Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाजबुर्का पहनी महिलाएँ बरसा रहीं पत्थर, दंगाई दाग रहे गोली: उस भीड़ का Video...

बुर्का पहनी महिलाएँ बरसा रहीं पत्थर, दंगाई दाग रहे गोली: उस भीड़ का Video जिसने ली रतनलाल की जान

यह विडियो 24 फरवरी का चॉंदबाग इलाके का बताया जा रहा। इसी भीड़ की हिंसा में डीसीपी अमित शर्मा अमित शर्मा बुरी तरह जख्मी हो गए थे। इसी दिन मोहम्मद शाहरुख ने पुलिसकर्मी पर पिस्टल तानी थी। इस घटना के बाद ही अंकित शर्मा की निर्मम हत्या हुई थी।

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों के कई विडियो सोशल मीडिया में तैर रहे हैं। बुधवार (मार्च 4, 2020) को एक नया विडियो सामने आया। विडियो में दंगाई भीड़ दिल्ली पुलिस पर लाठी और पत्थर से हमला करती नजर आ रही है। दावा किया जा रहा है कि इसी भीड़ ने दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल की जान ली और इसी भीड़ के आतंक के कारण डीसीपी अमित शर्मा घायल हुए।

सोशल मीडिया पर इस विडियो को चाँदबाग इलाके का बताया जा रहा है, जिसे 24 फरवरी को शूट किया गया। विडियो में देखा जा सकता है कि पुलिस की कार्रवाई के बाद पहले वहाँ मौजूद भीड़ आगे की तरफ भागती है। लेकिन तभी दूसरी ओर से आई उपद्रवियों की भारी भीड़ पुलिस पर हमला कर देती है। भीड़ में शामिल बुर्का धारी महिलाएँ भी पुलिस पर हमला करते हुए नजर आती हैं। ध्यान से सुनने पर विडियो में गोली चलने की आवाजें भी सुनी जा सकती है।

उल्लेखनीय है कि इस विडियो के सामने आने से पहले एसीपी अनुज कुमार ने उस भीड़ की हिंसा के बारे में बताया था। उन्होंने भी कहा था, “24 तारीख की सुबह साढ़े 11 बजे और 12 बजे के आसपास की बात है। मेरी और रतनलाल और बाकी कर्मचारियों की ड्यूटी चाँदबाग मजार से 80-100 मीटर आगे थी। 23 को वहाँ पर वजीराबाद रोड को जाम किया गया था, जिसे देर रात को खुलवाया गया था। उस रास्ते को क्लियर रखने के निर्देश मिले थे।”

उन्होंने आगे बताया था कि उस दिन धीरे-धीरे काफी लोग जमा हो गए थे। महिलाएँ फ्रंट पर थीं। वजीराबाद रोड के पास जब वे आने लगे। तो हमने उन्हें समझाया। मगर वे लगातार आगे बढ़ते रहे। एसीपी अनुज ने भीड़ का हिंसक रूप याद करते हुए यहाँ तक बताया था कि उन्हें उस दिन यमुना विहार की तरफ भागकर अपनी जान बचानी पड़ी थी, क्योंकि अगर वह चांदबाग मजार की ओर जाते तो सीधे मार दिए जाते।

कई ख़बरों के मुताबिक, इसी हिंसा में आईपीएस अमित शर्मा बुरी तरह जख्मी हुए और उन्हें बचाने के लिए कॉन्स्टेबल रतनलाल बलिदान हो गए। इसी दिन मोहम्मद शाहरुख को भीड़ से निकलकर पुलिस पर गोली ताने देखा गया और फिर इसके अगले ही दिन अंकित शर्मा की निर्मम हत्या की खबर मीडिया में वायरल हो गई। यानी साफ है कि इन दंगों में हिंसक भीड़ के निशाने पर सिर्फ़ हिंदू नहीं थे, बल्कि वे सुरक्षा अधिकारी भी थे, जो लोगों के बचाव में या फिर उन्हें शांत करने सड़कों पर उतरे।

बता दें, इस हिंसा के मद्देनजर दिल्ली पुलिस अभी तक 531 केस दर्ज कर चुकी है। जिनमें से 47 केस आर्म एक्ट के तहत दर्ज किए गए हैं। फिलहाल, कई दंगाइयों के साथ-साथ दिल्ली पुलिस को इस समय ताहिर हुसैन की तलाश है। इस पूरी हिंसा में सरगना के तौर पर नाम उछलने के बाद पुलिस जगह-जगह उसकी धर पकड़ के लिए दबिश दे रही है। लोगों का आरोप है कि इस हिंसा में ताहिर की बहुत बड़ी भूमिका रही।

ताहिर हुसैन के निशाने पर पहले से थे IB के अंकित शर्मा, हत्या के वक्त बांग्लादेशी आतंकी भी थे मौजूद!

15 साल के राहुल का चेहरा दंगाइयों ने तेजाब से झुलसाया, पूछ रहा- अब कैसे दूॅंगा बोर्ड का एग्जाम

दिल्ली में मुस्लिमों को मार रहे हैं, मस्जिदों को तोड़ रहे हैं: उबर ड्राइवर ने ​हिंदू महिला को किया प्रताड़ित

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsदिल्ली हिंसा viral video, दिल्ली दंगा viral video, दिल्ली पुलिस viral video, दिल्ली पुलिस पर हमला, रतनलाल को किसने गोली मारी, रतनलाल पर हमला, डीसीपी अमित शर्मा पर हमला, पत्थरबाजी का viral video, अंकित शर्मा टार्गेट किलिंग, अंकित शर्मा की हत्या क्यों की गई, अंकित शर्मा बांग्लादेशी आतंकी, बांग्लादेशी आतंकी ताहिर हुसैन, हिंदू घृणा, अमेरिका में हिंदू निशाने पर, हिंदू प्रताड़ना, उबर हिंदूफोबिया, उबर ड्राइवर ने हिंदू को किया प्रताड़ित, उबर दिल्ली दंगा, ताहिर लास्ट लोकेशन, ता​हिर एफआईआर, ताहिर लुक आउट नोटिस, ताहिर हुसैन की तलाश में छापेमारी, ताहिर हुसैन सीसीटीवी फुटेज, ताहिर हुसैन अग्रिम जमानत याचिका, ताहिर हुसैन दिल्ली पुलिस, दिल्ली हिंदू विरोधी दंगा, नालों से मिले शव, दिल्ली नाला शव, दिल्ली मदरसा गुलेल, मदरसा गुलेल विडियो, शिव विहार, मुस्तफाबाद, अमर विहार, दिल्ली दंगे चश्मदीद, दिल्ली हिंसा चश्मदीद, दिल्ली हिंसा महिला, दिल्ली दंगों में कितने मरे, दिल्ली में कितने हिंदू मरे, मोहम्मद शाहरुख, जाफराबाद शाहरुख, शाहरुख फरार, ताहिर हुसैन आप, ताहिर हुसैन एफआईआर, ताहिर हुसैन अमानतुल्लाह, चांदबाग शिव मंदिर पर हमला, दिल्ली दंगा मंदिरों पर हमला, दिल्ली मंदिरों पर हमले, मंदिरों पर हमले, चांदबाग पुलिया, अरोड़ा फर्नीचर, ताहिर हुसैन के घर का तहखाना, अंकित शर्मा केजरीवाल, अंकित शर्मा ताहिर हुसैन, अंकित शर्मा का परिवार, दिल्ली शाहदरा, शाहदरा दिलबर सिंह, उत्तराखंड दिलवर सिंह, दिल्ली हिंसा में दिलवर सिंह की हत्या, रवीश कुमार मोहम्मद शाहरुख, रवीश कुमार अनुराग मिश्रा, रतनलाल, साइलेंट मार्च, यूथ अगेंस्ट जिहादी हिंसा, दिल्ली हिंसा एनडीटीवी, एनडीटीवी श्रीनिवासन जैन, एनडीटीवी रवीश कुमार, रवीश कुमार दिल्ली हिंसा, दिल्ली हिंसा में कितने मरे, दिल्ली दंगों में मरे, दिल्ली कितने हिंदू मरे, दिल्ली दंगों में आप की भूमिका, आप पार्षद ताहिर हुसैन, आप नेता ताहिर हुसैन, ताहिर हुसैन वीडियो, कपिल मिश्रा ताहिर हुसैन, आईबी कॉन्स्टेबल की हत्या, अंकित शर्मा की हत्या, चांदबाग अंकित शर्मा की हत्या, दिल्ली हिंसा विवेक, विवेक ड्रिल मशीन से छेद, विवेक जीटीबी अस्पताल, विवेक एक्सरे, दिल्ली हिंदू युवक की हत्या, दिल्ली विनोद की हत्या, दिल्ली ब्रहम्पुरी विनोद की हत्या, दिल्ली हिंसा अमित शाह, दिल्ली हिंसा केजरीवाल, दिल्ली पुलिस, दिल्ली पुलिस रतनलाल, हेड कांस्टेबल रतनलाल, रतनलाल का परिवार, छत्तीसिंह पुरा नरसंहार, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली हिंसा, करावल नगर, जाफराबाद, मौजपुर, गोकलपुरी, शाहरुख, कांस्टेबल रतनलाल की मौत, दिल्ली में पथराव, दिल्ली में आगजनी, दिल्ली में फायरिंग, भजनपुरा, दिल्ली सीएए हिंसा
ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस के चुनावी चोचले ने KSRTC का भट्टा बिठाया, ₹295 करोड़ का घाटा: पहले महिलाओं के लिए बस सेवा फ्री, अब 15-20% किराया बढ़ाने...

कर्नाटक में फ्री बस सेवा देने का वादा करना कॉन्ग्रेस के लिए आसान था लेकिन इसे लागू करना कठिन। यही वजह है कि KSRTC करोड़ों के नुकसान में है।

‘बैकफुट पर आने की जरूरत नहीं, 2027 भी जीतेंगे’: लोकसभा चुनावों के बाद हुई पार्टी की पहली बैठक में CM योगी ने भरा जोश,...

लोकसभा चुनावों के बाद पहली बार भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की लखनऊ में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -