Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाजजो खुद को बताते हैं 'अन्नदाता', उनको चेहरा छुपा 'पत्थरबाजी' करते देखा आपने? शंभु...

जो खुद को बताते हैं ‘अन्नदाता’, उनको चेहरा छुपा ‘पत्थरबाजी’ करते देखा आपने? शंभु बाॅर्डर के Video हरियाणा पुलिस ने किए जारी

हरियाणा पुलिस द्वारा जारी किए गए वीडियो में दिखता है कि एक तरफ सुरक्षाबलों के जवान तैनात हैं और दूसरी तरफ से बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी पत्थर फेंक रहे हैं। वीडियो में दिखता है कि मुंह पर कपड़ा बाँधे पत्थरबाज सुरक्षाबलों पर पत्थर चलाते हैं।

हरियाणा और पंजाब की सीमा पर प्रदर्शनकारी किसान सुरक्षाबलों पर पत्थर बरसा रहे हैं। पुलिस के समझाने के बाद भी वे नहीं मान रहे हैं। इस बात का खुलासा हरियाणा पुलिस ने किया है। दरअसल, ये कथित किसान किसी तरह दिल्ली में घुसना चाहते हैं, लेकिन सुरक्षाबल इन्हें रोकने की कोशिश कर रहा हैं। इसको लेकर वे पुलिस पर हमलावर हैं। इसके कई वीडियो भी सामने आए हैं।

अम्बाला की अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पूजा डाबला ने बताया, “पत्थरबाजों के वीडियो हमने जारी की है। इनके प्रदर्शन को लेकर हमने तैयारी कि हुई थी। हमने बैरिकेड भी लगाए थे और पैरामिलिट्री भी तैनात की थी। 2020 में भी इसी तरह उत्पात का हो चुका है। हमारे सामने ऐसे वीडियो आए हैं, जिनमें लोग बैठकर पत्थर तोड़ रहे हैं और उससे जवानों को पत्थर मार रहे हैं।”

आगे उन्होंने बताया, “इस पत्थरबाजी में अर्धसैनिक बलों के 7 जवान और हरियाणा पुलिस के 18 जवान घायल हुए हैं। इसके अलावा, एक DSP भी पत्थर की चोट से घायल हुए हैं। हमने वीडियो जारी करके पत्थरबाजों की पहचान करने में सहायता माँगी है।” इसके अलावा हरियाणा पुलिस ने पत्थर बरसाने वालों के वीडियो भी जारी किए हैं और लोगों से इनका पहचान करने का आग्रह किया है।

हरियाणा पुलिस द्वारा जारी किए गए वीडियो में दिख रहा है कि एक तरफ सुरक्षाबलों के जवान तैनात है और दूसरी तरफ से बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी पत्थर फेंक रहे हैं। वीडियो में दिखता है कि मुँह पर कपड़ा बाँधे पत्थरबाज एक के बाद एक करके आगे आते हैं और सुरक्षाबलों पर पत्थर चलाते हैं। वीडियो में साफ़ देखा जा सकता है कि यहाँ यह पत्थरबाज मैदान में बैठकर पत्थर तोड़ रहे हैं और फिर सुरक्षाबलों पर फेंक रहे हैं।

इसी तरह के दृश्य पहले कश्मीर से देखने को मिलते थे। हालाँकि, अनुच्छेद 370 हटाने के बाद अब वहाँ शांति है। हरियाणा बॉर्डर पर जिस तरह से प्रदर्शनकारी किसान सुरक्षाबलों पर पथराव करते दिखे, वह कश्मीर का याद दिलाता है। इस दौरान पुलिस ने आँसू गैस के गोले भी फेंके। इसके बाद भी प्रदर्शनकारी किसान पीछे नहीं हट रहे हैं।

इससे पहले भी प्रदर्शकारियों के वीडियो सामने आए थे। एक वीडियो में एक प्रदर्शनकारी कहता है कि वे लोग पुलिस के ड्रोन गिराने के लिए पत्थरों का उपयोग कर रहे थे लेकिन वे पत्थर वापस आकर उन पर कर रहे थे। इस कारण से किसान अब टेनिस बॉल का इस्तेमाल कर रहे हैं। वहीं एक और वीडियो में प्रदर्शनकारी पतंग उड़ाकर ड्रोन गिराने की कोशिश करते देखे गए थे।

इसी बीच सरकार किसानों से बातचीत करने का भी प्रयास कर रही है। बृहस्पतिवार (15 फरवरी 2024) को केंद्र सरकार और किसानों के बीच बातचीत बेनतीजा रही। यह दोनों पक्षों के बीच बातचीत का तीसरा दौर था। इस बातचीत में MSP को लेकर कानून की माँग सहित 13 माँगें रखी गई हैं। वहीं सरकार इसमें आने वाली अड़चनों को लेकर उन्हें समझाने का प्रयास कर रही है।

इस बीच किसानों ने शुक्रवार (16 फरवरी 2024) को भारत बंद का भी ऐलान किया है। इस बंद का मिला-जुला असर देखने को मिल रहा है। भारत बंद के ऐलान का ज्यादा असर जहाँ पंजाब में है। हरियाणा और दिल्ली में भी इसका असर सामान्य आवाजाही पर दिख रहा है। दिल्ली में कई जगह पर इस प्रदर्शन और बंद के चलते भारी जाम लगा हुआ है।

दिल्ली के गाजीपुर, टिकरी और सिंघु बॉर्डर पर भी लोग परेशान हो रहे हैं। बैरिकेडिंग की वजह से गाड़ियों की लंबी-लंबी कतारें दिखाई दे रही हैं। दिल्ली पुलिस ने इस दौरान लोगों को अधिक से अधिक संख्या में मेट्रो सेवा का उपयोग करने की सलाह दी है। इन सबके बीच इन प्रदर्शनकारियों पर किसानों की माँगों का राजनीतिकरण करने का आरोप लग रहा है।

Haryana police publishes video of stone pelters in farmers protest ambala shambhu border

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फिर सामने आई कनाडा की दोगलई: जी-7 में शांति पाठ, संसद में आतंकी निज्जर को श्रद्धांजलि; खालिस्तानियों ने कंगारू कोर्ट में PM मोदी को...

खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर को कनाडा की संसद में न सिर्फ श्रद्धांजलि दी गई, बल्कि उसके सम्मान में 2 मिनट का मौन रखकर उसे इज्जत भी दी।

‘हमारे बारह’ पर जो बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा, वही हम भी कह रहे- मुस्लिम नहीं हैं अल्पसंख्यक… अब तो बंद हो देश के...

हाई कोर्ट ने कहा कि उन्हें फिल्म देखखर नहीं लगा कि कोई ऐसी चीज है इसमें जो हिंसा भड़काने वाली है। अगर लगता, तो पहले ही इस पर आपत्ति जता देते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -