Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-समाज'मंत्री सत्येंद्र जैन ने मुझसे वसूली ₹10 करोड़ प्रोटेक्शन मनी': दिल्ली के LG ने...

‘मंत्री सत्येंद्र जैन ने मुझसे वसूली ₹10 करोड़ प्रोटेक्शन मनी’: दिल्ली के LG ने कार्रवाई के लिए मुख्य सचिव को भेजा सुकेश का पत्र, इसमें AAP को ₹50 Cr देने की बात भी

एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि उप-राज्यपाल ने पत्र का संज्ञान लिया है। अधिकारी ने बताया, "हमने उस पत्र को आगे की आवश्यक कार्रवाई के लिए 18 अक्टूबर को दिल्ली के मुख्य सचिव को भेज दिया था।"

महाठग सुकेश चंद्रशेखर (Sukesh Chandrashekhar) ने मनी लॉन्ड्रिंग केस में जेल में बंद दिल्ली की आम आदमी पार्टी (AAP) सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendar Jain) को लेकर सनसनीखेज दावा किया था। उसने दिल्ली के उप-राज्यपाल को चिट्ठी लिखकर बताया था कि जैन उससे मिलने तिहाड़ जेल में आते थे और ‘प्रोटेक्शन मनी’ के तौर पर उससे 10 करोड़ रुपए लिए थे। द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, इस पत्र को दिल्ली के उप-राज्यपाल वी के सक्सेना ने कार्रवाई के लिए मुख्य सचिव को भेज दिया था।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि उप-राज्यपाल ने पत्र का संज्ञान लिया है। अधिकारी ने बताया, “हमने उस पत्र को आगे की आवश्यक कार्रवाई के लिए 18 अक्टूबर को दिल्ली के मुख्य सचिव को भेज दिया था।” वर्तमान में दिल्ली की मंडोली जेल में बंद चंद्रशेखर ने 10 अक्टूबर को उप-राज्यपाल को लिखा था और दावा किया था कि उन्होंने न केवल जैन को, बल्कि आम आदमी पार्टी को भी 50 करोड़ रुपये का भुगतान किया क्योंकि उसे दक्षिण भारत में पार्टी में एक महत्वपूर्ण पद देने का वादा किया गया था। ।

महाठग के लिखा था, “2017 में मेरी गिरफ्तारी के बाद दिल्ली की तिहाड़ जेल में कई बार सत्येंद्र जैन मुझसे मिलने आए थे।” सुकेश चंद्रशेखर ने पत्र में लिखा है कि 2019 में सत्येंद्र के पीए ने उसे जेल के अंदर सभी बुनियादी सुविधाएँ प्राप्त करने के लिए प्रोटेक्शन राशि के रूप में हर महीने 2 करोड़ रुपए देने को कहा था। उस वक्त जैन के पास जेल विभाग का जिम्मा था। बताया जा रहा है कि जेल में बैठकर लिखे गए इस पत्र को सुकेश ने अपने वकील अनंत मलिक के जरिए भेजा था।

बता दें कि जब सुकेश ने सत्येन्द्र जैन को कथित तौर पर 10 करोड़ रुपए प्रोटेक्शन मनी के तौर देने की बात कही है, वह उस वक्त तिहाड़ की रोहिणी जेल में बंद था। उसने वहाँ जमकर करोड़ों रुपये रिश्वत के तौर पर खर्च किए। इसी वजह से जेल के एक-दो नहीं, बल्कि पूरे 82 अफसरों और कर्मचारियों पर गाज गिरी थी।

आरोप है कि सुकेश ने एक करोड़ रुपए महीना देकर जेल के अंदर मौजूद पूरे स्टाफ और जेलर को भी अपनी सेवा में लगा रखा था। वो 12 महीनों तक रोहिणी जेल में बंद था और और तब तक वो जेल को 12 करोड़ रुपए रिश्वत के तौर पर दे चुका था। इस पूरे खेल में रोहिणी जेल के 82 अफसर और कर्मचारी शामिल थे। सुकेश को इस साल अगस्त में तिहाड़ से दिल्ली की मंडोली जेल में स्थानांतरित किया गया था, क्योंकि उसने दावा किया था कि उसे तिहाड़ जेल के अंदर जान से मारने की धमकी मिली है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -