निखत बानो को गर्भपात का विरोध करना पड़ा भारी, शौहर सलमान और ससुर लाल खान ने घसीटकर पीटा

निखत के गर्भवती होने की सूचना मिलते ही उसका उसका पति और ससुर उसपर गर्भपात करवाने का दबाव बनाने लगे। महिला ने इसका विरोध किया तो उसको सड़क पर घसीट-घसीट कर पीटा गया। जिसके बाद इस घटना की वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गई।

उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले के मौदहा इलाके के नराइज ग्राम में निखत बानो नाम की महिला को गर्भपात का विरोध करने पर उसके पति सलमान और ससुर लाल खान ने बेहरमी से सड़क पर घसीट-घसीटकर पीटा। घटना गुरुवार की है।

न्यूज 18 की खबर की मुताबिक निखत के गर्भवती होने की सूचना मिलते ही उसके शौहर और ससुर उसपर गर्भपात करवाने का दबाव बनाने लगे। महिला ने इसका विरोध किया तो उसको सड़क पर घसीट-घसीट कर पीटा गया। जिसके बाद इस घटना की वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गई।

वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि निखत पर उसका पति और ससुर लाठी-डंडे बरसा रहे हैं। बीच में उसकी सास उसको बचाने आती है, लेकिन ये दोनों उन्हें भी नहीं बख्शते और निखत की सास पर लाठी-डंडे चलाने लगते हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

जानकारी के मुताबिक इस घटना में महिला और उसकी सास को इतना पीटा गया कि दोनों औरतें लहू-लुहान हो गईं। इस कारण दोनों को स्थानीय अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा।

न्यूज 18 पर घटना का वीडियो

हालाँकि, पुलिस ने इस मामले को सामान्य धाराओं में दर्ज किया है। लेकिन, निखत का कहना है कि उसके पति, ससुर ने उसपर पहले गर्भपात का दबाव बनाया और उसके गहने छीन लिए। जब उसने इनका विरोध किया तो उसे बेहरमी से पीटा गया।

खबर के अनुसार, एसएसपी संतोष सिंह ने बताया कि मौदहा कोतवाली क्षेत्र के नराइज गाँव का ये मामला है। यहाँ का निवासी सलमान रायपुर में काम करता था, उसने वहीं एक लड़की (निखत) से निकाह कर लिया। कुछ दिन बाद अनबन हुई तो लड़का अपने घर वापस लौट आया। महिला जब अपने भाई और परिजनों के साथ लड़के के घर में घुसने की कोशिश करने लगी, तो मारपीट हुई। पीड़ित पक्ष ने मामले को दर्ज करवाया है और गर्भपात के आरोप पर उन्होंने कहा है कि ये जाँच का विषय है। जाँच में जो तथ्य सामने आएँगे उसपर उसी अनुसार कार्रवाई होगी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बरखा दत्त
मीडिया गिरोह ऐसे आंदोलनों की तलाश में रहता है, जहाँ अपना कुछ दाँव पर न लगे और मलाई काटने को खूब मिले। बरखा दत्त का ट्वीट इसकी प्रतिध्वनि है। यूॅं ही नहीं कहते- तू चल मैं आता हूँ, चुपड़ी रोटी खाता हूँ, ठण्डा पानी पीता हूँ, हरी डाल पर बैठा हूँ।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

118,018फैंसलाइक करें
26,176फॉलोवर्सफॉलो करें
126,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: