Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजवायनाड में मिला माओवादियों का प्लांट किया हुआ विस्फोट उपकरण, लोकसभा चुनाव के बहिष्कार...

वायनाड में मिला माओवादियों का प्लांट किया हुआ विस्फोट उपकरण, लोकसभा चुनाव के बहिष्कार का भी किया था ऐलान: राहुल गाँधी ने बहन के लिए खाली की है सीट

इस विस्फोटक उपकरण को मक्किमला नाम एक गाँव में पाया गया, जो थालाप्पुझा थाना क्षेत्र अंतर्गत पड़ता है। केरल पुलिस की इलीट फ़ोर्स 'थंडरबोल्ट' के कॉम्बिंग ऑपरेशन के दौरान इसे पाया गया।

केरल के वायनाड के एक पहाड़ी गाँव से माओवादियों द्वारा लगाया गया विस्फोटक उपकरण जब्त हुआ है। वहाँ अक्सर माओवादियों की आवाजाही की सूचना मिलती रही है। पुलिस ने मंगलवार (25 जून, 2024) को ये जानकारी दी है। इस विस्फोटक उपकरण को मक्किमला नाम एक गाँव में पाया गया, जो थालाप्पुझा थाना क्षेत्र अंतर्गत पड़ता है। केरल पुलिस की इलीट फ़ोर्स ‘थंडरबोल्ट’ के कॉम्बिंग ऑपरेशन के दौरान इसे पाया गया, जिसके बाद आशंका है कि माओवादी वहाँ सक्रिय हैं।

स्थानीय मीडिया की खबरों में इसे लैंडमाइन भी बताया गया है, लेकिन पुलिस ने इसकी पुष्टि नहीं की है। हालाँकि, इस विस्फोटक उपकरण को न्यूट्रलाइज कर दिया गया है। पश्चिमी घाट के कबानीदलम में अक्सर माओवादियों की आवाजाही रिपोर्ट की जाती रही है। कम्बामाला जंगल के क्षेत्रों में पिछले महीने केरल पुलिस और माओवादियों के बीच मुठभेड़ भी हुई थी। अक्टूबर 2023 में इसी मक्किमला में एक रिजॉर्ट में बड़ी संख्या में नक्सलियों ने शरण ली थी।

इन माओवादियों ने न सिर्फ रिजॉर्ट के मैनेजर के मोबाइल फोन को छीन लिया था, बल्कि उसी फोन का इस्तेमाल कर के मीडिया को एस्टेट के कामगारों की तथाकथित समस्याओं का विवरण भी भेजा था। इसी साल अप्रैल में चाय के बागान में काम कर रहे मजदूरों से बात करते हुए हथियारबंद माओवादियों की तस्वीरें भी सामने आई थीं। इनका नेता CP मोइद्दीन था। इन्होंने इन कामगारों से लोकसभा चुनाव 2024 का बहिष्कार करने के लिए भी कहा था।

बता दें कि 2019 में राहुल गाँधी ने केरल के वायनाड से भी चुनाव लड़ा था, उत्तर प्रदेश के अमेठी से वो हार गए थे। मुस्लिम बहुल वायनाड में IUML के साथ गठबंधन के कारण उनकी इज्जत बची। इस बार उन्होंने रायबरेली और वायनाड दोनों सीटों से जीत दर्ज की, फिर वायनाड खाली कर दिया। अब वहाँ से प्रियंका गाँधी लड़ेंगी। इस तरह कॉन्ग्रेस उत्तर और दक्षिण भारत में एक-एक गाँधी को रख कर अगले 5 साल के लिए राजनीतिक जमीन तैयार कर रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जगन्नाथ मंदिर के ‘रत्न भंडार’ और ‘भीतरा कक्ष’ में क्या-क्या: RBI-ASI के लोगों के साथ सँपेरे भी तैनात, चाबियाँ खो जाने पर PM मोदी...

कहा जाता है कि इसकी चाबियाँ खो गई हैं, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सवाल उठाया था। राज्य में भाजपा की पहली बार जीत हुई है, वर्षों से यहाँ BJD की सरकार थी।

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पालिताना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -