Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजहिन्दू लड़की को फँसाने के लिए इंस्टाग्राम पर आदिल बन गया 'आर्य पटेल', जमानत...

हिन्दू लड़की को फँसाने के लिए इंस्टाग्राम पर आदिल बन गया ‘आर्य पटेल’, जमानत याचिका ख़ारिज कर बोला कोर्ट – ये आज की पीढ़ी के लिए आँख खोलने वाला मामला

कोर्ट ने माना है कि आदिल अब्दुल पटेल ने एक योजना के तहत फर्जी आईडी बनाई और हिंदू लड़की को फँसाया। करीब चार साल तक उसने ऐसा किया। अगर आदिल को जमानत पर छोड़ दिया जाता है, तो इससे समाज में गलत संदेश जाएगा।

भरुच लव जिहाद मामले में सेशन कोर्ट ने आदिल अब्दुल पटेल की जमानत याचिका खारिज कर दी है। करीब तीन माह पहले आदिल अब्दुल पटेल को पकड़ा गया गया था। इस मामले में कोर्ट ने जमानत याचिका खारिज करते हुए इसे ‘आज की पीढ़ी की लिए आँख खोल देने वाला केस’ बताया है। कोर्ट ने माना है कि आदिल अब्दुल पटेल ने एक योजना के तहत फर्जी आईडी बनाई और हिंदू लड़की को फँसाया। करीब चार साल तक उसने ऐसा किया। अगर आदिल को जमानत पर छोड़ दिया जाता है, तो इससे समाज में गलत संदेश जाएगा।

ये मामला जनवरी में सामने आया था। जब भरुच की लड़की ने चावज गाँव के आदिल अब्दुल पटेल की बदमाशी को पकड़ा था, जो उसे 4 साल से गलत नाम-पहचान के साथ प्रेम संबंध रखे हुए था। लेकिन जब लड़की को सच्चाई का पता चला, तो वो उसके गाँव पहुँच गई और आदिल को जमकर पीटने के बाद पुलिस के हवाले कर दिया था। इसके बाद भरूच ग्रामीण पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज हुई थी और आदिल को गिरफ्तार कर लिया गया था। इस मामले में पुलिस चार्जशीट दाखिल कर चुकी है।

आदिल ने मार्च 2024 में जमानत याचिका दाखिल की थी। आदिल ने दावा किया कि उसे फंसाने के लिए फर्जी शिकायत दर्ज कराई गई है। ऐसे में जब चार्जशीट दाखिल हो चुकी है, तो उसे जमानत दे दी जाए। उधर, सरकारी वकील ने जमानत अर्जी का विरोध किया। मामले की जानकारी देते हुए बताया गया कि आदिल ने इंस्टाग्राम पर गलत आईडी बनाकर लड़की से दोस्ती की और मुस्लिम होने के बावजूद खुद को हिंदू युवक ‘आर्य पटेल’ बताया। इतना ही नहीं, सहानुभूति पाने के लिए उनके साथ रहने के बावजूद उसने यह झूठ भी फैलाया कि उसके माता-पिता की सालों पहले एक एक्सीडेंट में मौत हो गई थी।

सरकारी वकील ने कहा कि ऐसे आरोपितों की कार्यप्रणाली पर विचार किया जाना चाहिए। अगर उसे जमानत पर रिहा किया गया तो वह दोबारा यह हरकत कर सकता है और अन्य मासूम लड़कियाँ भी इसका शिकार बन सकती हैं। साथ ही यह भी तर्क दिया गया कि चूँकि आरोपित और पीड़िता दोनों एक ही गाँव के हैं, इसलिए रिहा होने पर आरोपित सबूतों से छेड़छाड़ कर सकते हैं। सरकार की दलील थी कि आरोपी ने गंभीर अपराध किया है और ऐसी हरकत दोबारा न हो, इसके लिए समाज में कड़ा संदेश देने की जरूरत है।

कोर्ट ने माना-आदिल ने फर्जी आईडी बनाई

दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने कहा कि वे मामले की खूबियों पर नहीं जा रहे हैं और सबूतों पर चर्चा करने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि इस पर सुनवाई के दौरान चर्चा की जाएगी। लेकिन रिकॉर्ड पर उपलब्ध सामग्री के आधार पर यह स्पष्ट है कि आरोपित ने गलत आईडी बनाकर पीड़ित से संपर्क किया था। कोर्ट ने साफ कहा कि व्यक्तिगत रूप से मिलने के बाद भी आरोपित ने अपना असली नाम बताने के बजाय अपनी पहचान ‘आर्य पटेल’ बताई।

कोर्ट ने कहा, “आरोपित पहले से ही पीड़िता को गुमराह कर रहा था और उसने उसे प्रपोज किया था, जबकि वह शादीशुदा था और अपनी पत्नी के साथ रह रहा था। दोनों पहले एक-दूसरे को नहीं जानते थे और आरोपित ने पीड़िता से संपर्क करने के लिए गलत नाम अपनाया और कुछ हद तक सफल रहा। इस तरह के कृत्य की निंदा की जानी चाहिए।”

रिहा किया गया तो ऐसे तत्वों को बढ़ावा मिलेगा: कोर्ट

कोर्ट ने कहा कि आदिल की कार्यप्रणाली को देखते हुए भी अगर उसे जमानत दे दी जाती है, तो ऐसा करने वालों को प्रोत्साहन मिले। वहीं, अगर इस आरोपित को बरी कर दिया जाता है, तो इससे उन तत्वों को लाइसेंस मिल जाएगा जो मासूम लड़कियों का शोषण करने का मौका तलाश रहे हैं।

कोर्ट ने यह भी कहा, ”इस मामले में आरोपी ने न सिर्फ दूसरे धर्म की पीड़िता की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया है बल्कि अपनी पत्नी के साथ भी गलत किया है।” कोर्ट ने इस केस पर टिप्पणी करते हुए कहा, “यह मामला आज की पीढ़ी के लिए आँखें खोलने वाला हो सकता है, जो दूसरे व्यक्ति के बारे में कुछ भी जाने बिना बिना सोचे-समझे सोशल मीडिया पर ऐसे प्रपोजल एक्सेप्ट कर लेते हैं।”

अदालत के आदेश की कॉपी

दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने साक्ष्यों, आरोपित की कार्यप्रणाली और तथ्यों पर विचार करते हुए जमानत अर्जी खारिज कर दी। आदिल अभी भी जेल में रहेगा। यह आदेश 26 मार्च को दिया गया था। कोर्ट के आदेश की कॉपी ऑपइंडिया के पास मौजूद है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अब सरकार की हो गई माफिया अतीक अहमद की ₹50 करोड़ की प्रॉपर्टी, किसानों-गरीबों को धमका कर किया था अवैध कब्ज़ा

उत्तर प्रदेश में ऑपरेशन माफिया के तहत चल रही कार्रवाई में कमिश्नरेट पुलिस प्रयागराज और राज्य सरकार ने बड़ी सफलता हासिल की है। माफिया अतीक अहमद की करीब 50 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति अब राज्य सरकार की हो गई है।

‘रुक जाएगा विकास’: कर्नाटक सरकार के 75% आरक्षण वाले बिल से डरा IT कंपनियों का सबसे बड़ा समूह, CM नायडू के मंत्री बेटे ने...

IT कंपनियों के सबसे बड़े संघ ने कहा कि स्थानीय प्रतिभाओं की कमी होने के कारण कंपंनियों को किसी अन्य राज्य का रुख करने को मजबूर होना पड़ सकता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -