Thursday, April 15, 2021
Home देश-समाज गैंगरेप पीड़िता की अर्ध-नग्न लाश: टूटी उंगलियाँ, आँखें बाहर निकली हुईं - शाबोद्दीन, शेख...

गैंगरेप पीड़िता की अर्ध-नग्न लाश: टूटी उंगलियाँ, आँखें बाहर निकली हुईं – शाबोद्दीन, शेख बाबू, मकदूम ने कबूला जुर्म

"आरोपित उस गाँव से ताल्लुक रखते हैं, जो मुस्लिम बहुल है और गोंड भाषा को उर्दू के साथ मिला कर बोलते हैं। हम उनके लिए सार्वजनिक फाँसी से कम कुछ नहीं चाहते।"

हैदराबाद में 26 वर्षीय पशु चिकित्सक प्रीति रेड्डी (बदला हुआ नाम) के साथ गैंगरेप और फिर उनके शव को जला देने की ख़ौफ़नाक वारदात को अंजाम देने के तीन दिन पहले, उसी तेलंगाना में एक दलित महिला का बलात्कार किया गया था और बड़ी बेरहमी से पीड़िता की हत्या भी कर दी गई थी।

इस मामले में तीन आरोपितों को गिरफ़्तार किया गया है और उन्होंने अपने अपराध को क़बूल कर भी लिया है। वहीं, पीड़ित परिवार का कहना है कि पुलिस उन्हें पीड़िता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट देने से मना कर रही है क्योंकि रिपोर्ट में कुछ ऐसा है, जिसे शायद छिपाने का प्रयास किया जा रहा है। जहाँ एक तरफ हैदराबाद गैंगरेप की घटना पूरे देश को पता है वहीं, यह इस घटना के बारे में शायद बहुत कम लोग ही जानते होंगे। ऐसा इसलिए क्योंकि इस घटना को मीडिया में बहुत कम कवरेज मिली है।

30 वर्षीय गीता (बदला हुआ नाम) का परिवार, निर्मल ज़िले के खानपुर मंडल के गोसम्पल्ली गाँव का रहने वाला है। लेकिन यह अपने पति-बच्चों के साथ यहाँ नहीं रहती थीं। ये खुद, इनके पति और दो बच्चे अपने गाँव से 100 किलोमीटर दूर एक किराए के मकान में रहते थे। आजीविका के लिए इनका परिवार जहाँ रहता था, वो आसिफाबाद ज़िले (पहले इस जिले का नाम आदिलाबाद था) के लिंगापुर मंडल में स्थित है।

पीड़िता अपने पति (38 साल के) की तरह सड़क पर घूम-घूम कर गुब्बारे और महिलाओं के लिए कम दाम वाले साज-सज्जा का सामान बेचती थी। 25 नवंबर की सुबह, उनके पति टेकू गोपी को वो एकांत स्थान पर अर्ध-नग्न अवस्था में मृत मिलीं। शरीर पर कई चोट के निशान भी थे। इससे पहले रात में ही गोपी ने लिंगापुर पुलिस स्टेशन में अपनी पत्नी के लापता होने की शिक़ायत दर्ज कराई थी।

शव मिलने के बाद FIR किया गया। इसमें दर्ज गोपी के बयान के अनुसार वह और पीड़िता (उनकी पत्नी) अपने-अपने काम काम के लिए 24 नवंबर को सुबह 6 बजे घर से निकले थे।

गोपी ने बताया कि उन्होंने अपनी पत्नी को एलापेटार में ड्रॉप किया और खुद मोदीगुडा चले गए। हमेशा की तरह जब वो अपनी पत्नी को दोपहर 2 बजे लेने के लिए एलापेटार लौटे, तो वो वहाँ नहीं मिलीं। इस दौरान उनका मोबाइल भी स्विच ऑफ़ था। उन्होंने अपनी पत्नी की खोजबीन की, लेकिन कहीं कुछ पता नहीं चला। इसके बाद गोपी ने उसी रात, पुलिस में अपनी पत्नी के लापता होने की शिक़ायत दर्ज कराई।

अगली सुबह, वह और कुछ ग्रामीण फिर से तलाश में निकले। आख़िरकार उन्हें सुबह क़रीब 9 बजे लिंगनापुर मंडल के रामनायकटांडा और इलापार गाँवों के बीच उनका शव मिला। उनकी साड़ी घुटनों से ऊपर खींची हुई थी, ऊपरी शरीर पर कोई कपड़ा नहीं था, उनके सिर, गले और हाथों पर गंभीर चोट के निशान थे।

बयान में आगे कहा गया है कि गीता और गोपी बडगा जंगम (अनुसूचित जाति) से संबंध रखते हैं। गोपी को इस जघन्य अपराध के पीछे शाबोद्दीन, बाबू और मकदूम नाम के तीन लोगों पर शक था, क्योंकि ये तीनों भी उस दौरान अपने घरों से ग़ायब थे।

गोपी अपनी पत्नी के साथ हुए इस जघन्य अपराध के बाद से गोसांपल्ली में रह रहे हैं। उन्होंने स्वराज्य को बताया कि इस ख़ौफ़नाक वारदात को अंजाम देते वक़्त पीड़िता के चेहरे और उनके शरीर पर बुरी तरह से कई वार किए गए। उनकी आँखें उभरी हुई थीं, पत्थर से बार-बार वार के कारण शायद उनकी उंगलियाँ टूट गईं थी। गोपी ने यह भी बताया कि उनकी पत्नी के पैर भी अजीब तरीके से मुड़े हुए थे।

गोपी को घटना-स्थल पर प्लास्टिक के दस्ताने भी मिले। उन्होंने बताया,

“आरोपितों ने उनकी (पीड़िता) गला दबाकर हत्या कर दी, शायद उन्होंने प्लास्टिक के दस्तानों का इस्तेमाल इसलिए किया, जिससे उन्हें पकड़ा नहीं जा सकेगा।”

गोपी ने कहा, “केवल पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से ही उनकी मौत का कारण पता चल सकता है।” लेकिन, लिंगायत पुलिस स्टेशन में उन्होंने जब-जब पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बारे में पूछा तो उन्हें बार-बार वहाँ से भगा दिया गया।

इस मामले में गोसांपल्ली के सरपंच टेकू गंगाराम ने भी कहा कि पीड़िता की गर्दन में चोट के निशान थे, जिससे यह पता चलता है कि शायद उनकी गला घोंटकर हत्या कर दी गई है। लेकिन, वो इस बात की पुष्टि के लिए पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट का इंतज़ार कर रहे हैं।

समाचार पोर्टल द न्यूज मिनट की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि पुलिस के अनुसार, आरोपित- शेख बाबू (35), शेख शाबोद्दीन (30) और शेख मकदूम (40) ने बलात्कार और हत्या की बात क़बूल कर ली है। पुलिस ने उन पर हत्या और बलात्कार के साथ-साथ अनुसूचित जाति/जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है। तीनों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

लिंगापुर के सब-इंस्पेक्टर ने बताया कि आरोपितों ने पीड़िता पर तब हमला किया, जब वो एक गाँव में अकेले घूम रही थीं। इसके बाद उन्होंने मिलकर बलात्कार और हत्या की वारदात को अंजाम दिया।

स्थानीय बडगा जंगम जाति के संगठन के महासचिव टेकु मधु ने स्वराज्य को बताया कि आरोपित एलापेटार गाँव से ताल्लुक रखते हैं, जो मुस्लिम बहुल है और गोंड भाषा को उर्दू के साथ मिला कर बोलते हैं। उन्होंने बताया, “हम उनके लिए सार्वजनिक फाँसी से कम कुछ नहीं चाहते।”

गोपी ने घटना के बारे में ज्यादा कुछ नहीं बताया। गंगाराम और अन्य ग्रामीणों ने कहा कि अपराध के एक दिन बाद, उन्होंने खुद पर मिट्टी का तेल डाला और ख़ुद को आग लगाने की कोशिश की, लेकिन पड़ोसियों ने समय रहते उन्हें बचा लिया।

एक महिला पड़ोसी ने गोपी के बारे में बताया, “उनकी स्थिति अभी भी स्थिर नहीं है। आत्महत्या करने की सोचने से पहले उन्होंने बच्चों के बारे में भी नहीं सोचा।” महिला ने कहा, “ऐसी त्रासदी भला कौन सहन कर सकता है? अब बच्चों का क्या होगा।” उन्होंने बताया कि उनका एक बच्चा आठ साल का है और दूसरा 10 साल का है।

पीड़िता के भाई ने कहा कि ग़रीब परिवार को एक बड़ा झटका लगा है और मीडिया के माध्यम से उन्होंने सरकार से वित्तीय सहायता की अपील की है। वहीं, एक अन्य पड़ोसी ने कहा, “सरकार की ओर से अब तक किसी ने भी हमसे मुलाक़ात नहीं की है।”

ग्रामीणों ने कहा कि उन्होंने लिंगापुर में दंपति के पड़ोसियों से सुना है कि आरोपित शराबी और नशेड़ी थे। एक आरोपित ने कहा कि उसकी शादी पिछले साल हुई थी और उसकी पत्नी सात महीने की गर्भवती थी।

गोसांपल्ली में महिलाओं ने कहा कि उन्हें घर से बाहर निकलने से बहुत डर लगता है। इनमें से कई महिलाएँ पीड़िता की ही तरह सड़क पर घूम-घूम कर काम करती हैं। एक महिला ने बताया कि पीड़िता बहुत सुंदर महिला थीं इसलिए आरोपितों की नज़र उनके ऊपर कई दिनों से थी। इस वारदात को योजनाबद्ध तरीके से अंजाम दिया गया है।

मारे गए सभी आरोपित: पुलिस ने वहीं किया एनकाउंटर, जहाँ ‘प्रीति रेड्डी’ के साथ किया था जघन्य अपराध

‘पूरी तरह जली या नहीं’ – स्कूटर से बॉडी को वापस देखने आए थे आरोपित: ‘प्रीति’ रेड्डी केस में नया खुलासा

‘प्रीति’ रेड्डी केस: खेत में घसीट कर बारी-बारी से किया रेप, ट्रक में लाश डाल खरीदा था पेट्रोल-डीजल

प्रीति रेड्डी मर गई फिर भी रेप करते रहे दरिंदे: आरिफ के प्लानिंग की पूरी डिटेल

…वो पेट्रोल पम्प वर्कर, जिसकी मदद से ‘प्रीति रेड्डी’ के बलात्कारी-हत्यारे तक पहुँच पाई पुलिस

आरिफ ने ‘प्रीति रेड्डी’ का मुँह-नाक दबाया, उसी ने डेड बॉडी पर पेट्रोल डाला: पुलिस की रिपोर्ट में भयावह खुलासे

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

द प्रिंट की ‘ज्योति’ में केमिकल लोचा ही नहीं, हिसाब-किताब में भी कमजोर: अल्पज्ञान पर पहले भी करा चुकी हैं फजीहत

रेमेडिसविर पर 'ज्ञान' बघार फजीहत कराने वाली ज्योति मल्होत्रा मिलियन के फेर में भी पड़ चुकी हैं। उनके इस 'ज्ञान' के बचाव में द प्रिंट हास्यास्पद सफाई भी दे चुका है।

सुशांत सिंह राजपूत पर फेक न्यूज के लिए AajTak को ऑन एयर माँगनी पड़ेगी माफी, ₹1 लाख जुर्माना भी: NBSA ने खारिज की समीक्षा...

AajTak से 23 अप्रैल को शाम के 8 बजे बड़े-बड़े अक्षरों में लिख कर और बोल कर Live माफी माँगने को कहा गया है।

‘आरोग्य सेतु’ डाउनलोड करने की शर्त पर उमर खालिद को जमानत, पर जेल से बाहर ​नहीं निकल पाएगा दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों का...

दिल्ली दंगों से जुड़े एक मामले में उमर खालिद को जमानत मिल गई है। लेकिन फिलहाल वह जेल से बाहर नहीं निकल पाएगा। जाने क्यों?

कोरोना से जंग में मुकेश अंबानी ने गुजरात की रिफाइनरी का खोला दरवाजा, फ्री में महाराष्ट्र को दे रहे ऑक्सीजन

मुकेश अंबानी ने अपनी रिफाइनरी की ऑक्सीजन की सप्लाई अस्पतालों को मुफ्त में शुरू की है। महाराष्ट्र को 100 टन ऑक्सीजन की सप्लाई की जाएगी।

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

चीन के लिए बैटिंग या 4200 करोड़ रुपए पर ध्यान: CM ठाकरे क्यों चाहते हैं कोरोना घोषित हो प्राकृतिक आपदा?

COVID19 यदि प्राकृतिक आपदा घोषित हो जाए तो स्टेट डिज़ैस्टर रिलीफ़ फंड में इकट्ठा हुए क़रीब 4200 करोड़ रुपए को खर्च करने का रास्ता खुल जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

‘कल के कायर आज के मुस्लिम’: यति नरसिंहानंद को गाली देती भीड़ को हिन्दुओं ने ऐसे दिया जवाब

यमुनानगर में माइक लेकर भड़काऊ बयानबाजी करती भीड़ को पीछे हटना पड़ा। जानिए हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कैसे किया प्रतिकार?

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

जानी-मानी सिंगर की नाबालिग बेटी का 8 सालों तक यौन उत्पीड़न, 4 आरोपितों में से एक पादरी

हैदराबाद की एक नामी प्लेबैक सिंगर ने अपनी बेटी के यौन उत्पीड़न को लेकर चेन्नई में शिकायत दर्ज कराई है। चार आरोपितों में एक पादरी है।

थूको और उसी को चाटो… बिहार में दलित के साथ सवर्ण का अत्याचार: NDTV पत्रकार और साक्षी जोशी ने ऐसे फैलाई फेक न्यूज

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के बारे में कहा जा रहा है कि बिहार में नीतीश कुमार के राज में एक दलित के साथ सवर्ण अत्याचार कर रहे।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,224FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe