Saturday, June 22, 2024
Homeदेश-समाजअमजद और अजगर पठान ने दलित युवक को ‘पठानी’ सूट पहनने की ‘जुर्रत’ पर...

अमजद और अजगर पठान ने दलित युवक को ‘पठानी’ सूट पहनने की ‘जुर्रत’ पर बुरी तरह पीटा

जयंत भाटी होटल के पास चाय पी रहा था। तभी अमजद पठान और अजगर पठान वहाँ आए और उससे बहस करने लगे। उसके ‘पठानी’ सूट पहनने पर आपत्ति जताई। एक आरोपित ने भाटी के पठानी सूट को पीछे से उठाते हुए उसके चेहरे को ढँक दिया और फिर बुरी तरह से उसकी पिटाई कर दी।

गुजरात में ‘पठानी’ सूट पहनने की ‘जुर्रत’ करने पर दलित की पिटाई का मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक राजकोट के कच्छ जिले के गाँधीधाम शहर में एक दलित की पिटाई सिर्फ इसलिए कर दी, क्योंकि उसने पठानी सूट पहना था।

पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए मंगलवार (दिसंबर 3, 2019) को 27 वर्षीय जयंत भाटी की पिटाई करने के आरोप में अमजद पठान और अजगर पठान के खिलाफ मामला दर्ज किया है। बता दें कि आरोपित अमजद पठान और अजगर पठान ने 26 नवंबर को गाँधीधाम के ग्रीन पैलेस होटल के पास जयंत भाटी की पिटाई की थी। जयंत पेशे से ड्राइवर है।

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, घटना वाले दिन जयंत भाटी होटल के पास चाय पी रहा था, तभी आरोपित अमजद पठान और अजगर पठान मोटरसाइकल से वहाँ आए और उसके साथ बहस करने लगे। इस दौरान आरोपितों ने उसके ‘पठानी’ सूट पहनने पर आपत्ति जताई। इसके बाद बहस और बढ़ गई। तभी एक आरोपित ने भाटी के पठानी सूट को पीछे से उठाते हुए उसके चेहरे को ढँक दिया और फिर बुरी तरह से उसकी पिटाई कर दी।

इतना ही नहीं, पिटाई करने के बाद दोनों ने दलित को धमकी देते हुए कहा कि वो नीची जाति से है, इसलिए उसे पठानी सूट पहनने का कोई अधिकार नहीं है। अगर उसने दोबारा से पठानी सूट पहना तो वे उसे जान से मार देंगे।

इस घटना के बाद भाटी ने उसी दिन गाँधीधाम के ए डिवीजन पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई और फिर जॉब पर चला गया। उसके लौटने के बाद आरोपित के खिलाफ एससी/एसटी एक्ट, हमला और आपराधिक धमकी के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई। फिलहाल दोनों आरोपितों का गिरफ्तार होना बाकी है।

‘तुम्हें मुस्लिम बना दूँगा’ – जुमे की नमाज के बाद दलित महिला से छेड़छाड़, पति को किया अधमरा

कौशाम्बी गैंगरेप: दलित नाबालिग से कहा- भगवान नहीं, अल्लाह के नाम पर माँगो रहम की भीख

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, 11वीं सदी का शिलालेख है साक्ष्य!!

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, बख्तियार खिलजी ने नहीं। ब्राह्मण+बुर्के वाली के संभोग को खोद निकाला है इस इतिहासकार ने।

10 साल जेल, ₹1 करोड़ जुर्माना, संपत्ति भी जब्त… पेपर लीक के खिलाफ आ गया मोदी सरकार का सख्त कानून, NEET-NET परीक्षाओं में गड़बड़ी...

परीक्षा आयोजित करने में जो खर्च आता है, उसकी वसूली भी पेपर लीक गिरोह से ही की जाएगी। केंद्र सरकार किसी केंद्रीय जाँच एजेंसी को भी ऐसी स्थिति में जाँच सौंप सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -