Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाजपंखे से लटकी मिली कर्नाटक के पूर्व CM येदियुरप्पा की नातिन, बेंगलुरु के अस्पताल...

पंखे से लटकी मिली कर्नाटक के पूर्व CM येदियुरप्पा की नातिन, बेंगलुरु के अस्पताल में डॉक्टर थीं 30 साल की सौंदर्या

30 साल की सौंदर्या येदियुरप्पा की बेटी पद्मा की पुत्री थीं और वह बेंगलुरु के एमएस रमैया अस्पताल में डॉक्टर थीं। साल 2019 में डॉक्टर नीरज के साथ उनका विवाह हुआ था। वह अपने पति और लगभग छह महीने के बच्चे के साथ सेंट्रल बेंगलुरु के माउंट कार्मेल कॉलेज के पास स्थित एक अपार्टमेंट में रह रही थीं।

कर्नाटक (karnataka) के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा (BS Yediyurappa) की नातिन सौंदर्या (Soundarya) की लाश बेंगलुरु के एक निजी अपार्टमेंट में मिली है। सौंदर्या की लाश पंखे से लगे फंदे पर झूलते हुए मिली। इसके बाद उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया, जहाँ डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। बॉरिंग एंड लेडी कर्जन अस्पताल में शव का पोस्टमॉर्टम किया जा रहा है। आशंका जताई जा रही है कि सौंदर्या ने आत्महत्या की है। हालाँकि, अभी कारणों का पता नहीं चला है।

30 साल की सौंदर्या येदियुरप्पा की बेटी पद्मा की पुत्री थीं और वह बेंगलुरु के एमएस रमैया अस्पताल में डॉक्टर थीं। साल 2019 में डॉक्टर नीरज के साथ उनका विवाह हुआ था। वह अपने पति और लगभग छह महीने के बच्चे के साथ सेंट्रल बेंगलुरु के माउंट कार्मेल कॉलेज के पास स्थित एक अपार्टमेंट में रह रही थीं। जानकारी के मुताबिक, गर्भावस्था के बाद सौंदर्या में डिप्रेशन के लक्षण दिख रहे थे।

घटना शुक्रवार (28 जनवरी 2022) के सुबह करीब 10 बजे की है। बताया जा रहा है कि जब घर के नौकर ने उनके कमरे का दरवाजा खटखटाया, तो अंदर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई। इसके बाद उसने उनके पति डॉ नीरज को फोन किया। नीरज ने दरवाजा खोला तो देखा कि सौंदर्या बेडरूम में पंखे से लटकी हुई हैं। पुलिस ने बताया कि मिले सबूतों के आधार पर प्रथम दृष्टया यह मामला आत्महत्या का है।

घटना की जानकारी मिलते ही कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई अपने कैबिनेट के सहयोगियों और भाजपा के दिग्गज नेताओं के साथ अस्पताल पहुँचे। भाजपा नेताओं ने येदियुरप्पा और उनके परिवार को सांत्वना दी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -