Thursday, May 30, 2024
Homeदेश-समाजमाँ काली के बाद अब पूरे अहोम समाज का अपमान, TMC सांसद महुआ मोइत्रा...

माँ काली के बाद अब पूरे अहोम समाज का अपमान, TMC सांसद महुआ मोइत्रा के खिलाफ FIR: यौन शोषण का अर्थ बताया था ‘गोगोई’

महुआ मोइत्रा ने अपने ट्वीट में कहा, "असंसदीय शब्दों को रिप्लेस करने पर मेरी पहली नई ट्विटर सीरिज। अब प्रतिबंधित शब्द शारीरिक शोषण (सेक्सुअल हैरेसमेंट) की जगह मिस्टर गोगोई का उपयोग होगा।"

तृणमूल कॉन्ग्रेस की सांसद महुआ मित्रा के खिलाफ असम में लोगों की भावना आहत करने के मामले में एफआईआर दर्ज हुई है। ये शिकायत जातीय संग्रामी सेना ने सिवसागर जिले में शुक्रवार (15 जुलाई 2022) को कराई है। इसमें माँग की गई है कि ‘यौन शोषण’ शब्द का पर्याय ‘गोगोई’ बताने के लिए महुआ मोइत्रा माफी माँगें।

शिकायतकर्ता प्रणब चेतिया ने कहा, “यह पाया गया है कि मोइत्रा की ट्विटर टिप्पणी में जानबूझकर गोगोई शब्द की जगह शारीरिक शोषण जोड़ा गया। ये असम के एक स्थापित जातीय समुदाय को बदनाम करने और उसे नीचा दिखाने का एक स्पष्ट इरादे को दिखाता है। FIR में संगठन ने अहोम समुदाय की पवित्रता, अखंडता और सम्मान की रक्षा करने और मोहुआ मोइत्रा को सजा दिलाने की माँग की है।

बता दें कि बीते दिनों काली माँ का अपमान करने वाली महुआ मोइत्रा ने हाल में अपने अकॉउंट से एक ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने कहा था, “असंसदीय शब्दों को रिप्लेस करने पर मेरी पहली नई ट्विटर सीरिज। अब प्रतिबंधित शब्द शारीरिक शोषण (सेक्सुअल हैरेसमेंट) की जगह मिस्टर गोगोई का उपयोग होगा।”

उल्लेखनीय है कि असम में अहोम समुदाय द्वारा गोगोई उपनाम का इस्तेमाल बेहद आम बात है। यही वजह है कि जब महुआ ने अपने ट्विटर पर टिप्पणी की तो राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म समीक्षक उत्पल बोरपुरारी ने खुलेतौर पर उनकी आलोचना की। साथ ही सलाह दी कि वो गोगोई लिखने की बजाय जिस व्यक्ति को निशाना बना रही हैं उसका नाम लिखें। उत्पल ने लिखा, “ये मिस्टर गोगोई कौन हैं? अगर आपने दिमाग में कोई एक नाम है तो उसे बोलें। वरना ने सारे गोगोई लोगों का अपमान होगा।”

अपने ट्वीट पर होती आलोचना को देख मोइत्रा ने सफाई में एक ट्वीट लिखा और बताया, “ये सिर्फ उन संघियों के ट्वीट के लिए है जो कह रहे हैं कि मैंने सभी गोगोई को निशाना बनाया है। मैं स्पष्ट कर दूँ कि यह शब्द मैंने राज्यसभा के माननीय सांसद मिस्टर रंजन गोगोई के लिए प्रयोग किया है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

120 संगठन, विपक्ष, आंदोलनजीवी और पालतू पत्रकार… चुनावी नतीजों से पहले देश को जलाने की प्लानिंग, मोदी जीते तो कोर्ट से चुनाव रद्द करवाने...

'केरोसिन तेल छिड़का जा चुका है, एक चिंगारी से पूरे देश में आग लग जाएगी' - राहुल गाँधी का ये 2 साल पुराना बयान याद कीजिए, और आज नीलू व्यास थॉमस को सुनिए। मतगणना के बाद हिंसा भड़काने की पूरी प्लानिंग तैयार है। शाहीन बाग़ और किसान आंदोलन शायद इसका ही एक्सपेरिमेंट था।

केजरीवाल ने अब माँगी नियमित जमानत, 1 जून को सुनवाई: कोर्ट ने ED से माँगा जवाब, एजेंसी ने बताया- दिल्ली के CM फिट, पंजाब...

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली की राउज अवेन्यु कोर्ट में शराब घोटाला मामले में नियमित जमानत के लिए याचिका लगाई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -