाले किया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,381FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe