Tuesday, September 28, 2021
Homeदेश-समाजपुलिस बैरिकैडिंग तोड़ हजारों किसानों ने मचाया उत्पात, घेरा मिनी सचिवालय; लगाए BJP हाय-हाय...

पुलिस बैरिकैडिंग तोड़ हजारों किसानों ने मचाया उत्पात, घेरा मिनी सचिवालय; लगाए BJP हाय-हाय के नारे: देखें Video

वीडियो में देख सकते हैं कि कैसे हड़कंप मचाकर प्रदर्शनकारी आगे बढ़ रहे हैं और तेज-तेज चिल्ला रहे हैं। वीडियो में ‘जो बोले सो निहाल’ और 'बीजेपी सरकार हाय-हाय' के नारे लग रहे हैं।

हरियाणा के करनाल जिले में किसान प्रदर्शनकारियों के कारण स्थिति अशांत हो गई है। प्रशासन के मना करने के बावजूद सैकड़ों किसानों ने बैरिकेड्स तोड़ते हुए, उन पर छलांग लगाते हुए मिनी सचिवालय की ओर कूच किया। अब स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है।

समाचार एजेंसी एएनआई द्वारा साझा की गई वीडियो में देख सकते हैं कि कैसे हड़कंप मचाकर प्रदर्शनकारी आगे बढ़ रहे हैं और तेज-तेज चिल्ला रहे हैं। वीडियो में ‘जो बोले सो निहाल’ और ‘बीजेपी सरकार हाय-हाय’ के नारे लग रहे हैं।

एक अन्य वीडियो में बीकेयू नेता राकेश टिकैत सैकड़ों प्रदर्शनकारियों के साथ आगे बढ़ रहे हैं। बताया जा रहा है कि दो किलोमीटर तक किसानों की भीड़ बैरिकेड्स को तोड़ती हुई निकली। अनाज मंडी में ‘महापंचायत’ के बाद, प्रदर्शनकारियों ने करनाल में मिनी सचिवालय की ओर मार्च किया।

हालातों के मद्देनजर व कानून व्यवस्था को बिगड़ने से रोकने के लिए कुरुक्षेत्र, कैथल, जींद और पानीपत में इंटरनेट सेवाएँ बंद कर दी गई हैं। क्षेत्र में मैसेज सेवाएँ भी बंद कर दी गई हैं। करनाल के एसपी गंगा राम पुनिया ने कहा,

“किसान महापंचायत के मद्देनजर जिला प्रशासन और पुलिस ने सुरक्षा के जरूरी इंतजाम किए हैं। कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए कुल 40 कंपनियों को तैनात किया गया है। सार्वजनिक गतिविधियाँ बिना किसी रुकावट के चल रही हैं।”

बता दें कि 28 अगस्त को जिले में हुए एक प्रदर्शन के दौरान लाठीचार्ज मामले में अधिकारियों के विरुद्ध कड़े एक्शन की माँग को लेकर ये मार्च था। राकेश टिकैत ने इस बीच कहा, “हमने प्रशासन से उस आईएएस अधिकारी को निलंबित करने की माँग की थी, जिसने कथित तौर पर आंदोलनकारियों के सिर फोड़ने का आदेश पुलिस को दिया था।”

इसी संबंध में किसान संगठनों के नेताओं ने जिला प्रशासन के अधिकारियों से बातचीत की थी, लेकिन उसका कोई नतीजा नहीं निकला। इसके बाद किसानों ने मुख्यालय का घेराव करने का फैसला करते हुए कूच कर दिया। इस दौरान मिनी सचिवालय के पास प्रदेश सरकार के आदेश पर बड़ी संख्या में रैपिड एक्शन फोर्स के जवान तैनात रहे। मालूम हो कि मुजफ्फरनगर में महापंचायत के बाद यह दूसरा बड़ा आयोजन है, जिसमें राकेश टिकैत, योगेंद्र यादव, बलबीर सिंह राजेवाल, दर्शन पाल और जोगिंदर सिंह उग्रहन जैसे किसान नेता पहुँचे हुए हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,829FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe