Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाज300 कश्मीरी पंडित 30 साल बाद करेंगे माँ खीर भवानी की पूजा, सरकार उठाएगी...

300 कश्मीरी पंडित 30 साल बाद करेंगे माँ खीर भवानी की पूजा, सरकार उठाएगी खर्च

जम्मू-कश्मीर भवन से जत्था 10 जून को होने वाले माता खीर भवानी के ज्येष्ठ अष्टमी पूजन के लिए रवाना होगा। आने वाले सभी यात्रियों का ख़र्च और उनकी सुरक्षा का पूरा ज़िम्मा राज्यपाल उठाएँगे।

आतंकवाद की वजह से घाटी को छोड़ने को मजबूर हुए कश्मीरी पंडितों के लिए एक ख़ुशख़बरी है कि उन्हें फिर से अपनी मिट्टी से जुड़ने का मौक़ा मिला। दरअसल, जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने श्रीनगर के पास खीर भवानी माँ के दर्शन के लिए 300 कश्मीरी पंडितों को न्योता दिया है। कुछ लोगों के लिए यह न्योता किसी सपने से कम नहीं है, तो वहीं कुछ लोगों के लिए यह घर वापसी जैसा है।

ख़बर के अनुसार, 7 लाख कश्मीरी पंडितों के लिए 19 जनवरी 1990 का दिन कभी न भूलने वाला दिन है। क़रीब 30 साल पहले कश्मीर से विस्थापित हुई दीपिका भान का कहना है कि भले ही यह उनके लिए घर वापसी का कारण न हो, लेकिन उम्मीद की किरण तो जगी है। उन्होंने कहा कि माँ भवानी का दर्शन करना बेहद ख़ुशी का पल है। इस आध्यात्मिक यात्रा का सबसे महत्वपूर्ण पहलू यह है कि कश्मीर की युवा पीढ़ी ने कश्मीरी पंडितों की परम्पराओं को नहीं देखा, क्योंकि उन्हें कभी साथ रहने का मौक़ा मिला। दीपिका ने इस बात पर संशय ज़ाहिर किया कि पता नहीं लोग उनके साथ कैसा व्यवहार करेंगे।

जानकारी के अनुसार, जम्मू-कश्मीर भवन से जत्था 10 जून को होने वाले माता खीर भवानी के ज्येष्ठ अष्टमी पूजन के लिए रवाना होगा। आने वाले सभी यात्रियों का ख़र्च और उनकी सुरक्षा का पूरा ज़िम्मा राज्यपाल उठाएँगे। लगभग एक हफ़्ते की यात्रा में यह सभी यात्रीगण राज्यपाल सत्यपाल मलिक के ख़ास मेहमान होंगे। सुरक्षा की बात की जाए तो छ: वॉल्वो बसों में यात्रियों की सुरक्षा के पुख़्ता इंतज़ाम किए गए हैं। राज्य सरकार को यात्रियों की सूची पहले ही सौंपी जा चुकी है। इस यात्रा में सभी मेहमानों की खीर भवानी के अलावा हरि पर्वत श्रीनगर, शंकराचार्य मंदिर होते हुए 13 जून को दिल्ली वापसी होगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘विधानसभा में संपत्ति नष्ट करना बोलने की स्वतंत्रता नहीं’: केरल की वामपंथी सरकार को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, ‘हुड़दंगी’ MLA पर चलेगा केस

केरल विधानसभा में 2015 में हुए हंगामे के मामले में एलडीएफ ​विधायकों पर केस चलेगा। सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट का फैसला बरकरार रखा है।

जाति है कि जाती नहीं… यूपी में अब विकास दुबे और फूलन देवी भी नायक? चुनावी मेंढक कर रहे अपराधियों का गुणगान

किसी को ब्राह्मण के नाम पर विकास दुबे और श्रीप्रकाश शुक्ला तो किसी को निषाद के नाम पर फूलन देवी याद आ रही है। वोट के लिए जातिवाद में अपराधियों को ही नायक क्यों बनाया जाता है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,617FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe