Thursday, January 21, 2021
Home देश-समाज हैंड-सैनिटाइजर पर GST छूट घरेलू उत्पादों की कीमत बढ़ाने और चीन से आयात को...

हैंड-सैनिटाइजर पर GST छूट घरेलू उत्पादों की कीमत बढ़ाने और चीन से आयात को प्रोत्साहित कर सकता है, जानिए कैसे

एएआर ने फैसला सुनाया कि यद्यपि कोरोना वायरस महामारी के दौरान हैंड सैनिटाइटर्स को एक आवश्यक वस्तु के रूप में सूचीबद्ध किया गया है, जीएसटी कानूनों के तहत छूट वाली वस्तुओं और सेवाओं के लिए एक अलग अधिसूचना है, और अल्कोहल-आधारित सैनिटाइजर इस छूट वाली श्रेणी में नहीं हैं।

कल ही अथॉरिटी ऑफ एडवांस रूलिंग (AAR) ने कहा कि सभी अल्कोहल-आधारित हैंड-सैनिटाइज़र पर 18% वस्‍तु व सेवा कर (GST) आरोपित होगा। एएआर ने अपने फैसले में कहा कि चूँकि आवेदक द्वारा निर्मित हैंड सैनिटाइजर ‘अल्कोहल-आधारित हैंड सैनिटाइजर’ की श्रेणी के हैं, इसलिए 18 फीसद जीएसटी लागू होगा।

दरअसल, प्राधिकरण गोवा स्थित एक ऐसे सैनिटाईजर निर्माता को जवाब दे रहा था, जिसने कहा था कि उत्पाद पर 12% टैक्स लगाया जाना चाहिए क्योंकि यह औषधि श्रेणी के अंतर्गत आता है। स्प्रिंगफील्ड इंडिया डिस्टिलरीज ने एएआर की गोवा पीठ में अपील कर कंपनी की ओर से देशभर में आपूर्ति किए जाने वाले सैनिटाइजर का वर्गीकरण (Classification) करने को कहा था।

स्प्रिंगफील्‍ड की दलील थी कि हैंड सैनिटाइजर पर 12% जीएसटी लगता है। इसके अलावा कंपनी ने यह भी पूछा था कि अब सैनिटाइजर आवश्यक वस्तु (Essential item) है, तो क्या इस पर जीएसटी छूट मिलेगी।

लेकिन एएआर ने फैसला सुनाया कि यद्यपि कोरोना वायरस महामारी के दौरान हैंड सैनिटाइटर्स को एक आवश्यक वस्तु के रूप में सूचीबद्ध किया गया है, जीएसटी कानूनों के तहत छूट वाली वस्तुओं और सेवाओं के लिए एक अलग अधिसूचना है, और अल्कोहल-आधारित सैनिटाइजर इस छूट वाली श्रेणी में नहीं हैं।

जीएसटी प्राधिकरण ने फैसला किया है कि साइनसाइटर्स हार्मोनाइज्ड सिस्टम ऑफ़ नोमेनक्लेचर (HSN) के चैप्टर 3808 के अंतर्गत आते हैं, जिसके लिए GST दर 18% है, और कुछ निर्माता 12% टैक्स के साथ चैप्टर 3004 के तहत उत्पाद को गलत तरीके से वर्गीकृत करके 12% GST का भुगतान कर रहे हैं।

इस फैसले ने आवश्यक वस्तुओं पर जीएसटी पर बहस को फिर से जगह दे दी है। सोशल मीडिया पर कई लोगों ने मौजूदा स्थिति के दौरान हैंड-सैनिटाइजर पर टैक्स लगाने के लिए सरकार की आलोचना की, क्योंकि यह उत्पाद कोरोना वायरस से सुरक्षा में सबसे आवश्यक उत्पादों में से एक बन गया है।

कई लोगों ने माँग की है कि चायनीज कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में आवश्यक हैंड-सैनिटाइजर और ऐसी ही आवश्यक वस्तुओं को जीएसटी से छूट दी जानी चाहिए। सीपीआई (एम) नेता सीताराम येचुरी ने माँग की कि मोदी सरकार को मानव जीवन को बचाने के लिए सैनिटाइजर और अन्य आवश्यक वस्तुओं पर सभी टैक्स में तुरंत छूट देनी चाहिए।

हालाँकि, क्या हैंड सैनीटाइज़र्स पर 18% टैक्स लगाया जाना चाहिए? यह बहस का विषय है। लेकिन 12% जीएसटी छूट की माँग भी वास्तव में बहुत तार्किक नहीं कही जा सकती।

एक बार के लिए ऐसा लग सकता है कि कर की दर शून्य होने पर कीमतें कम होंगी, लेकिन यह सच नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि जीएसटी वास्तव में एक ऐसा वैट (VAT/मूल्य वर्धित कर) है, जहाँ उत्पादन के प्रत्येक चरण में जोड़े गए मूल्य पर टैक्स लगाया जाता है।

इस प्रणाली के तहत, उत्पादक कच्चे माल और पूँजीगत वस्तुओं पर पहले से भुगतान किए गए GST के लिए इनपुट टैक्स क्रेडिट (ITC) का दावा कर सकते हैं। लेकिन यदि किसी उत्पाद का GST शून्य है, तो निर्माता इस इनपुट टैक्स क्रेडिट का दावा नहीं कर सकता है।

इसलिए, उत्पादन में प्रयोग किए जाने वाले कच्चे माल पर भुगतान किए गए पूरे जीएसटी को उत्पाद के अंतिम मूल्य में जोड़ा जाएगा, जो इसे कम करने के बजाय कीमत बढ़ाएगा ही।

दरअसल, तीन साल पहले सेनेटरी नैपकिन पर जीएसटी पर बहस के दौरान यह मामला पहले ही सुलझ गया था। राजनीतिज्ञों, कार्यकर्ताओं और मीडिया से सैनिटरी नैपकिन पर जीरो टैक्स की बढ़ती माँग के जवाब में, तत्कालीन वित्त मंत्री स्वर्गीय अरुण जेटली ने समझाया था कि ऐसा करना तर्कसंगत क्यों नहीं है।

उन्होंने कहा था कि नैपकिन में इस्तेमाल होने वाले बहुत से कच्चे माल पर 18% टैक्स लगता है, जो कि निर्माता इनपुट टैक्स क्रेडिट के रूप में दावा कर सकते हैं, जबकि अंतिम उत्पाद पर जीएसटी 12% है।

अब यदि जीएसटी वापस ले लिया जाता है, तो मैन्युफैक्चरर्स यानी निर्माता, कच्चे माल पर पहले से चुकाए गए टैक्स के लिए आईटीसी यानी, इनपुट टैक्स क्रेडिट का दावा नहीं कर सकते हैं, जिसे बिक्री मूल्य में जोड़ना होगा।

इससे सैनिटरी नैपकिन फिर आयातित उत्पादों पर महँगा हो जाएगा, जिन पर 12% कर लगता है, इसलिए आयातित उत्पादों की तुलना में स्थानीय रूप से या लोकल स्तर पर बनाए गए उत्पाद (प्रोडक्ट) नुकसान झेलेंगे।

उस समय, जुलाई 2018 में सैनिटरी नैपकिन पर जीएसटी घटाकर शून्य कर दिया गया था। लेकिन इससे सैनिटरी नैपकीन के मूल्य में कोई कमी नहीं आई। जबकि कुछ कंपनियों ने इसका मूल्य बहुत थोड़ा ही घटाया, और कई लोगों ने नहीं क्योंकि इनपुट टैक्स क्रेडिट को हटाने से जीरो टैक्स का लाभ समाप्त हो गया है, और उसी मूल्य को बनाए रखा है।

यही गणना हैंड सैनिटाइज़र और ऐसी ही अन्य वस्तुओं जैसे – आवश्यक वस्तुओं (एसेंशियल कॉमोडिटी) के मामले में लागू होती है, क्योंकि जीएसटी से छूट के रूप में कीमतों में कमी आने की संभावना नहीं है क्योंकि ऐसे में आईटीसी बाधित हो जाएगा।

इसके अलावा, इससे निर्माताओं के लिए काम और आँकड़ों का बोझ भी बढ़ जाएगा, क्योंकि उन्हें इनपुट्स, इनपुट सेवाओं और पूँजीगत वस्तुओं के लिए अलग-अलग खातों को बनाए रखने की आवश्यकता होगी।

यदि कोई निर्माता अलग खाता बनाए रखने की स्थिति में नहीं है, तो उन्हें विस्तृत गणना करने के बाद छूट प्राप्त वस्तुओं के निर्माण में उपयोग किए जाने वाले सभी इनपुट सेवाओं पर इनपुट टैक्स क्रेडिट को उल्टा करना होगा।

वहीं, इस तरह की छूट का सीधा असर घरेलू विनिर्माण पर पड़ता है और उन्हें हतोत्साहित करने का काम करता है, क्योंकि आईटीसी की रुकावट के कारण घरेलू उत्पादों की कीमत बढ़ जाती है।

चूँकि, आयात शुल्क में कोई परिवर्तन नहीं होगा, इसलिए आयातित उत्पादों की लागत समान रहती है, जबकि घरेलू उत्पाद की लागत बढ़ती है। इस प्रकार, यदि जीएसटी में छूट दी जाती है, तो इससे आयात में वृद्धि होगी, जो कि मुख्य रूप से चीन से होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोवीशील्ड’ बनाने वाली कंपनी के दूसरे हिस्से में भी आग, जलकर मरे लोगों को सीरम देगी ₹25 लाख

कोवीशील्ड बनाने वाली सीरम के पुणे प्लांट में दोबारा आग लगने की खबर है। दोपहर में हुई दुर्घटना में 5 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है।

कहाँ गए दिल्ली जल बोर्ड के ₹26,000 करोड़: केजरीवाल सरकार पर करप्शन का बड़ा आरोप

दिल्ली की केजरीवाल सरकार पर BJP ने जल बोर्ड के 26 हजार करोड़ रुपए डकारने का आरोप लगाया है।

सीरम इंस्टीट्यूट में 5 जलकर मरे: कोविड वैक्सीन सुरक्षित, लोग जता रहे साजिश की आशंका

सीरम इंस्टीट्यूट में लगी इस आग ने अचानक लोगों के मन में संदेह को पैदा कर दिया है। लोग आशंका जता रहे हैं कि कहीं ये सब जानबूझकर तो नहीं किया गया।

1277 करोड़ रुपए की कंपनी: इंडियन कैसे करते हैं पखाना (पॉटी), देते हैं इसकी ट्रेनिंग और प्रोडक्ट

इंडिया के लोग पखाना कैसे करते हैं? आप बोलेंगे बैठ कर! लेकिन किसी के लिए यही सामान्य सा ज्ञान बिजनस बन गया और...

मिर्जापुर की सांस्कृतिक छवि ख़राब करने के लिए वेब सीरीज बनाने वालों को SC ने भेजा नोटिस

SC ने इस नोटिस में UP के जिला मिर्जापुर की ऐतिहासिक और सांस्कृतिक छवि खराब करने के सम्बन्ध में OTT प्लेटफॉर्म और शो के निर्माताओं से जवाब माँगा है।

7% नहीं, अब किसानों को 12% पर लोन: मोदी सरकार का फैसला, RBI ने जारी किए निर्देश – Fact Check

सोशल मीडिया पर एक खबर शेयर कर दावा किया जा रहा है कि किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) पर लोन की ब्याज दर को 7% से बढ़ाकर 12% कर दिया गया है।

प्रचलित ख़बरें

‘अल्लाह का मजाक उड़ाने की है हिम्मत’ – तांडव के डायरेक्टर अली से कंगना रनौत ने पूछा, राजू श्रीवास्तव ने बनाया वीडियो

कंगना रनौत ने सीरीज के मेकर्स से पूछा कि क्या उनमें 'अल्लाह' का मजाक बनाने की हिम्मत है? उन्होंने और राजू श्रीवास्तव ने अली अब्बास जफर को...

‘उसने पैंट से लिंग निकाला और मुझे फील करने को कहा’: साजिद खान पर शर्लिन चोपड़ा ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

अभिनेत्री-मॉडल शर्लिन चोपड़ा ने फिल्म मेकर फराह खान के भाई साजिद खान पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

‘कोहली के बिना इनका क्या होगा… ऑस्ट्रेलिया 4-0 से जीतेगा’: 5 बड़बोले, जिनकी आश्विन ने लगाई क्लास

अब जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर ही ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दिया है, आइए हम 5 बड़बोलों की बात करते हैं। आश्विन ने इन सबकी क्लास ली है।

Pak ने शाहीन-3 मिसाइल टेस्ट फायर किया, हुए कई घर बर्बाद और सैकड़ों घायल: बलूच नेता का ट्वीट, गिरना था कहीं… गिरा कहीं और!

"पाकिस्तान आर्मी ने शाहीन-3 मिसाइल को डेरा गाजी खान के राखी क्षेत्र से फायर किया और उसे नागरिक आबादी वाले डेरा बुगती में गिराया गया।"

ढाई साल की बच्ची का रेप-मर्डर, 29 दिन में फाँसी की सजा: UP पुलिस और कोर्ट की त्वरित कार्रवाई

अदालत ने एक ढाई साल की बच्ची के साथ रेप और हत्या के दोषी को मौत की सजा सुनाई है। UP पुलिस की कार्रवाई के बाद यह फैसला 29 दिन के अंदर सुनाया गया है।

महाराष्ट्र पंचायत चुनाव में 3263 सीटों के साथ BJP सबसे बड़ी पार्टी, ठाकरे की MNS को सिर्फ 31 सीट

महाराष्ट्र में पंचायत चुनाव में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी। शिवसेना ने दावा किया है कि MVA को राज्य की ग्रामीण जनता ने पहली पसंद बनाया।
- विज्ञापन -

 

ट्रक ड्राइवर से माफिया बने बदन सिंह बद्दो की कोठी पर चला योगी सरकार का बुलडोजर, दो साल से है फरार

मोस्ट वांटेड अपराधी ढाई लाख के इनामी बदन सिंह बद्दो की अलीशान कोठी पर योगी सरकार ने बुल्डोजर चलवा दिया। पुलिस ने बद्दो की संपत्ति कुर्क करने के बाद कोठी को जमींदोज करने की बड़ी कार्रवाई की है।

‘कोवीशील्ड’ बनाने वाली कंपनी के दूसरे हिस्से में भी आग, जलकर मरे लोगों को सीरम देगी ₹25 लाख

कोवीशील्ड बनाने वाली सीरम के पुणे प्लांट में दोबारा आग लगने की खबर है। दोपहर में हुई दुर्घटना में 5 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है।

तांडव के डायरेक्टर-राइटर के घर पर ताला, प्रोड्यूसर ने ऑफिस छोड़ा: UP पुलिस ने चिपकाया नोटिस

लखनऊ में दर्ज शिकायत को लेकर यूपी पुलिस की टीम मुंबई में तांडव के डायरेक्टर और लेखक के घर तथा प्रोड्यूसर के दफ्तर पहुॅंची।

कहाँ गए दिल्ली जल बोर्ड के ₹26,000 करोड़: केजरीवाल सरकार पर करप्शन का बड़ा आरोप

दिल्ली की केजरीवाल सरकार पर BJP ने जल बोर्ड के 26 हजार करोड़ रुपए डकारने का आरोप लगाया है।

सीरम इंस्टीट्यूट में 5 जलकर मरे: कोविड वैक्सीन सुरक्षित, लोग जता रहे साजिश की आशंका

सीरम इंस्टीट्यूट में लगी इस आग ने अचानक लोगों के मन में संदेह को पैदा कर दिया है। लोग आशंका जता रहे हैं कि कहीं ये सब जानबूझकर तो नहीं किया गया।

‘गाँवों में जाकर भाजपा को वोट देने के लिए धमका रहे जवान’: BSF ने टीएमसी को दिया जवाब

टीएमसी के आरोपों का जवाब देते हए BSF ने कहा है कि वह एक गैर राजनैतिक ताकत है और सभी दलों का समान रूप से सम्मान करता है।

1277 करोड़ रुपए की कंपनी: इंडियन कैसे करते हैं पखाना (पॉटी), देते हैं इसकी ट्रेनिंग और प्रोडक्ट

इंडिया के लोग पखाना कैसे करते हैं? आप बोलेंगे बैठ कर! लेकिन किसी के लिए यही सामान्य सा ज्ञान बिजनस बन गया और...

भाषण देने को लेकर गाली-गलौज, कॉन्ग्रेसियों ने एक-दूसरे को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

यह विवाद धरना-प्रदर्शन में संबोधन का अवसर न मिलने को लेकर शुरू हुआ। जिसके बाद कॉन्ग्रेसियों ने एक-दूसरे पर गाली गलौज करते हुए जमकर मारपीट की।

सारे लकड़बग्घे एक साथ आ जाएँ… मैं तुम सब भेड़ियों को नहीं छोड़ूँगी: जावेद अख्तर वाले केस में समन पर कंगना रनौत

गीतकार जावेद अख्तर द्वारा दायर मानहानि मामले में मुंबई पुलिस ने अभिनेत्री कंगना रनौत को तलब किया है।

नरेंद्र मोदी, जापानी PM, ट्रम्प और कुत्ता: रॉयटर्स ने दिखाई नस्लभेदी मानसिकता

बायडेन को ट्रंप से बेहतर साबित करने के फेर में रॉयटर्स ने एक वीडियो साझा किया है, जिससे उसकी नस्लभेदी मानसिकता झलकती है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
383,000SubscribersSubscribe