Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजदेश में पहली बार... फेक न्यूज फैलाने वालों पर FIR: जामिया नगर, सीलमपुर हिंसा...

देश में पहली बार… फेक न्यूज फैलाने वालों पर FIR: जामिया नगर, सीलमपुर हिंसा में 100 लोग पुलिस की रडार पर

सीलमपुर में कम से कम 12 ऐसे व्हॉट्सऐप ग्रुप थे, जिन्हें स्थानीय लोगों द्वारा संचालित किया जा रहा था और जिसमें इंटरनेट से सामग्री कॉपी पेस्ट करके ये संदेश दिया जा रहा था कि पुलिस पर पलटकर हमला करें।

बीते दिनों देश भर में नागरिकता संशोधन कानून के ख़िलाफ़ भड़की हिंसा के पीछे सोशल मीडिया एक बड़ा कारण रहा। लोगों ने इस प्लेटफॉर्म का इस बीच जमकर इस्तेमाल (गलत संदर्भों में) किया और सीएए के खि़लाफ़ लोगों को भड़काने के लिए फर्जी न्यूज फैलाई। अब ऐसी स्थिति में दिल्ली पुलिस ने नागरिकता कानून के बारे में सोशल मीडिया पर दुष्प्रचार कर रहे लोगों पर लगाम कसने के लिए इस पर बड़ा एक्शन लिया और आरोपितों की शिनाख्त की। दिल्ली पुलिस ने इस पूरे मामले में अब तक 100 ऐसे अकाउंट्स की पहचान की है, जिन्होंने विरोध प्रदर्शन से पहले न केवल सोशल मीडिया पर फेक न्यूज फैलाई बल्कि हिंसा करवाने और दंगे भड़काने का भी काम किया। ऐसा पहली बार हो रहा है कि पुलिस फेक न्यूज फैलाने वालों पर आईटी एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज कर रही है।

गौरतलब है कि पुलिस की रडार में इस समय वे लोग भी हैं, जिन्होंने गैरकानूनी रूप से लोगों को एकत्रित किया और उनको भड़काने का काम किया। खबरों के मुताबिक पुलिस ने फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर आदि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को पत्र लिखा है ताकि वे उन 70 अकॉउंट्स को ब्लॉक कर दें, जिन्होंने अपुष्ट खबरों की सच्चाई जाने बिना उसे फैलाने का काम किया और बाद में व्हॉट्सऐप के जरिए प्रदर्शनकारियों को भड़काया। पुलिस का मानना है कि इन्हीं संदेशों के कारण दिल्ली के जामिया नगर और अन्य इलाकों में हिंसा फैली।

अपनी जाँच में पुलिस ने पाया कि सीलमपुर में कम से कम 12 ऐसे व्हॉट्सऐप ग्रुप थे, जिन्हें स्थानीय लोगों द्वारा संचालित किया जा रहा था और जिसमें इंटरनेट से सामग्री कॉपी पेस्ट करके ये संदेश दिया जा रहा था कि पुलिस पर पलटकर हमला करें।

इसके अलावा कई वेबसाइट भी फेक तस्वीर और स्टोरी शेयर करते पुलिस की नजर में आई हैं। इस संदर्भ में पुलिस ने उनके मालिक पर मामला दर्ज किया है। पुलिस ने एजेंसियों ने अपील की है कि वे इस तरह की वेबसाइट्स को ब्लॉक करें।

जानकारी के अनुसार, जामिया नगर में हुई हिंसा के पीछे सोशल मीडिया का बड़ा हाथ था। क्योंकि यहाँ कुछ लोगों ने व्हॉट्सएप के जरिए अफवाह उड़ा दी थी कि पुलिस प्रदर्शनकारियों को जान से मार रही है और हॉस्टल में घुसकर पीट रही है। यही वो कारण था, जिससे लोग जामिया नगर में सड़कों पर उतर आए। वहीं सीलमपुर में भी किसी ने यूट्यूब की एक फर्जी वीडियो को सर्कुलेट कर दिया था, जिसमें प्रदर्शनकारियों के ऊपर पुलिस की बर्बता दिख रही थी। इसके अलाव दरियागंज में हुए दंगों में भी 10,000 लोगों की भीड़ को व्हॉट्सऐप और फेसबुक के जरिए ही भड़काया गया था।

‘पाकिस्तान में हमने जो तकलीफें झेली हैं, अगर आप उससे गुजरे होते तो कभी प्रदर्शन नहीं करते’

देशी कट्टे से पुलिस पर गोली चला कर होती है UPSC की तैयारी! अपने ‘शहीद दंगाई हीरो’ के बचाव में मीडिया

पेट्रोल बम फेंको, नौकरी पाओ योजना: ‘ये लोग’ दंगाइयों को पालते रहेंगे, हिंदू सोता रहेगा

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दामाद के परिवार का दिवालिया कॉलेज खरीदेगी भूपेश बघेल सरकार: ₹125 करोड़ का कर्ज, मान्यता भी नहीं

छत्तीसगढ़ की कॉन्ग्रेस सरकार ने एक ऐसे मेडिकल कॉलेज के अधिग्रहण की तैयारी शुरू की, जो सीएम भूपेश बघेल की बेटी दिव्या के ससुराल वालों का है।

5 या अधिक हुए बच्चे तो हर महीने पैसा, शिक्षा-इलाज फ्री: जनसंख्या बढ़ाने के लिए केरल के चर्च का फैसला

केरल के चर्च के फैसले के अनुसार, 2000 के बाद शादी करने वाले जिन भी जोड़ों के 5 या उससे अधिक बच्चे हैं, उन्हें प्रत्येक माह 1500 रुपए की मदद दी जाएगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,580FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe