Thursday, July 29, 2021
Homeदेश-समाजमुस्लिम बहुल इलाके के काली मंदिर में देवी प्रतिमा के साथ की गई तोड़फोड़,...

मुस्लिम बहुल इलाके के काली मंदिर में देवी प्रतिमा के साथ की गई तोड़फोड़, स्थिति तनावपूर्ण

काली मंदिर मुस्लिम बहुल इलाके में स्थित था, जहाँ माता की प्रतिमा हाथी पर रखी गई थी। लेकिन, देर रात किसी अराजक तत्व ने प्रतिमा का हाथ व हाथी की सूड़ को तोड़कर पूरी मूर्ति को खंडित कर दिया। सुबह होते-होते इसकी भनक लोगों को लगनी शुरू हुई, तो वहाँ स्थिति बिगड़ने लगी।

उत्तरप्रदेश के देवरिया थाना क्षेत्र के मदिरा पाली भरत राय में सोमवार (सितंबर 9, 2019) को काली मंदिर में देवी की प्रतिमा को अराजक तत्वों द्वारा खंडित कर दिया गया। जिसका पता चलते ही मंगलवार (सितंबर 10, 2019) को इलाके में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई। घटना की सूचना मिलने पर वहाँ डीएम एवं एसपी बड़ी संख्या में पुलिस बल के साथ पहुँचे और तत्काल देवी की मूर्ति को ठीक करवाया गया। सुरक्षा के लिहाज से इलाके में पुलिस बल को भी तैनात किया गया।

जानकारी के अनुसार ये काली मंदिर मुस्लिम बहुल इलाके में स्थित था, जहाँ माता की प्रतिमा हाथी पर रखी गई थी। लेकिन, देर रात किसी अराजक तत्व ने प्रतिमा का हाथ व हाथी की सूड़ को तोड़कर पूरी मूर्ति को खंडित कर दिया। सुबह होते-होते इसकी भनक लोगों को लगनी शुरू हुई, तो वहाँ स्थिति बिगड़ने लगी।

जागरण में प्रकाशित खबर का स्क्रीनशॉट

कुछ ग्रामीणों द्वारा इस घटना की सूचना पुलिस को दी गई। जिसके बाद वहाँ पुलिस अधिकारी पहुँचे और दोनों पक्षों के लोगों को समझाने का प्रयास किया। इसी दौरान डीएम अमित किशोर व एसपी डॉ श्रीपति मिश्र ने भी लोगों को समझाने की कोशिश की। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने अपनी मौजूदगी में ही मिस्त्री को बुलवाया और मूर्ति को ठीक करवाने का कार्य संपन्न करवाया।

हालाँकि, पुलिस की मानें तो उनके मुताबिक मूर्ति में हाथी की सूड़ टूट गई थी, जिसे उन्होंने सही करवा दिया है। अब दोनों पक्षों के बीच बात भी करवा दी गई हैं, जिससे किसी प्रकार के तनाव की स्थिति नहीं है। खबरों की मानें तो डीएम और एसपी से वहाँ चहारदीवारी बनाकर गेट लगाने की माँग की गई है।

मामला न्यायालय में चल रहा है, जिसके कारण अधिकारी भी इसपर टिप्पणी करने से बच रहे हैं। लेकिन फिलहाल दोनों पक्षों में शांति कमेटी बना दी गई हैं, जिसमें हिंदू समुदाय के 5 लोग और मुस्लिम समुदाय के 5 लोगों को शामिल किया गया हैं। ये लोग मंदिर की सुरक्षा के अलाव गाँव के हर त्यौहार में शांति बनाए रखने पर काम करेंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना से अनाथ हुई लड़कियों के विवाह का खर्च उठाएगी योगी सरकार: शादी से 90 दिन पहले/बाद ऐसे करें आवेदन

योजना का लाभ पाने के लिए लड़कियाँ खुद या उनके माता/पिता या फिर अभिभावक ऑफलाइन आवेदन करेंगे। इसके साथ ही कुछ जरूरी दस्तावेज लगाने आवश्यक होंगे।

बंगाल की गद्दी किसे सौंपेंगी? गाँधी-पवार की राजनीति को साधने के लिए कौन सा खेला खेलेंगी सुश्री ममता बनर्जी?

ममता बनर्जी का यह दौरा पानी नापने की एक कोशिश से अधिक नहीं। इसका राजनीतिक परिणाम विपक्ष को एकजुट करेगा, इसे लेकर संदेह बना रहेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,802FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe