Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाज₹1400 करोड़ की 700 किलोग्राम नशीली दवा जब्त, मुंबई पुलिस ने एक महिला समेत...

₹1400 करोड़ की 700 किलोग्राम नशीली दवा जब्त, मुंबई पुलिस ने एक महिला समेत पाँच तस्करों को किया गिरफ्तार

मुंबई पुलिस के क्राइम ब्रांच के एंटी नारकोटिक्स सेल को मुखबिरों से सूचना मिली थी कि एक दवा फैक्ट्री में प्रतिबंधित दवा मेफेड्रोन बनाया जा रहा है। डीसीपी नलवाडे ने बताया कि यह खेप हाल के दिनों में मुंबई में पुलिस द्वारा पकड़ी गई नशीली दवाओं की बड़ी खेप में से एक है।

महाराष्ट्र की मुंबई पुलिस ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए पड़ोसी जिले पालघर में मादक पदार्थ मेफेड्रोन की बड़ी खेप का भंडाफोड़ किया है। बरामद ड्रग्स का मूल्य 1400 करोड़ रुपए बताया जा रहा है। इस मामले में एक महिला सहित पाँच आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है।

मुंबई पुलिस के अनुसार, मेपेड्रोन ड्रग्स का वजन लगभग 703 किलोग्राम है। यह खेप जिले के नालासोपारा इलाके से पकड़ी की गई। यह कार्रवाई मुंबई पुलिस की एंटी नारकोटिक्स सेल ने की। सेल के डीसीपी दत्ता नलवाडे ने पाँच आरोपितों की गिरफ्तारी की पुष्टि की है। इनमें से चार की गिरफ्तारी मुंबई से हुई है, जबकि एक नालासोपारा से पकड़ा गया है।

गिरफ्तार होने वाले आरोपितों में एक 55 वर्षीय केमिस्ट भी है, जो इसका मुख्य आरोपित बताया जा रहा है। मुख्य आरोपित नासिक में मेफेड्रोन का उत्पादन करता था और उसे नालासोपारा के एक व्यावसायिक टेनमेंट को इसकी आपूर्ति करता था।

मुंबई पुलिस के क्राइम ब्रांच के एंटी नारकोटिक्स सेल को मुखबिरों से सूचना मिली थी कि एक दवा फैक्ट्री में प्रतिबंधित दवा मेफेड्रोन बनाया जा रहा है। डीसीपी नलवाडे ने बताया कि यह खेप हाल के दिनों में मुंबई में पुलिस द्वारा पकड़ी गई नशीली दवाओं की बड़ी खेप में से एक है।

पुलिस के मुताबिक, मादक पदार्थ मामले की जाँच इस साल 29 मार्च को शुरू हुई थी, जब नारकोटिक्स सेल की वर्ली इकाई ने गोवंडी इलाके से 250 ग्राम मेफेड्रोन के साथ एक तस्कर को गिरफ्तार किया था। इस सिंडिकेट की तीन लेयर को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस ने तस्कर, आपूर्तिकर्ता और फिर एक वितरक को गिरफ्तार किया था।

29 मार्च को पहली गिरफ्तारी के बाद मुंबई पुलिस की नारकोटिक्स सेल ने बाद में गोवंडी से एक दवा आपूर्तिकर्ता को भी गिरफ्तार किया था। उसके पास से 2.76 किलोग्राम एमडी जब्त की थी। जाँच में दो और व्यक्तियों, एक पुरुष और एक महिला की संलिप्तता का पता चला था। दोनों इसे वितरित करने का काम करते थ। दोनों को 27 जुलाई को गिरफ्तार कर लिया गया था।

मेफेड्रो को ‘म्याऊ म्याऊ’ (meow meow) या एमडी (MD) के रूप में भी जाना जाता है। एक सिंथेटिक पावडर है, जो उत्तेजक होता है। इसे नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस अधिनियम (NDPS) के तहत प्रतिबंधित है। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अब सरकार की हो गई माफिया अतीक अहमद की ₹50 करोड़ की प्रॉपर्टी, किसानों-गरीबों को धमका कर किया था अवैध कब्ज़ा

उत्तर प्रदेश में ऑपरेशन माफिया के तहत चल रही कार्रवाई में कमिश्नरेट पुलिस प्रयागराज और राज्य सरकार ने बड़ी सफलता हासिल की है। माफिया अतीक अहमद की करीब 50 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति अब राज्य सरकार की हो गई है।

‘रुक जाएगा विकास’: कर्नाटक सरकार के 75% आरक्षण वाले बिल से डरा IT कंपनियों का सबसे बड़ा समूह, CM नायडू के मंत्री बेटे ने...

IT कंपनियों के सबसे बड़े संघ ने कहा कि स्थानीय प्रतिभाओं की कमी होने के कारण कंपंनियों को किसी अन्य राज्य का रुख करने को मजबूर होना पड़ सकता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -