Wednesday, May 12, 2021
Home देश-समाज दिल्ली हिंदू विरोधी दंगा: बेटी की शादी के लिए पाई-पाई जोड़ रहे थे, घर...

दिल्ली हिंदू विरोधी दंगा: बेटी की शादी के लिए पाई-पाई जोड़ रहे थे, घर तोड़ा, गुल्लक तक ले गए

दिनभर की मेह​नत से इतनी कमाई हो जाती थी कि जीवन की गाड़ी चलती रहे। डेढ़ साल से बेटी की शादी के लिए पैसे जमा कर रखे थे। लेकिन, अब बबीता-रामभजन क्या करें? क्योंकि दंगाइयों ने न सिर पर छत छोड़ा, न कमाने-खाने के साधन।

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंदू विरोधी दंगों के बाद हालात धीरे-धीरे सामन्य हो रहे हैं, लेकिन इसने जो जख्म दिए हैं उससे उबरने में कुछ लोगों की पूरी जिंदगी खप जाएगी। दंगों में लगी आग की तपिश जैसे-जैसे कम हो रही है, राख से एक से बढ़कर एक दर्दनाक कहानियाँ भी सामने आ रही हैं। ऐसी ही एक कहानी शिव विहार की झुग्गियों में रहने वाले एक गरीब परिवार का भी है। सुकून इतना भर है कि परिवार के पाँचों सदस्य अभी भी साँसें ले रहे हैं, लेकिन इसके अलावा उनके पास कुछ नहीं बचा है। कमाई का जो जरिया था वह तबाह किया जा चुका है। ऊपर से कर्ज का पहाड़ सिर पर अलग बोझ बन गया है। बेटी की शादी के लिए पेट काटकर जो पैसे हर रोज गुल्लक में जमा करते थे, दंगाई वो भी ले जा चुके हैं।

शिव विहार की झुग्गियों में रहकर मटके बेचने वाली बबीता की आँखों के सामने अब अँधेरा ही अँधेरा है। पति रामभजन मटका बनाते थे और बबीता उसे बेचकर घर चलाती थी। उसी में से हर रोज कुछ पैसे बचाकर गुल्लक में जमा कर रही थी। डेढ़ साल में इतना पैसा जमा हो गया था कि उम्मीद थी कि बिटिया की शादी के खर्च निकल आएगा। लेकिन, कौन जानता था कि उनके जीवन में 24 फरवरी की काली रात भी आएगी जब उनके गरीब परिवार की जिंदगी भर के सारे सपने देखते ही देखते बर्बाद हो जाएँगे। उस घटना का जिक्र कर बबीता की आवाज थम जाती है और आँसू तो सूखने का नाम ही नहीं लेती। 24 फरवरी की रात दंगाइयों ने उनकी झुग्गी तोड़कर उसमें आग लगा दी। आने वाले गर्मी के मौसम के लिए तैयार सारे मटके तबाह कर गए। दिल्ली को जलाने वालों को जब इतने से भी कलेजा शांत नहीं हुआ तो गरीब की बेटी की शादी के लिए जमा पैसों वाला गुल्लक भी अपने साथ ले गए।

नवभारत टाइम्स में प्रकाशित खबर

रामभजन का परिवार यूपी के मेरठ का रहने वाला है और रोजी-रोटी की तलाश में शिव विहार तिराहे पर सड़क किनारे ही झुग्गी में रहता था। उस काली रात को याद कर आज भी उसका परिवार का शरीर सिहर जाता है। नारेबाजी हो रही थी। अचानक शिव विहार तिराहे पर पत्थरबाजी होने लगी और पेट्रोल बम फेंके जाने लगे। दंगाइयों के सिर पर खून सवार था। दुकानों-मकानों को जलाते जा रहे थे। दंगाइयों की नजर से इस गरीब की झुग्गी भी नहीं बची और उसे भी आग के हवाले कर दिया। परिवार ने तो किसी तरह भागकर अपनी जान बचा ली, लेकिन उनकी सारी जमा-पूँजी तहस-नहस कर दी गई। आने वाले सीजन की तैयारी हो चुकी थी। राजस्थान से मिट्टी लाकर लगभग 6 गाड़ियों जितना माल तैयार किया था। मटके तो नहीं ही बचे हैं, लेकिन उसके लिए राजस्थान से खरीदी गई मिट्टी का कर्ज बोझ जरूर बन गया है। परिवार में दो बेटे और बेटी शिवानी है। परिवार की दिन भर की मेहनत से इतनी कमाई हो जाती थी कि किसी तरह जीवन की गाड़ी चल रही थी और बेटी की शादी की भी चिंता कम होती जा रही थी। लेकिन, अब बबीता-रामभजन क्या करें?

शिव विहार में ऐसी कहानी सिर्फ एक परिवार की नहीं है। शिव विहार के गली नंबर 12 में नरेश चंद्र अपनी पत्नी मुन्नी देवी और बेटे-बहू के साथ रहते हैं। उनके दो छोटे बच्चे भी हैं। बुजुर्ग दंपती 25 फरवरी का जिक्र करते हुए फूट-फूटकर रोने लगते हैं। उन्होंने अपने जले हुए घर की तरफ इशारा करते हुए कहा कि उपद्रवियों ने सब कुछ खत्म कर दिया। उन्होंने किसी तरह भागकर अपनी जान बचाई। उपद्रवी घर के बाहर खडे होकर गालियाँ देने के साथ जिंदा जलाने की धमकी दे रहे थे।

उन्होंने बताया कि 25 फरवरी की शाम को बाबरपुर की तरफ से बड़ी संख्या में लोग शिव विहार में दाखिल हुए और घरों पर पथराव करने लगे। गेट बंद करके वो अपनी पत्नी, बेटे, बहू, पोती और पोते के साथ घर के अंदर वाले कमरे में घुस गए थे, लेकिन बाहर से ताबड़तोड़ पत्थर चल रहे थे। बाहर से घर में आग लगाई जा रही थी। इसके बाद वो अपने कुछ जानने वालों की मदद से बाहर निकले। 

उनकी पत्नी मुन्नी देवी ने बताया कि जब वह घर में थी तब बाहर से लगातार पत्थर आ रहे थे। कोई पत्थर उनके सिर पर लगता तो कोई उनके सीने पर। उन्होंने बताया कि दंगाई उन्हें परिवार के साथ घर में ही जला देना चाहते थे। जब वो लोग किसी तरह घर से बाहर निकल गए तो दंगाइयों ने पहले तो लूटपाट की और फिर घर को फूँक दिया। अब जब वहाँ का माहौल थोड़ा शांत हुआ है तो नरेश चंद्र और उनकी पत्नी तो घर लौट आए हैं, लेकिन उनका बेटा अपनी पत्नी और बच्चों के साथ अभी भी रिश्तेदार के घर पर ही हैं।

इसी तरह दंगाइयों ने इसी इलाके में रहने वाली सुधा के घर को भी निशाना बनाया। घर पर पथराव किया और फिर मुख्य गेट तोड़कर घर में घुस गए। वह पहली मंजिल पर अपने पति राजकुमार के साथ छिप गई और दरवाजा बंद कर लिया। उपद्रवी कपड़े, जेवर व अन्य सामान लूटकर और तोड़फोड़ कर चले गए। शुक्रवार (फरवरी 28, 2020) को ही वापस घर लौटी सुधा ने बताया कि डर के कारण वह उस दिन शाम से रात 11 बजे तक ऊपर ही बैठी रहीं।

बुर्का पहनी महिलाएँ बरसा रहीं पत्थर, दंगाई दाग रहे गोली: उस भीड़ का Video जिसने ली रतनलाल की जान

15 साल के राहुल का चेहरा दंगाइयों ने तेजाब से झुलसाया, पूछ रहा- अब कैसे दूँगा बोर्ड का एग्जाम

दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों की एकतरफा रिपोर्टिंग: BBC का निमंत्रण प्रसार भारती के CEO ने ठुकराया

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsशिव विहार के हिंदू, हिंदुओं के घरों पर हमला, दिल्ली हिंसा viral video, दिल्ली दंगा viral video, दिल्ली पुलिस viral video, दिल्ली पुलिस पर हमला, रतनलाल को किसने गोली मारी, रतनलाल पर हमला, डीसीपी अमित शर्मा पर हमला, पत्थरबाजी का viral video, अंकित शर्मा टार्गेट किलिंग, अंकित शर्मा की हत्या क्यों की गई, अंकित शर्मा बांग्लादेशी आतंकी, बांग्लादेशी आतंकी ताहिर हुसैन, हिंदू घृणा, अमेरिका में हिंदू निशाने पर, हिंदू प्रताड़ना, उबर हिंदूफोबिया, उबर ड्राइवर ने हिंदू को किया प्रताड़ित, उबर दिल्ली दंगा, ताहिर लास्ट लोकेशन, ता​हिर एफआईआर, ताहिर लुक आउट नोटिस, ताहिर हुसैन की तलाश में छापेमारी, ताहिर हुसैन सीसीटीवी फुटेज, ताहिर हुसैन अग्रिम जमानत याचिका, ताहिर हुसैन दिल्ली पुलिस, दिल्ली हिंदू विरोधी दंगा, नालों से मिले शव, दिल्ली नाला शव, दिल्ली मदरसा गुलेल, मदरसा गुलेल विडियो, शिव विहार, मुस्तफाबाद, अमर विहार, दिल्ली दंगे चश्मदीद, दिल्ली हिंसा चश्मदीद, दिल्ली हिंसा महिला, दिल्ली दंगों में कितने मरे, दिल्ली में कितने हिंदू मरे, मोहम्मद शाहरुख, जाफराबाद शाहरुख, शाहरुख फरार, ताहिर हुसैन आप, ताहिर हुसैन एफआईआर, ताहिर हुसैन अमानतुल्लाह, चांदबाग शिव मंदिर पर हमला, दिल्ली दंगा मंदिरों पर हमला, दिल्ली मंदिरों पर हमले, मंदिरों पर हमले, चांदबाग पुलिया, अरोड़ा फर्नीचर, ताहिर हुसैन के घर का तहखाना, अंकित शर्मा केजरीवाल, अंकित शर्मा ताहिर हुसैन, अंकित शर्मा का परिवार, दिल्ली शाहदरा, शाहदरा दिलबर सिंह, उत्तराखंड दिलवर सिंह, दिल्ली हिंसा में दिलवर सिंह की हत्या, रवीश कुमार मोहम्मद शाहरुख, रवीश कुमार अनुराग मिश्रा, रतनलाल, साइलेंट मार्च, यूथ अगेंस्ट जिहादी हिंसा, दिल्ली हिंसा एनडीटीवी, एनडीटीवी श्रीनिवासन जैन, एनडीटीवी रवीश कुमार, रवीश कुमार दिल्ली हिंसा, दिल्ली हिंसा में कितने मरे, दिल्ली दंगों में मरे, दिल्ली कितने हिंदू मरे, दिल्ली दंगों में आप की भूमिका, आप पार्षद ताहिर हुसैन, आप नेता ताहिर हुसैन, ताहिर हुसैन वीडियो, कपिल मिश्रा ताहिर हुसैन, आईबी कॉन्स्टेबल की हत्या, अंकित शर्मा की हत्या, चांदबाग अंकित शर्मा की हत्या, दिल्ली हिंसा विवेक, विवेक ड्रिल मशीन से छेद, विवेक जीटीबी अस्पताल, विवेक एक्सरे, दिल्ली हिंदू युवक की हत्या, दिल्ली विनोद की हत्या, दिल्ली ब्रहम्पुरी विनोद की हत्या, दिल्ली हिंसा अमित शाह, दिल्ली हिंसा केजरीवाल, दिल्ली पुलिस, दिल्ली पुलिस रतनलाल, हेड कांस्टेबल रतनलाल, रतनलाल का परिवार, छत्तीसिंह पुरा नरसंहार, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली हिंसा, करावल नगर, जाफराबाद, मौजपुर, गोकलपुरी, शाहरुख, कांस्टेबल रतनलाल की मौत, दिल्ली में पथराव, ​िदिल्ली में आगजनी, दिल्ली में फायरिंग, भजनपुरा, दिल्ली सीएए हिंसा
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऑक्सीजन पर लताड़े जाने के बाद केजरीवाल सरकार ने की Covid टीकों की उपलब्धता पर राजनीति: बीजेपी ने खोली पोल

पत्र को करीब से देखने से यह स्पष्ट होता है कि संबित पात्रा ने जो कहा वह वास्तव में सही है। पत्रों में उल्लेख है कि दिल्ली में केजरीवाल सरकार 'खरीद करने की योजना' बना रही है। न कि ऑर्डर दिया है।

‘#FreePalestine’ कैम्पेन पर ट्रोल हुई स्वरा भास्कर, मोसाद के पैरोडी अकाउंट के साथ लोगों ने लिए मजे

स्वरा के ट्वीट का हवाला देते हुए @TheMossadIL ने ट्वीट किया कि अगर इस ट्वीट को स्वरा भास्कर के ट्वीट से अधिक लाइक मिलते हैं, तो वे भारतीय अभिनेत्री को एक स्पेशल ‘पॉकेट रॉकेट’ भेजेंगे।

स्वप्ना पाटकर के ट्वीट हटाने के लिए कोर्ट पहुँचे संजय राउत: प्रताड़ना का आरोप लगा PM को भी महिला ने लिखा था पत्र

संजय राउत ने उन सभी ट्वीट्स को हटाने का निर्देश देने की गुहार कोर्ट से लगाई है जिसमें स्वप्ना पाटकर ने उन पर आरोप लगाए हैं।

उद्धव ठाकरे की जाएगी कुर्सी, शरद पवार खुद बनना चाहते हैं CM? रिपोर्ट से महाराष्ट्र सरकार के गिरने के कयास

बताया जा रहा है कि उद्धव ठाकरे को मुख्यमंत्री बनाकर अब शरद पवार पछता रहे हैं। उन्हें यह 'भारी भूल' लग रही है।

बंगाल के नतीजों पर नाची, हिंसा पर होठ सिले: अब ममता ने मीडिया को दी पॉजिटिव रिपोर्टिंग की ‘हिदायत’

विडंबना यह नहीं कि ममता ने मीडिया को चेताया है। विडंबना यह है कि उनके वक्तव्य को छिपाने की कोशिश भी यही मीडिया करेगी।

मोदी से घृणा के लिए वे क्या कम हैं जो आप भी उसी जाल में उलझ रहे: नैरेटिव निर्माण की वामपंथी चाल को समझिए

सच यही है कि कपटी कम्युनिस्टों ने हमेशा इस देश को बाँटने का काम किया है। तोड़ने का काम किया है। झूठ को, कोरे-सफेद झूठ को स्थापित किया है।

प्रचलित ख़बरें

मुस्लिम वैज्ञानिक ‘मेजर जनरल पृथ्वीराज’ और PM वाजपेयी ने रचा था इतिहास, सोनिया ने दी थी संयम की सलाह

...उसके बाद कई देशों ने प्रतिबन्ध लगाए। लेकिन वाजपेयी झुके नहीं और यही कारण है कि देश आज सुपर-पावर बनने की ओर अग्रसर है।

‘इस्लाम को रियायतों से आज खतरे में फ्रांस’: सैनिकों ने राष्ट्रपति को गृहयुद्ध के खतरे से किया आगाह

फ्रांसीसी सैनिकों के एक समूह ने राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को खुला पत्र लिखा है। इस्लाम की वजह से फ्रांस में पैदा हुए खतरों को लेकर चेताया है।

‘#FreePalestine’ कैम्पेन पर ट्रोल हुई स्वरा भास्कर, मोसाद के पैरोडी अकाउंट के साथ लोगों ने लिए मजे

स्वरा के ट्वीट का हवाला देते हुए @TheMossadIL ने ट्वीट किया कि अगर इस ट्वीट को स्वरा भास्कर के ट्वीट से अधिक लाइक मिलते हैं, तो वे भारतीय अभिनेत्री को एक स्पेशल ‘पॉकेट रॉकेट’ भेजेंगे।

टिकरी बॉर्डर पर किसानों के टेंट में गैंगरेप: पीड़िता से योगेंद्र यादव की पत्नी ने भी की थी बात, हरियाणा जबरन ले जाने की...

1 मई को पीड़िता के पिता भी योगेंद्र यादव से मिले थे। बताया कि ये सब सिर्फ कोविड के कारण नहीं हुआ है। फिर भी चुप क्यों रहे यादव?

उद्धव ठाकरे का कार्टून ट्विटर को नहीं भाया, ‘बेस्ट CM’ के लिए कार्टूनिस्ट को भेजा नोटिस

महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे का कार्टून बनाने के लिए ट्विटर ने एक कार्टूनिस्ट को नोटिस भेजा है। जानिए, पूरा मामला।

‘हिंदू बम, RSS का गेमप्लान, बाबरी विध्वंस जैसा’: आज सेंट्रल विस्टा से सुलगे लिबरल जब पोखरण पर फटे थे

आज जिस तरह सेंट्रल विस्टा पर प्रोपेगेंडा किया जा रहा है, कुछ वैसा ही 1998 में परमाणु परीक्षणों पर भी हुआ था। आज निशाने पर मोदी हैं, तब वाजपेयी थे।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,391FansLike
92,443FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe