Friday, May 31, 2024
Homeदेश-समाज'किसान' नेताओं के मर्डर की कहानी को दमदार बनाने के लिए 'नकाबपोश' योगेश के...

‘किसान’ नेताओं के मर्डर की कहानी को दमदार बनाने के लिए ‘नकाबपोश’ योगेश के मोबाइल में डाली 4 तस्वीरें

हरियाणा पुलिस ने उसके मोबाइल फोन से चार किसान नेताओं - बलबीर सिंह राजेवाल, बलदेव सिंह सिरसा, कुलदीप संधू और जगजीत सिंह की तस्वीरें बरामद की हैं। सूत्रों के मुताबिक, ये तस्वीरें ‘किसान नेताओं’ द्वारा डाली गई थी, जिन्होंने उसे प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान झूठ बोलने की धमकी दी और प्रताड़ित किया।

किसान नेताओं ने शुक्रवार रात (22 जनवरी 2021) एक नकाबपोश को शूटर बताते हुए मीडिया के सामने पेश किया था। दावा किया गया था 26 जनवरी को प्रस्तावित ट्रैक्टर रैली के दौरान चार किसान नेताओं की हत्या की साजिश का वह हिस्सा था। ‘नकाबपोश’ योगेश सिंह ने शनिवार को चौंकाने वाले खु​लासे करते हुए बताया कि किसान नेताओं ने उसे प्रताड़ित कर पुलिस पर दोषारोपण करने को मजबूर किया था।

योगेश सिंह ने खुलासा करते हुए कहा कि किसानों ने उसका अपहरण कर लिया था और हरियाणा पुलिस को फँसाने के लिए कथित किसान नेताओं ने उसे झूठ बोलने के लिए मजबूर किया था।

शुक्रवार को हरियाणा पुलिस द्वारा हिरासत में लिए गए योगेश सिंह ने आज पुलिस के सामने स्वीकार कर लिया कि उसने प्रेस कॉन्फ्रेंस में किसानों पर कथित हमले के बारे में झूठ बोला था। सोनीपत के 19 वर्षीय निवासी ने कहा कि ‘किसान’ नेताओं ने उसे चेतावनी दी थी कि अगर उन्होंने हमलों की झूठी साजिश की बात नहीं कही और इसके लिए हरियाणा पुलिस को दोषी नहीं ठहराया तो वो उसे जान से मार देंगे। 

‘किसान’ नेताओं की धमकियों के बाद, योगेश सिंह वह सब कुछ करने के लिए तैयार हो गया, जिसके लिए किसानों ने उसे मजबूर किया। इसी वजह से प्रेस कॉन्फ्रेंस में उसने 26 जनवरी को होने वाली ट्रैक्टर रैली के दौरान चार किसान नेताओं को मारने की साजिश रचने वाली एक हमला टीम का हिस्सा होने की बात कबूल की।

हरियाणा पुलिस ने चार किसान नेताओं की तस्वीरें बरामद की है

प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद हरियाणा पुलिस सिंघु बॉर्डर पहुँची और ‘नकाबपोश’ योगेश सिंह को हिरासत में ले लिया। जाँच के दौरान, योगेश सिंह ने खुलासा किया कि उसके मन में किसान विरोध या हरियाणा पुलिस के खिलाफ कुछ भी नहीं है। सिंह ने खुलासा किया कि कुछ प्रदर्शनकारी दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाकर उसे टेंट में ले गए, जहाँ उन्होंने उसे यह कहते हुए हरियाणा पुलिस को झूठा फँसाने के लिए मजबूर किया कि उसने चार नेताओं को मारने की साजिश रची थी।

‘किसानों’ ने कथित तौर पर उसे चेतावनी भी दी कि यदि वह उनके आदेश का पालन नहीं करेगा तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। अगले दिन भी, ‘किसान’ नेताओं ने उसे बेरहमी से पीटा और धमकी दी कि अगर वह उनके निर्देशों का पालन करने के लिए सहमत नहीं हुआ तो उसे मार देंगे।

सूत्रों के अनुसार, किसान नेताओं ने अपने दावे को विश्वसनीय बनाने के लिए योगेश सिंह के फोन में उन चार ‘किसान’ नेताओं की तस्वीरें भी डाली, जिन्हें मारने की ‘नकाबपोश शूटर’ ने साजिश रची थी। हरियाणा पुलिस ने उसके मोबाइल फोन से चार किसान नेताओं – बलबीर सिंह राजेवाल, बलदेव सिंह सिरसा, कुलदीप संधू और जगजीत सिंह की तस्वीरें बरामद की हैं। सूत्रों के मुताबिक, ये तस्वीरें ‘किसान नेताओं’ द्वारा डाली गई थी, जिन्होंने उसे प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान झूठ बोलने की धमकी दी और प्रताड़ित किया।  

‘नकाबपोश’ को पुलिस के हवाले करने में कर रहे थे संकोच

शुक्रवार देर रात सिंघु सीमा पर प्रेस कॉन्फ्रेंस में ‘नकाबपोश’ योगेश सिंह को मीडिया के सामने पेश करने के बाद ‘किसान’ नेता उसे पुलिस के हवाले करने से संकोच कर रहे थे।

‘किसान’ नेता उसे पुलिस के सामने पेश करने से हिचक रहे थे और इसके बजाय हरियाणा पुलिस से उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करने की माँग कर रहे थे। उन्होंने पुलिस से तथाकथित किसानों के खिलाफ हमले की कथित साजिश करने वाले के लिए किसी तरह के कठोर कदम उठाने से मना किया। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -