Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाजबार-बार करता था यौन उत्पीड़न, नाबालिगों ने चाकू मारा, पत्थर से सिर कुचला, फिर...

बार-बार करता था यौन उत्पीड़न, नाबालिगों ने चाकू मारा, पत्थर से सिर कुचला, फिर फूँक दी लाश: दिल्ली में अधजला शव मिला

आरोपित नाबलिगों में से एक ने पुलिस को बताया कि आजाद उसका यौन शोषण कर रहा था। इससे तंग आकर उसने अपने दो अन्य दोस्तों के साथ मिलकर उसे ठिकाने लगाने का प्लान बनाया।

दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके से 25 साल के युवक की हत्या में तीन नाबालिग पकड़े गए हैं। युवक का अधजला शव मिला है। नाबालिगों से पूछताछ में पता चला है कि मृतक उनमें से एक का बार-बार यौन शोषण कर रहा था। इससे छुटकारा पाने के लिए उन्होंने पहले चाकू मारकर उसकी हत्या की। फिर पत्थर से सिर कुचलकर शव को जलाने की कोशिश की।

एक सीनियर पुलिस अधिकारी के मुताबिक, 16 और 17 साल की उम्र के तीनों नाबालिगों को जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के सामने पेश कर शेल्टर होम भेज दिया गया है। मृतक युवक की पहचान आजाद के तौर पर हुई है। आरोपित नाबलिगों में से एक ने पुलिस को बताया कि आजाद उसका यौन शोषण कर रहा था। इससे तंग आकर उसने अपने दो अन्य दोस्तों के साथ मिलकर उसे ठिकाने लगाने का प्लान बनाया।

21 दिसंबर 2023 की रात तीनों नाबालिगों ने कथित तौर पर चाकू से आजाद पर हमला कर उसे मौत के घाट उतार दिया। मृतक की पहचान छिपाने और सबूतों को नष्ट करने के लिए नाबालिगों ने आजाद का सिर पत्थर से कुचल दिया। फिर सूखी घास और कपड़ों से उसकी लाश को जलाने की कोशिश की।

पुलिस ने तीनों नाबालिगों को संदिग्ध स्थिति में 23 दिसंबर की रात पकड़ा था। पूछताछ में तीनों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। नाबालिगों से मिली जानकारी के आधार पर पुलिस ने आजाद की अधजली लाश भी खुसरो पार्क से बरामद कर की। पुलिस उपायुक्त (दक्षिण-पूर्व) राजेश देव ने बताया, “तीनों नाबालिगों ने आजाद नाम के युवक की हत्या करना कबूला है। उसकी लाश खुसरो पार्क में अधजली हालत में बरामद हुई। हमारी अपराध और फोरेंसिक टीम ने अपराध स्थल की जाँच की और लाश को एम्स भेज दिया।”

पुलिस के मुताबिक जाँच में ये बात भी सामने आई है कि आजाद आपराधिक प्रवृत्ति का था। हजरत निजामुद्दीन पुलिस स्टेशन में उसके खिलाफ कई बार शिकायतें भी की गई थीं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

रेड सिग्नल पार करने वाली ट्रेनों को भी रोक देता है कवच, फिर क्यों कंचनजंगा एक्सप्रेस से भिड़ गई मालगाड़ी: जानिए सब कुछ

न्यू जलपाई गुड़ी में हुए रेल हादसे के बाद कवच पर चर्चा चालू हो गई है। जिस रूट पर हादसा हुआ है, वहाँ अभी कवच सिस्टम नहीं लगा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -