धार्मिक भावना भड़काने के लिए गणपति की मूर्ति को किया गया खंडित, बिखरी मिली पूजा सामग्री

पुलिस ने मौक़े पर पहुँचकर फॉरेंसिक विशेषज्ञों की टीम और डॉग स्क्वॉड से पूरे मामले की जाँच करवाई और बताया कि अराजक तत्वों द्वारा धार्मिक भावना को ठेस पहुँचाने के लिहाज से तथा शांतिभंग करने के इरादे से इस करतूत को अंजाम दिया गया है.....

गुजरात के खटोदरा थाना क्षेत्र में गणपति की प्रतिमा को खंडित कर धार्मिक भावनाएँ भड़काने की खबर सामने आई है। हालाँकि, मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो मौक़े पर पहुँची पुलिस ने मामले की जाँच शुरू कर दी है, लेकिन फिर भी इस घटिया हरकत करने वाले के प्रति लोगों में काफ़ी रोष हैं।

जानकारी के अनुसार खटोदरा स्ठिट गज्जर कंपाउंड में गणेश मंडल द्वारा गणपति की प्रतिमा को स्थापित किया गया था। यहाँ सोमवार (सितंबर 10, 2019) को पूजा आरती के बाद मंडल के लोग अपने-अपने घर चले गए थे, लेकिन जब सुबह आए तो प्रतिमा खंडित थी। गणपति को चढ़ाई पूजा सामग्री भी बिखरी हुई थी और मंडप में की गई लाइटिंग को भी काफ़ी नुकसान पहुँचाया गया था।

जिसे देखने के बाद कार्यकर्ताओं द्वारा पुलिस को घटना की सूचना दी गई। पुलिस ने मौक़े पर पहुँचकर फॉरेंसिक विशेषज्ञों की टीम और डॉग स्क्वॉड से पूरे मामले की जाँच करवाई और बताया कि अराजक तत्वों द्वारा धार्मिक भावना को ठेस पहुँचाने के लिहाज से तथा शांतिभंग करने के इरादे से इस करतूत को अंजाम दिया गया है। जिसके संबंध में सीसीटीवी फुटेज भी जाँच की जा रही हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

जानकारी के लिए बता दें कि पिछले साल गणेश उत्सव के दौरान बैगमपुरा क्षेत्र से भी गणपति की प्रतिमा को खंडित करने का मामला सामने आ चुका है। जहाँ समुदाय विशेष के लोगों द्वारा गणेश मंडल के युवकों के साथ मारपीट की गई थी और प्रतिमा को क्षतिग्रस्त भी किया गया था।

इस घटना के बाद भी इलाके में तनाव फैल गया था और झड़पें हुईं थीं। इस दौरान पुलिस ने गणेश विसर्जन करवाकर आरोपितों की गिरफ्तारी भी की थी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सुब्रमण्यम स्वामी
सुब्रमण्यम स्वामी ने ईसाइयत, इस्लाम और हिन्दू धर्म के बीच का फर्क बताते हुए कहा, "हिन्दू धर्म जहाँ प्रत्येक मार्ग से ईश्वर की प्राप्ति सम्भव बताता है, वहीं ईसाइयत और इस्लाम दूसरे धर्मों को कमतर और शैतान का रास्ता करार देते हैं।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

154,510फैंसलाइक करें
42,773फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: