Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाजमहाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख के आवास पर छापा, ₹4 करोड़ की उगाही...

महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख के आवास पर छापा, ₹4 करोड़ की उगाही के मामले में ED ने की कार्रवाई, 2 गिरफ्तार

दो सहयोगियों- संजीव पलांडे, देशमुख के निजी सचिव और निजी सहायक कुंदन शिंदे को लगभग नौ घंटे की गहन पूछताछ के बाद धन शोधन निवारण अधिनियम (PMLA) के प्रावधानों के तहत गिरफ्तार किया गया था।

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने शनिवार (जून 26, 2021) को महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री और एनसीपी नेता अनिल देशमुख के दो करीबी सहयोगियों को 100 करोड़ रुपए की रंगदारी और मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार किया

रिपोर्ट्स के मुताबिक, दो सहयोगियों- संजीव पलांडे, देशमुख के निजी सचिव और निजी सहायक कुंदन शिंदे को लगभग नौ घंटे की गहन पूछताछ के बाद धन शोधन निवारण अधिनियम (PMLA) के प्रावधानों के तहत गिरफ्तार किया गया था।

प्रवर्तन निदेशालय ने कहा कि दो लोगों को गिरफ्तार किया गया क्योंकि वे मनी लॉन्ड्रिंग मामले में अनिल देशमुख के खिलाफ चल रही जाँच में जाँच एजेंसी के साथ सहयोग करने में विफल रहे। केंद्रीय जाँच एजेंसी द्वारा शुक्रवार (जून 25, 2021) को नागपुर और मुंबई में अनिल देशमुख के आवास पर छापेमारी के बाद गिरफ्तारियाँ हुईं। ईडी के मुताबिक पाँच जगहों पर छापेमारी की गई। कथित तौर पर, अधिकारियों ने देशमुख के कार्यालयों, एक मुंबई में और दूसरा नागपुर में छापा मारा था।

ED ने 4 करोड़ रुपए की रंगदारी का पता लगाकर छापेमारी की

ईडी के करीब आठ अधिकारी शुक्रवार शाम 7.30 बजे केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवानों की एक टीम के साथ देशमुख के आवास पर पहुँचे और तलाशी शुरू की। ईडी अधिकारियों ने अपनी तलाशी जारी रखते हुए किसी को भी आवास में प्रवेश करने या बाहर निकलने से रोक दिया।

ईडी ने मुंबई में लगभग 10 बार मालिकों द्वारा तत्कालीन गृह मंत्री देशमुख को तीन महीने में कथित रूप से भुगतान किए गए 4 करोड़ रुपए की मनी ट्रेल स्थापित करने के बाद अनिल देशमुख के आवास पर छापा मारा था। नए सबूतों के आधार पर, ईडी ने देशमुख के आवास और उनके निजी सहायक कुंदन शिंदे और निजी सचिव संजीव पलांडे के परिसरों सहित इन स्थानों पर तलाशी ली थी।

इससे पहले 11 मई को प्रवर्तन निदेशालय ने महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया था। बॉम्बे हाईकोर्ट द्वारा एनसीपी नेता के खिलाफ मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परम बीर सिंह द्वारा लगाए गए 100 करोड़ रुपए के रिश्वत के आरोपों की सीबीआई जाँच के आदेश के बाद अनिल देशमुख ने अप्रैल में महाराष्ट्र के गृह मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe