Sunday, June 16, 2024
Homeदेश-समाज1000 ट्रैक्टर के साथ संसद मार्च करेंगे किसान: टीकरी-गाजीपुर बॉर्डर पर जमावड़ा शुरू, सभी...

1000 ट्रैक्टर के साथ संसद मार्च करेंगे किसान: टीकरी-गाजीपुर बॉर्डर पर जमावड़ा शुरू, सभी माँगें पूरी होने तक आंदोलन की चेतावनी

किसान नेता दर्शन पाल सिंह ने कहा कि उनकी माँगों में एमएसपी, किसान प्रदर्शनकारियों के खिलाफ दर्ज मामलों को वापस लेना, बिजली विधेयक 2020 व वायु गुणवत्ता अध्यादेश को वापस लेना और मृतक प्रदर्शनकारी किसानों का स्मारक बनाने के लिए स्थान का आवंटन शामिल है।

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा के बावजूद कथित किसान संगठन पीछे हटने को तैयार नहीं हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, किसान संगठन 29 नवंबर को संसद कूच करने वाले हैं। इसके लिए दिल्ली-एनसीआर के चारों बॉर्डर (सिंघु, टीकरी, गाजीपुर और शाहजहाँपुर) पर किसानों का जमावड़ा बढ़ाया जा रहा है। संयुक्त किसान मोर्चा के नेता डॉ. दर्शन पाल सिंह का कहना है कि प्रदर्शनकारी किसानों की सिर्फ एक माँग (तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान) पूरी हुई है, लेकिन अभी उनकी आधा दर्जन महत्वपूर्ण माँगों पर केंद्र सरकार को गौर करना होगा।

बताया जा रहा है कि संयुक्त किसान मोर्चा की 9 सदस्यीय कमेटी ने फैसला लिया गया है कि 29 नवंबर को गाजीपुर बॉर्डर और टीकरी बॉर्डर से 500-500 किसान ट्रैक्टर पर संसद भवन के लिए रवाना होंगे। इस बीच अगर किसानों को कहीं रोका जाता है तो वे वहीं धरने पर बैठ जाएँगे। दर्शन पाल का कहना है कि वे अपने पुराने रूख पर कायम हैं कि जब तक उनकी पुरानी माँगे पूरी नहीं की जाती हैं, तब तक दिल्ली-एनसीआर के बॉर्डर पर धरना-प्रदर्शन चलता रहेगा। 

दर्शन पाल सिंह यही नहीं रुके, उन्होंने आगे कहा, ”22, 26 और 29 नवंबर के हमारे कार्यक्रम हमेशा की तरह जारी रहेंगे। 22 को लखनऊ रैली, 26 को ऐतिहासिक किसान संघर्ष के एक साल पूरे होने पर एक सभा आयोजित करेंगे और 29 नवंबर को ट्रैक्टर मार्च (संसद तक) निकाला जाएगा। ये आंदोलन जारी रहेगा।”

उन्होंने कहा कि कृषि कानूनों के अलावा उनकी और भी माँगे हैं। उनमें एमएसपी, किसान प्रदर्शनकारियों के खिलाफ दर्ज मामलों को वापस लेना, बिजली विधेयक 2020 व वायु गुणवत्ता अध्यादेश को वापस लेना और मृतक प्रदर्शनकारी किसानों का स्मारक बनाने के लिए स्थान का आवंटन शामिल हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि सरकार इन मुद्दों को हल करने के लिए बैठक बुलाएगी।

किसान नेता ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा, ”22 तारीख को लखनऊ की रैली को कामयाब करना है। अगर लखीमपुर खीरी में हमारे साथियों को परेशान करने की कोशिश की जाती है तो फिर हम लखीमपुर खीरी इलाके में आंदोलन चलाएँगे।”

इससे पहले गाजीपुर बॉर्डर के धरना प्रदर्शन स्थल पर पहुँचे राकेश टिकैत ने कहा कि केंद्र सरकार से सिर्फ तीनों कृषि कानूनों पर ही नहीं, बल्कि एमएसपी, प्रदूषण और बिजली बिल जैसे मुद्दों पर भी बात की जानी चाहिए है और यह भी देखना चाहिए कि सरकार किसानों से बात करने आगे आती है या नहीं।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार (19 नवंबर, 2021) को तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान किया था। उन्होंने कहा था कि इन कानूनों को किसानों के फायदे के लिए लाया गया था, लेकिन एक समूह को इसके फायदे समझाने में सरकार असफल रही।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आतंकवाद का बखान, अलगाववाद को खुलेआम बढ़ावा और पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को बढ़ावा : पढ़ें- अरुँधति रॉय का 2010 वो भाषण, जिसकी वजह से UAPA...

अरुँधति रॉय ने इस सेमिनार में 15 मिनट लंबा भाषण दिया था, जिसमें उन्होंने भारत देश के खिलाफ जमकर जहर उगला था।

कर्नाटक में बढ़ाए गए पेट्रोल-डीजल के दाम: लोकसभा चुनाव खत्म होते ही कॉन्ग्रेस ने शुरू की ‘वसूली’, जनता पर टैक्स का भार बढ़ा कर...

अभी तक बेंगलुरु में पेट्रोल 99.84 रुपये प्रति लीटर और डीजल 85.93 रुपये प्रति लीटर बिक रहा था, लेकिन नए आदेश के बाद बढ़ी हुई कीमतें तत्काल प्रभाव से लागू हो गई हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -