Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाजसाफ हवा में साँस लेना अधिकार, प्रदूषण के लिए आप जिम्मेदार: दिल्ली की जहरीली...

साफ हवा में साँस लेना अधिकार, प्रदूषण के लिए आप जिम्मेदार: दिल्ली की जहरीली हवा पर हाई कोर्ट ने लगाई फटकार

हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार के वन विभाग के प्रमुख सचिव से कहा है कि आपकी वजह से हम ऐसी खराब हवा में साँस लेने के लिए मजबूर हैं। यह आपकी जिम्मेदारी है कि AQI का स्तर नीचे आए।

दिल्ली-एनसीआर फिर दमघोंटू प्रदूषण की चपेट में है। दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 343 है। दिल्ली हाई कोर्ट ने प्रदूषण की स्थिति के लिए वन विभाग को जिम्मेदार ठहराया है। साथ ही कहा है कि साफ हवा में साँस लेना दिल्ली वालों का अधिकार है।

हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार के वन विभाग के प्रमुख सचिव से कहा है कि आपकी वजह से हम ऐसी खराब हवा में साँस लेने के लिए मजबूर हैं। यह आपकी जिम्मेदारी है कि AQI का स्तर नीचे आए। न्यायाधीश जसमीत सिंह ने दिल्ली में नया वन क्षेत्र विकसित करने और विभाग के खाली पड़े पदों को भरने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि हवा की गुणवत्ता खराब होने के कारण बच्चे अस्थमा से जूझ रहे हैं। उन्हें साँस लेने में समस्य हो रही है। दिल्ली सरकार की नाक की नीचे रिज क्षेत्र में अतिक्रमण हो रहा है।

गौरतलब है कि ठंड का मौसम आते ही दिल्ली की हवा की गुणवत्ता फिर से खराब हो गई है। हवा में प्रदूषण को मापने वाले AQI पर दिल्ली के अधिकांश इलाके लगातार खराब स्थिति में हैं। दिल्ली की हवा का AQI स्तर औसतन 300 के ऊपर बना हुआ है जो कि स्वास्थ्य के लिए घातक है।

दिल्ली के आनंद विहार इलाके में AQI का स्तर 400 से ऊपर है, जबकि पटपड़गंज जैसे इलाकों में यह 350 से अधिक है। इस तरह की हवा केवल साँस के रोगियों के लिए ही नहीं, बल्कि सामान्य मनुष्यों के फेफड़ों के लिए भी काफी खतरनाक है।

दिल्ली और आसपास के इलाकों की हवा की गुणवत्ता खराब होती जा रही है।
दिल्ली और आसपास के इलाकों की हवा की गुणवत्ता खराब होती जा रही है। (चित्र साभार: Google Maps)

दिल्ली की आम आदमी पार्टी (AAP_ सरकार प्रदूषण की इस समस्या से निपटने में अब तक नाकाम रही है। पहले वह दिल्ली में प्रदूषण बढ़ने का जिम्मा पंजाब-हरियाणा या फिर दिल्ली की एमसीडी पर डाल देती थी .लेकिन अब एमसीडी और पंजाब, दोनों में ही आम आदमी पार्टी सत्ता में है। दिल्ली सरकार ने अब प्रदूषण को नियंत्रित करने में हाथ खड़े कर दिए हैं

दिल्ली की तरह पंजाब में भी हवा की गुणवत्ता लगातार खराब हो रही है। पंजाब में पराली जलाने की घटनाओं को रोकने में पंजाब की भगवंत मान की सरकार अक्षम है। एक रिपोर्ट के अनुसार, पंजाब में इस सीजन अब तक पराली जलाने की 9594 घटनाएँ सामने आ चुकी हैं। इसी कड़ी 1 नवम्बर 2023 ही 1921 पराली जलाने की घटनाएँ सामने आईं।

संगरूर, तरनतारन, फजिल्का और संगरूर जैसे जिलों में लगातार पराली जलाने की घटनाएँ हो रही हैं। लेकिन पंजाब सरकार उन्हें रोक नहीं पा रही है। बठिंडा, लुधियाना और अमृतसर जैसे शहरों में AQI 200 के पार हो गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -