Friday, June 14, 2024
Homeदेश-समाज'लड़की का हाथ पकड़ कर प्यार का इजहार करना यौन उत्पीड़न नहीं': बॉम्बे हाईकोर्ट...

‘लड़की का हाथ पकड़ कर प्यार का इजहार करना यौन उत्पीड़न नहीं’: बॉम्बे हाईकोर्ट ने रिक्शा चालक को दी जमानत, चेताया – दोबारा ऐसा मत करना

दरअसल, यह पूरा मामला 1 नवंबर, 2022 का है। पीड़िता के पिता ने अपनी 17 साल की लड़की के यौन शोषण करने के आरोप में रिक्शा चालक के खिलाफ मामला दर्ज कराया था।

बॉम्बे हाईकोर्ट ने कहा है कि लड़की का हाथ पकड़कर प्यार का इजहार करना यौन उत्पीड़न नहीं है। इसके साथ ही कोर्ट ने यौन उत्पीड़न के आरोपित रिक्शा चालक को अग्रिम जमानत दे दी। रिक्शा चालक पर नाबालिग लड़की ने हाथ पकड़कर छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया था। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर बेंच में जस्टिस भारती डांगरे ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा है कि पीड़िता के बयान से साफ है कि आरोपित का इरादा लड़की का यौन उत्पीड़न करने का नहीं था। इसलिए उसे अग्रिम जमानत दी जाती है।

10 फरवरी 2023 को हुई सुनवाई में फैसला सुनाते हुए कहा है कोर्ट ने कहा है, “पीड़ित लड़की द्वारा लगाए गए आरोपों में यह सामने आया है कि प्रथम दृष्टया किसी भी तरह से यौन उत्पीड़न का मामला नहीं है। आरोपित ने यौन शोषण के इरादे से लड़की का हाथ नहीं पकड़ा था। यदि यह मान भी लिया जाए कि आरोपित ने अपने प्यार का इजहार किया है, तब भी पीड़ित लड़की के बयान से कोई यौन शोषण करने के इरादे का पता नहीं चलता है। इसलिए आरोपित जमानत का हकदार है। किसी भी कारण से उसकी हिरासत की जरूरत नहीं है।”

यौन शोषण के आरोपित को जमानत देने के साथ ही कोर्ट ने उसे चेतावनी भी दी है। कोर्ट ने कहा है, “आरोपित को चेतावनी दी जाती है कि वह इस तरह की हरकत दोबारा नहीं करेगा। यदि वह ऐसा करता पाया जाता है तो गिरफ्तारी से बचने के लिए उसे दी गई जमानत रद्द कर दी जाएगी।”

क्या है मामला

दरअसल, यह पूरा मामला 1 नवंबर, 2022 का है। पीड़िता के पिता ने अपनी 17 साल की लड़की के यौन शोषण करने के आरोप में रिक्शा चालक के खिलाफ मामला दर्ज कराया था। पीड़िता के पिता का कहना था कि आरोपित उनके घर के पास ही रहता था। वह उनके परिवार को जानता था। उनकी बेटी उसके रिक्शा में बैठकर ही स्कूल और ट्यूशन जाती थी। हालाँकि, बाद में उसने रिक्शा से स्कूल जाना बंद कर दिया।

घटना के दिन यानी कि 1 नवंबर, 2022 को आरोपित ने पीड़िता को रोककर अपने रिक्शा में बैठने के लिए कहा। हालाँकि, पीड़िता ने इनकार कर दिया। इसके बाद आरोपित ने पीड़िता का हाथ पकड़ लिया और अपने प्यार का इजहार कर दिया। यही नहीं, आरोपित ने जोर देकर पीड़िता को रिक्शा में बैठने के लिए कहा, ताकि वह उसे घर छोड़ आए। हालाँकि, लड़की मौके से भाग गई और घर जाकर पूरी घटना बताई। इसके बाद पीड़िता के पिता ने एफआईआर दर्ज कराई थी।

बता दें कि ऐसे ही एक मामले में मुंबई की एक स्पेशल कोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा था कि एक बार ‘आई लव यू’ कहना लड़की का अपमान नहीं बल्कि प्यार का इजहार है। कोर्ट ने इस मामले में पॉक्सो एक्ट के आरोपित को बरी करने का फैसला सुनाया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘इंशाअल्लाह, राम मंदिर को गिराना हमारी जिम्मेदारी बन चुकी है’: धमकी के बाद अयोध्या में अलर्ट जारी कर कड़ी की गई सुरक्षा, 2005 में...

"बाबरी मस्जिद की जगह तुम्हारा मंदिर बना हुआ है और वहाँ हमारे 3 साथी शहीद हुए हैं। इंशाअल्लाह, इस मंदिर को गिराना हमारी जिम्मेदारी बन गई है।"

‘हरियाणा से समझौता करो’: दिल्ली में जल संकट पर लड़ रहे I.N.D.I. गठबंधन में शामिल कॉन्ग्रेस और AAP, सुप्रीम कोर्ट में अपने कहे से...

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा है कि हिमाचल के पास जितना 'एक्स्ट्रा' पानी है, वो दिल्ली ही नहीं किसी भी अन्य राज्य को देने को तैयार हैं, लेकिन पहले दिल्ली सरकार हरियाणा के साथ सहमति बनाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -