Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाज'16 राज्यों की बिजली काट देंगे': राकेश टिकैत ने दी केंद्र सरकार को खुलेआम...

’16 राज्यों की बिजली काट देंगे’: राकेश टिकैत ने दी केंद्र सरकार को खुलेआम धमकी

"केंद्र में कोई सरकार नहीं। देश को व्यापारी लोग चला रहे, इन व्यापारियों ने सभी सरकारी संस्थानों को बेच दिया है... किसानों के खेतों से जाने वाली 16 राज्यों की बिजली लाइन काट दी जाएगी।"

राजस्थान के दौसा में किसान पंचायत में भाग लेने पहुँचे किसान नेता राकेश टिकैत ने सरकार को अब सीधे तौर पर धमकी दी है। उन्होंने कहा कि अगर किसानों की माँगे नहीं मानी गईं तो 16 राज्यों की बिजली कट जाएगी। शनिवार (मार्च 27, 2021) को भरतपुर में एक बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि अपनी माँगों को लेकर किसान आंदोलन पर डटे रहेंगे। उन्होंने कहा कि अगर किसानों के आंदोलन स्थल की बिजली कटी तो किसानों के खेतों से जाने वाली 16 राज्यों की बिजली लाइन कट जाएगी।

उन्होंने कहा इस समय देश में सरकार नहीं बची है। केंद्र में कोई सरकार नहीं। देश को व्यापारी लोग चला रहे हैं और इन व्यापारियों ने सभी सरकारी संस्थानों को बेच दिया है। टिकैत ने कहा कि देश की जनता अब सब समझ गई है और जनता को उन्हें सरकार से बाहर का रास्ता दिखाने की जरूरत है।

राकेश टिकैत ने कहा कि जब भी कोई पार्टी विधानसभा में या फिर लोकसभा में पूर्ण बहुमत पाती है तो वह तानाशाह की तरह अपना व्यवहार दिखाती है। उन्होंने कहा कि इस समय केंद्र का रवैया भी एक तानाशाह की ही तरह है। राकेश टिकैत ने सरकार पर आरोप लगाया कि सरकार सरकारी संस्थानों को बेचने के बाद अब धीरे धीरे किसानों की जमीन को व्यापारियों को बेचने की योजना बना रही है। उन्होंने कहा कि देश में बेरोजगारी और भुखमरी बढ़ती जा रही है। युवाओं के भविष्य को लेकर सरकार के पास किसी तरह की योजना नहीं है।

उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए कहा, “केंद्र में कोई सरकार नहीं है, जबकि कारोबारी देश को चला रहे हैं। उन्होंने सभी सरकारी संस्थाएँ बेच दी हैं और देशवासियों को उन्हें सरकार से बाहर निकाल कर फेंकना चाहिए।” बकौल टिकैत, “कोई भी दल संसद या फिर विधानसभा में पूर्ण बहुमत पाता है, तब वह तानाशाह बन जाता है। केंद्र सरकार हमारी (किसानों की) जमीनों को बेचने की साजिश रच रही है, जबकि आम लोग बेरोजगारी और भुखमरी की मार झेल रहे हैं।”

उन्होंने विपक्ष पर भी हमला किया। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन पाँच से छ: महीने और जारी रहेगा, लेकिन यह काफी दुर्भाग्यपूर्ण हैं कि सरकार की नीतियों का कोई विरोध नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर एक मजबूत विपक्ष होता और विपक्ष जिंदा होता तो आज किसानों की लड़ाई को आदर्श और मजबूती के साथ संसद में लड़ी जाती। उन्होंने कहा कि नवंबर-दिसंबर में जाकर किसान आंदोलन का फैसला होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने...

एनसीपीसीआर ने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe