Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजभगवान जगन्नाथ की रथयात्रा से पहले गुजरात ATS ने 3 को दबोचा, पाकिस्तान-बांग्लादेश कनेक्शन...

भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा से पहले गुजरात ATS ने 3 को दबोचा, पाकिस्तान-बांग्लादेश कनेक्शन की हो रही जाँच

हिरासत में लिए गए तीनों संदिग्धों से पूछताछ की जा रही है। लेख के लिखे जाने तक, उनका नाम या अन्य पहचान सामने नहीं आई है। हालाँकि, रिपोर्ट से पता चलता है कि उनके पाकिस्तान और बांग्लादेश से संबंध हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक ये तीनों बांग्लादेशी हैं। इस मामले में उनके करीबियों और आसपास रहने वाले लोगों से भी पूछताछ की जा रही है।

गुजरात आतंकवाद विरोधी दस्ते (Gujarat ATS) ने खुफिया एजेंसियों से मिले इनपुट के आधार पर अहमदाबाद से तीन संदिग्धों को हिरासत में लिया है। अगले महीने होने वाली रथ यात्रा से पहले अहमदाबाद के नारोल से रविवार (21 मई 2023) को हुई गिरफ्तारी महत्वपूर्ण मानी जा रही है। तीनों के संपर्क बांग्लादेश और पाकिस्तान से हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हिरासत में लिए गए तीनों संदिग्ध बांग्लादेशी बताए जा रहे हैं। गुजरात एटीएस इस बात की जाँच कर रही है कि तीनों बांग्लादेशी संदिग्ध गुजरात कैसे आए और गुजरात पहुँचने के पीछे उनका वास्तविक उद्देश्य क्या था। एजेंसी पाकिस्तान के साथ इनके कनेक्शन की भी जाँच कर रही है।

नारोल और चंदोला झील क्षेत्रों में अवैध बांग्लादेशियों की एक बड़ी आबादी है। यही कारण है कि सुरक्षा एजेंसियों की इस इलाके पर हमेशा निगरानी रहती है। अब जब रथ यात्रा आ रही है तो खुफिया इनपुट मिलने के बाद एजेंसियाँ ​​और सतर्क हो गई हैं। रिपोर्टों में कहा गया है कि ऑपरेशन को एटीएस द्वारा बेहद गोपनीय तरीके से अंजाम दिया गया था। इसमें अहमदाबाद पुलिस या किसी अन्य एजेंसी को शामिल नहीं किया गया था।

हिरासत में लिए गए तीनों संदिग्धों से पूछताछ की जा रही है। लेख के लिखे जाने तक, उनका नाम या अन्य पहचान सामने नहीं आई है। हालाँकि, रिपोर्ट से पता चलता है कि उनके पाकिस्तान और बांग्लादेश से संबंध हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक ये तीनों बांग्लादेशी हैं। इस मामले में उनके करीबियों और आसपास रहने वाले लोगों से भी पूछताछ की जा रही है।

भगवान की 146वीं रथ यात्रा 20 जून से शुरू होगी

भगवान जगन्नाथ की 146वीं रथ यात्रा अहमदाबाद में 20 जून 2023 से शुरू होगी। हर साल अहमदाबाद की इस प्रसिद्ध रथ यात्रा के आयोजन की तैयारी महीनों पहले से शुरू हो जाती है। इस दौरान सुरक्षा व्यवस्था का भी पूरा ध्यान रखा जाता है। यात्रा मार्ग पर पहले से ही सुरक्षा बढ़ा दी जाती है और पुलिस की कड़ी निगरानी में यात्रा शुरू होती है।

इस यात्रा के दौरान किसी प्रकार की अप्रिय घटना ना हो, इसके लेकर महीनों पहले से सुरक्षा एजेंसियाँ चौकस हो जाती हैं। इस साल रथ यात्रा में 3डी मैपिंग और वर्चुअल रियलिटी प्रोजेक्ट्स का भी इस्तेमाल किया जाएगा। इससे पुलिस को कंट्रोल रूम से तत्काल सूचना आसानी से मिल सकेगी और यात्रा को सुरक्षा प्रदान करने में भी काफी मदद मिलेगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेचुरल फार्मिंग क्या है, बजट में क्यों इसे 1 करोड़ किसानों से जोड़ने का ऐलान: गोबर-गोमूत्र के इस्तेमाल से बढ़ेगी किसानों की आय

प्राकृतिक खेती एक रसायनमुक्त व्यवस्था है जिसमें प्राकृतिक संसाधनों का इस्तेमाल किया जाता है, जो फसलों, पेड़ों और पशुधन को एकीकृत करती है।

नारी शक्ति को मोदी सरकार ने समर्पित किए ₹3 लाख करोड़: नौकरी कर रहीं महिलाओं और उनके बच्चों के लिए भी रहने की सुविधा,...

बजट में महिलाओं की हिस्सेदारी कार्यबल में बढ़ाने पर काम किया गया है। इसके अलावा कामकाजी महिलाओं के लिए छात्रावास स्थापित करने का भी ऐलान हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -