Wednesday, June 16, 2021
Home देश-समाज मुस्लिम टोपी विवाद: क्या मोहम्मद बरकत को गलत बयान देने की ट्रेनिंग दी गई...

मुस्लिम टोपी विवाद: क्या मोहम्मद बरकत को गलत बयान देने की ट्रेनिंग दी गई थी?

गुरुग्राम के पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकिल ने मीडिया को ​बताया, "मुझे लगता है कि किसी ने उसे प्रशिक्षित किया है, क्योंकि अगर आप मीडिया में दिए गए उसके बयानों पर ग़ौर करेंगे तो आपको यह महसूस होगा कि उसे सिखाया गया है।"

पिछले दिनों गुरूग्राम में एक हमले की ख़बर सामने आई थी जिसे बाद में साम्प्रदायिक हिंसा का रूप देने की कोशिश की गई। इस घटना में मोहम्मद बरकत आलम, जो कि इस हमले का केंद्रबिन्दु था उसने फोन पर बात करने से मना करते हुए अपना मोबाइल फोन चचेरे भाई मुर्तजा को थमा दिया था। मुर्तजा ने स्वराज मैगज़ीन की पत्रकार स्वाति गोयल को बताया कि 25 वर्षीय बरकत युवा और भोला-भाला है और उसके अभिभावक ने उसे मीडिया से न बात करने की सलाह दी है। उनका मानना है कि मीडिया से बातचीत करके वो किसी भी तरह का कोई बखेड़ा खड़ा नहीं करना चाहते।

कड़ी मशक्कत के बाद मुर्तजा गुरूग्राम में अपने कार्यस्थल पर पत्रकार स्वाति गोयल से इस मामले पर बातचीत के लिए राजी हो गया। लेकिन इस मुलाक़ात के लिए उसने एक शर्त भी रखी और वो शर्त थी कि मुलाक़ात के दौरान किसी तरह की वीडियो रिकॉर्डिंग नहीं की जााएगी।

पत्रकार स्वाति के अनुसार, मुर्तजा, नई दिल्ली से लगभग 30 किलोमीटर दूर गुरुग्राम के जैकब पुरा में एक सिलाई की दुकान में काम करता है। दुकान ‘याकूब पुरा मीट मार्केट’ नामक एक गली में एक तहखाने में स्थित थी। हालाँकि, एक बंद दुकान के बाहर ‘होलसेल चिकन और रिटेल’ के एक छोटे बैनर के अलावा मीट मार्केट का कोई संकेत नहीं था। आसपास की सभी दुकानें बंद थीं। स्थानीय लोगों का कहना है कि दो साल पहले मीट मार्केट बंद कर दिया गया था।

25 मई को, बरकत ने शहर के पुलिस स्टेशन में अज्ञात पुरुषों के ख़िलाफ़ FIR दर्ज कराई, जिसके अनुसार जब वह करीब 10.15 बजे सदर बाजार में जामा मस्जिद से लौट रहा था, तो कथित तौर पर छः अज्ञात लोगों ने उस पर हमला किया – इनमें से चार मोटरसाइकिल पर थे और दो पैदल थे। वे नशे में थे, उन्होंने बरकत को इस क्षेत्र में टोपी न पहनने को कहा। उन्होंने उसे गालियाँ दीं और दो लोगों ने उसकी पिटाई भी की। इसके अलावा उसे जान से मारने की धमकी भी दी गई।

पुलिस ने धारा 153A (धर्म के आधार पर समूहों के बीच शत्रुता को बढ़ावा देना), 147 (दंगा भड़काना), 149 (ग़ैर-क़ानूनी विधानसभा), 323 (चोट पहुँचाना) और आईपीसी या भारतीय दंड संहिता की 506 (आपराधिक धमकी) के तहत मामला दर्ज किया।

अगले दिन यह मामला एक साम्प्रदायिक हिंसा के रूप में सामने आया क्योंकि बरकत ने कई टेलीविजन समाचार चैनलों को बयान दिय कि उसे ‘जय श्री राम’ और ‘भारत माता की जय’ कहने के लिए मजबूर किया गया था। लेकिन, जल्द ही बरकत के इस झूठ का पर्दाफ़ाश हो गया। पुलिस की छानबीन में जब यह बात सामने आई कि मुस्लिम युवक के साथ मारपीट तो हुई थी, लेकिन इस दौरान न तो उसकी टोपी फेंकी गई और न ही उसकी शर्ट फाड़ी गई। यह सब सीसीटीवी फुटेज को खंगालने के बाद सामने आया।

पत्रकार स्वाति गोयल जब बुधवार (29 मई) को बरकत से मिलीं, तो उसे (बरकत) यह नहीं पता था कि उसके कई दावों को गुरुग्राम पुलिस एक दिन पहले ही ख़ारिज कर चुकी थी। दरअसल, 28 मई को गुरुग्राम के पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकिल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की और कहा कि बरकत के कई आरोप FIR में उसके बयान के साथ-साथ सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से मेल नहीं खाते।

उदाहरण के लिए, बरकत ने अपनी FIR में छः लोगों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज करवाया था, जबकि सीसीटीवी फुटेज में केवल दो ही आदमी दिखाई दे रहे थे, जिसमें से केवल एक ने ही उस पर हमला किया था। इसके अलावा बरकत ने मीडिया को बताया कि उसकी सिर की टोपी को जबरन हटाया गया। वीडियो में दिखाया गया कि जब हमलावर ने उसके सिर पर वार किया था, तो उसकी टोपी अव्यवस्थित हो गई, जिसे बरकत ने ख़ुद अपनी जेब में रख लिया था। बरकत ने मीडिया को बताया था कि उसे ‘जय श्रीराम’ और ‘भारत माता की जय’ बोलने के लिए कहा गया। इस पर पुलिस का कहना था कि अगर वास्तव में ऐसा था तो FIR में इसका ज़िक्र क्यों नहीं किया गया?

पुलिस आयुक्त अकील ने मीडिया को यहाँ तक ​बताया कि उन्हें लगता है कि जैसे पीड़ित को इस घटना के लिए पहले से ही ट्रेनिंग दी गई हो। अकील ने कहा, “मुझे लगता है कि किसी ने उसे प्रशिक्षित किया है, क्योंकि अगर आप मीडिया में दिए गए उसके बयानों पर ग़ौर करेंगे तो आपको यह महसूस होगा कि उसे सिखाया गया है।”

यदि पूरे मामले को ग़ौर से देखा जाए तो यह समझते देर नहीं लगेगी कि मोहम्मद बरकत ने एक मामूली विवाद को साम्प्रदायिक विवाद बनाने की पूरी कोशिश की। ऐसा लगता है जैसे बरकत को इस घटना के लिए पूरी तरह से समझा-बुझाकर तैयार किया गया हो जिससे समाज में हिन्दुओं के लिए नफ़रत का बीज बोया जा सके।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘केजरीवाल के आवास पर खर्च हो रहे ‘आम आदमी’ के ₹9 करोड़’: बीजेपी नेता ने दिखाए दस्तावेज, पूछा- स्विमिंग पूल बन रहा या वाटर...

वीडियो शेयर करते हुए जिंदल ने दावा किया कि जब लोग महामारी के बीच स्वास्थ सुविधाओं से जूझ रहे थे, उस वक्त मुख्यमंत्री अपने बंगले का मेकओवर कराने में करोड़ों खर्च कर रहे थे।

LJP की फाइट से ‘यौन शोषण’ बाहर निकला , चिराग ने कहा- ‘शेर के बेटे को चाचा ने कर दिया अनाथ’

पशुपति पारस के आवास के बाहर चिराग पासवान के समर्थकों ने प्रदर्शन भी किया। चिराग पासवान ने कहा कि जब वो बीमार थे, तब उनके पीठ पीछे पार्टी को तोड़ने की साजिश रची गई।

जैसे-जैसे फूटा लेफ्ट-कॉन्ग्रेस-इस्लामी इकोसिस्टम का बुलबुला, वैसे-वैसे बढ़ता गया ‘जय श्रीराम’ पर प्रोपेगेंडा 

कम्युनिस्ट-कॉन्ग्रेस-मीडिया-बुद्धिजीवियों के गठबंधन को पहली चोट जय श्रीराम से ही लगी थी। मोदी के उदय ने इसे और गहरा कर दिया।

अविवाहित रहे, राम मंदिर के लिए जीवन खपा दिया, आपातकाल में 18 महीने की जेल झेली: जानिए कौन हैं VHP के चंपत राय

धामपुर के RSM डिग्री कॉलेज में रसायन विज्ञान के प्रोफेसर रहे चंपत राय सुप्रीम कोर्ट में चली राम मंदिर के मुकदमे की सुनवाई में मुख्य पैरोकार एवं पक्षकार रहे हैं।

यूपी में एक्शन ट्विटर का सुरक्षा कवच हटने का आधिकारिक प्रमाण: IT और कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने 9 ट्वीट में लताड़ा

यह एक्शन इस बात का प्रमाण भी है कि मध्यस्थता प्लेटफार्म के रूप में ट्विटर को जो कानूनी छूट प्रदान की गई थी, वह अब आधिकारिक रूप से समाप्त हो गई है।

हत्या, बच्चे को गोली मारी, छात्रों को सस्पेंड किया: 15 घटनाएँ, जब ‘जय श्री राम’ कहने पर हिन्दुओं के साथ हुई क्रूरता

अब ऐसी घटनाओं को देखिए, जहाँ 'जय श्री राम' कहने पर हिन्दुओं की हत्या तक कर दी गई। गौर करने वाली बात ये कि इस तरह की घटनाओं पर कोई आउटरेज नहीं हुआ।

प्रचलित ख़बरें

‘राजदंड कैसा होना चाहिए, महाराज ने दिखा दिया’: लोनी घटना के ट्वीट पर नहीं लगा ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ टैग, ट्विटर सहित 8 पर FIR

"लोनी घटना के बाद आए ट्विट्स के मद्देनजर योगी सरकार ने ट्विटर के विरुद्ध मुकदमा दायर किया है और कहा है कि ट्विटर ऐसे ट्वीट पर मैनिपुलेटेड मीडिया का टैग नहीं लगा पाया। राजदंड कैसा होना चाहिए, महाराज ने दिखा दिया है।"

‘जो मस्जिद शहीद कर रहे, उसी के हाथों बिक गए, 20 दिलवा दूँगा- इज्जत बचा लो’: सपा सांसद ST हसन का ऑडियो वायरल

10 मिनट 34 सेकंड के इस ऑडियो में सांसद डॉ. एस.टी. हसन कह रहे हैं, "तुम मुझे बेवकूफ समझ रहे हो या तुम अधिक चालाक हो... अगर तुम बिक गए हो तो बताया क्यों नहीं कि मैं भी बिक गया।

‘मुस्लिम बुजुर्ग को पीटा-दाढ़ी काटी, बुलवाया जय श्री राम’: आरोपितों में आरिफ, आदिल और मुशाहिद भी, ज़ुबैर-ओवैसी ने छिपाया

ओवैसी ने लिखा कि मुस्लिमों की प्रतिष्ठा 'हिंदूवादी गुंडों' द्वारा छीनी जा रहीहै । इसी तरह ज़ुबैर ने भी इस खबर को शेयर कर झूठ फैलाया।

राम मंदिर की जमीन पर ‘खेल’ के दो सूत्र: अखिलेश यादव के करीबी हैं सुल्तान अंसारी और पवन पांडेय, 10 साल में बढ़े दाम

भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले पूर्व मंत्री तेज नारायण पांडेय 'पवन' और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव से सुल्तान के काफी अच्छे रिश्ते हैं।

कोर्ट की चल रही थी वचुर्अल सुनवाई, अचानक कैमरे पर बिना पैंट के दिखे कॉन्ग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी

कोर्ट की प्रोसीडिंग के दौरान वरिष्ठ वकील व कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेता अभिषेक मनु सिंघवी कैमरे पर बिन पैंट के पकड़े गए।

‘इस बार माफी पर न छोड़े’: राम मंदिर पर गुमराह करने वाली AAP के नेताओं ने जब ‘सॉरी’ कह बचाई जान

राम मंदिर में जमीन घोटाले के बेबुनियाद आरोपों के बाद आप नेताओं पर कड़ी कार्रवाई की माँग हो रही है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,290FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe