Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजजानवर को कैसे करते हैं हलाल, काटने से पहले बेहोश करना इस्लाम में क्यों...

जानवर को कैसे करते हैं हलाल, काटने से पहले बेहोश करना इस्लाम में क्यों नहीं कबूल: जानिए सब कुछ

भारत में करीब 18 करोड़ मुस्लिम (जनसंख्या का 14%) हैं, वहीं भारत वर्तमान में इस्लामिक सहयोग संगठन (OIC) देशों को हलाल मांस के सबसे बड़े निर्यातकों में से एक है।

भारत और दुनिया भर में हलाल उद्योग खतरनाक गति से बढ़ रहा है। दुनिया भर में 1.8 बिलियन (1 अरब 80 करोड़) से अधिक लोग इस्लाम को मानने वाले हैं और हलाल खाद्य बाजार वर्तमान में वैश्विक खाद्य उद्योग का 16% है। वहीं निकट भविष्य में हलाल खाद्य उत्पादन में वैश्विक व्यापार का 20% तक वृद्धि की उम्मीद है।

भारत में करीब 180 मिलियन (18 करोड़) मुस्लिम (जनसंख्या का 14%) हैं, वहीं भारत वर्तमान में इस्लामिक सहयोग संगठन के (OIC) देशों को हलाल मांस के सबसे बड़े निर्यातकों में से एक है। हलाल काउंसिल ऑफ इंडिया के मुफ्ती ताहिर के अनुसार, हलाल उत्पादों को ‘स्वास्थ्य और स्वच्छता’ के कारण गैर-मुस्लिमों के बीच भी अत्यधिक लोकप्रियता प्राप्त है।

उन्होंने टिप्पणी की है, “हलाल स्वस्थ और स्वच्छ होने का पर्याय है… यहाँ तक ​​​​कि गैर-मुस्लिमों का एक बड़ा वर्ग (भारत के भीतर भी) स्वच्छता और स्वास्थ्य कारणों से हलाल मांस पसंद करता है? दरअसल, हलाल काउंसिल ऑफ इंडिया का आदर्श वाक्य ही है- स्वस्थ खाओ, बेहतर सोचो।

इस्लाम कुरान और पैगंबर मुहम्मद (हदीस में) के शब्दों के आधार पर मुस्लिमों के लिए आहार उत्पादों को ‘हलाल और ‘हराम’ के रूप में अलग-अलग करता है। जबकि इस्लाम में हलाल के रूप में जिसे बताया गया है वह दूसरे धर्मों के लोगों पर भी लागू हो यह जरूरी नहीं है।

इसके बावजूद, हलाल उत्पादों का भारतीय खाद्य उद्योग में हिस्सा बहुत ज़्यादा नहीं है। यह भी विशेष रूप से गैर-मुस्लिमों में जागरूकता की कमी और वैकल्पिक भोजन विकल्पों की उपलब्धता न होने के कारण भी है।

फिर भी, हलाल मांस उद्योग आधुनिक उद्योगों की आवश्यकताओं की हिसाब से पिछड़ा हुआ है, जिसकी बड़ी वजह विशेष रूप से सख्त इस्लामिक नियम और मानवीय और तकनीकी रूप से उन्नत प्रक्रियाओं को न अपनाने के कारण है।

हलाल, ‘खून की अशुद्धता’ और कुरान के प्रतिबंध

जानकारों का कहना है, मुस्लिमों से हर समय इस्लाम (शरिया कानून) के आधार पर खाने-पीने के प्रतिबंधों का पालन करने की अपेक्षा की जाती है। साथ ही इस्लाम में जिन्हें हराम कहा गया है, उनसे बचने को भी कहा गया है। जैसे-

  • सूअर
  • अल्लाह के नाम के बिना जिबह (काटे) किए गए जानवर
  • लंबे नुकीले दाँत या टस्क वाले जानवर
  • कीड़े-मकोड़े
  • प्राइमेट, सरीसृप (काँटेदार पूँछ वाली छिपकलियों को छोड़कर) और उभयचर
  • गधों, खच्चरों (घोड़ों की मनाही नहीं है) और लाइकोनपिक्टस (अफ्रीकी जंगली कुत्ता)
  • जलीय जंतु जो मानव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं
  • रक्त (किसी भी जानवर का)

‘जानवरों की हत्या’ की हलाल प्रणाली, जिसे ‘जिबह’ भी कहा जाता है, जो जानवरों के ‘रक्तस्राव’ पर विशेष जोर देती है। यह विशेष रूप से इस्लामी मान्यता के कारण है कि रक्त ‘अशुद्ध’ है। और जिबह किए गए जानवरों से रक्त का बहना हलाल प्रक्रिया का प्रमुख आधार है। कुरान की कई ऐसी आयतें हैं, जो दोहराती हैं कि खून के सेवन से किसी भी कीमत पर बचना चाहिए। दरअसल, खून को इस्लाम में हराम माना गया है।

कुरान- अध्याय 2 (अल-बकराह) आयत- 173 कहता है:

“उसने तुम्हें केवल ऐसा मांस खाने से मना किया है, जो मरे हुए जानवर का सड़ा हुआ मांस हो, खून, सूअर या जो कुछ भी बिना कलमा पढ़े जिबह किया गया हो। लेकिन अगर कोई जरूरतों से विवश है- न तो इच्छा से प्रेरित है और न ही तात्कालिक आवश्यकता से- तो वे गुनहगार नहीं होंगे। निश्चय ही अल्लाह बड़ा क्षमाशील और अत्यन्त दयालु है।”

अध्याय- 5 (अल-मैदाह) कुरान की आयत- 3 कहता है:

“मृत जानवर का सड़ा हुआ मांस, खून और सूअर तेरे लिए वर्जित हैं, जो अल्लाह के सिवा किसी और के नाम पर जिबह किया गया है, गला घोंटने, पीटने, गिरने, या मौत के मुँह में जाने से मारा जाता है; जिसे आंशिक रूप से किसी शिकारी द्वारा खाया गया है, जब तक कि आप इसे हलाल नहीं करते और जो वेदियों पर बलि (झटका) दिया गया है। आपको ऐसे में निर्णयों के लिए बहुत कुछ आकर्षित करने की भी मनाही है। यह सब बुराई है। आज काफ़िरों ने तुम्हारे ईमान को ‘कम करने’ की सारी उम्मीद छोड़ दी है। इसलिए उनसे मत डरो; मुझसे डरो! आज मैंने तुम्हारे लिए तुम्हारा ईमान सिद्ध कर दिया है, तुम पर अपनी मेहरबानी पूरी कर दी है, और इस्लाम को तुम्हारे रास्ते के रूप में चुना है। लेकिन जो कोई भीषण भूख से मजबूर है- गुनाह का इरादा नहीं है – तो निश्चित रूप से अल्लाह बड़ा क्षमाशील, दयालु है।”

कुरान- अध्याय 6 (अल-अनम) आयत- 145 कहता है:

कहो, ऐ पैग़म्बर, “जो कुछ मुझ पर उतारा गया है, उसमें मुझे कुछ भी खाने से मनाही नहीं है, सिवाय सड़े हुए मांस, बहते ख़ून, सूअर-जो अशुद्ध है- या अल्लाह के अलावा किसी और के नाम पर (बिना कलमा के) किया गया है। परन्तु यदि कोई आवश्यकता से विवश है – न तो इच्छा से प्रेरित है और न ही तत्काल आवश्यकता से अधिक है – तो निश्चय ही तुम्हारा पालनहार बड़ा क्षमाशील, अत्यन्त दयालु है।”

अध्याय 16 (अल-मैदाह) कुरान की आयत 115 कहती है:

“उसने तुम्हें केवल सड़े हुए मांस खाने से मना किया है, खून, सूअर, और जो कुछ अल्लाह के अलावा किसी और के नाम पर जिबह किया जाता है। परन्तु यदि कोई आवश्यकता से विवश है – न तो इच्छा से प्रेरित है और न ही तत्काल आवश्यकता से अधिक है – तो निश्चित रूप से अल्लाह बड़ा क्षमाशील, दयालु है।”

वहीं कट्टरपंथी इस्लामी उपदेशक जाकिर नाइक के अनुसार, झटका पद्धति रीढ़ की हड्डी को नुकसान पहुँचाती है, जिसके परिणामस्वरूप हृदय में रक्त का ‘जमाव’ होता है। नाइक के अनुसार, मृत जानवर के शरीर में खून बहने के बजाय रुक जाता है।

उसके अनुसार, हलाल करके जब जानवरों को जिबह करते हैं तो खून तेजी से निकलता है। आज का विज्ञान भी हमें बताता है कि रक्त कीटाणुओं और जीवाणुओं का वाहक है। हम (मुस्लिम) हाइजेनिक लोग हैं। हम कीटाणुओं से लदे जानवरों को खाना पसंद नहीं करते।

इतना ही नहीं कथित तौर पर मेडिकल की डिग्री रखने वाले नाइक ने दावा किया कि हलाल का मांस झटके के मांस की तुलना में अधिक समय तक ताजा रहता है।

हलाल तरीके से जानवरों की जिबह

इस्लामी कानून (शरिया) के अनुसार, किसी जानवर को ‘हलाल’ के लिए एक तेज चाकू के उपयोग की आवश्यकता होती है, जिसमें किसी तरह की जंग और भोथरा न हो। हालाँकि, किसी विशेष प्रकार के चाकू का उपयोग करने का कोई निर्देश नहीं है, बस इस बात पर जोर दिया जाता है कि चाकू का ब्लेड जानवर की गर्दन से 2-4 गुना बड़ा हो।

जानवर को अच्छी तरह से खिलाया जाना चाहिए, पीने के लिए साफ पानी दिया जाना चाहिए और इसे उसके बेजान होने से पहले किया जाना चाहिए।

सहीह मुस्लिम, हदीसों का एक संग्रह, पुस्तक 21, संख्या 4810 में बताता है:

“शादीद बी. औस ने कहा: दो चीजें हैं जो मुझे अल्लाह के रसूल ने याद किया है: वास्तव में अल्लाह ने हर चीज में भलाई का आदेश दिया है; इसलिए जब तुम घात करो, तो अच्छे तरीके से करो, और जब घात करो, तो अच्छी रीति से हलाल करो। इसलिए तुम में से हर एक अपनी छुरी की धार तेज करे, और हलाल किए हुए पशु को आराम से मरने दे।”

हालाँकि, ‘एनिमल वेलफेयर’ के बहाने जानवरों को हलाल से पहले खिलाने की इस्लामी रिवाज में समस्या है। इस तरह की विधि से जुगाली करने वाले जानवरों के पेट में बैक्टीरिया की मात्रा और बढ़ जाती है। आधुनिक औद्योगिक विधियों जिबह से पहले 12 घंटे तक जो कुछ भी खाया गया है उसकी निकासी की आवश्यकता होती है, ताकि मांस को प्रदूषित होने के जोखिम को टाला जा सके।

हलाल केवल एक समझदार, वयस्क मुस्लिम व्यक्ति द्वारा किया जाना चाहिए, जो इस्लामी रीति-रिवाजों से परिचित हो। “एक गैर-मुस्लिम द्वारा जिबह किए गए जानवर हलाल नहीं कहे जाएँगे। यूरोपीय संघ में हलाल प्रमाणन विभाग का भी कहना है कि हलाल के समय अल्लाह के नाम का आह्वान (कलमा पढ़ा जाना) किया जाना चाहिए: बिस्मिल्लाह रहमाने… अल्लाह-हू-अकबर।

क़ुरान, अध्याय 6 (अल अनम) आयत 18 में स्पष्ट करता है: तो अल्लाह के नाम पर केवल वही खाओ जो अल्लाह के नाम पर हलाल किया गया है यदि आप वास्तव में उसमें ईमान रखते हो।

जानवरों के स्लॉटर के लिए आधुनिक तकनीक

यह देखते हुए कि हलाल करने वाले के लिए एक पंक्ति में 4000-12000 पक्षियों को प्रोसेस्ड करते समय हर बार अल्लाह का नाम लेना मुश्किल है। वहीं इस पर फतवा देते हुए, एक फरमान जारी किया है कि बड़े पैमाने पर हलाल करने के लिए केवल एक बार ही कलमा पढ़ना काफी है।

हलाल में मशीनों से अधिक श्रमिक (मुस्लिम) शामिल होते हैं, जिससे मांस की कीमत काफी बढ़ जाती है।

यहाँ तक ​​कि पोल्ट्री की गर्दन काटने के लिए भी एक स्वचालित चाकू का उपयोग इस्लाम में हराम माना जाता है, यह देखते हुए कि जिबह का हलाल तरीका खून की कमी (तेजी से बहने) पर जोर देता और जो एनिमल वेलफेयर के खिलाफ है। इन दोनों बातों से समझौता किया जा सकता है यदि स्वचालित मशीनों द्वारा काटा जाता है।

यह महत्वपूर्ण है कि जानवर को ठीक से जिबह किया जाए। यह उत्तेजना या घबराहट की स्थिति में नहीं होना चाहिए क्योंकि यह चीरे की सटीकता में गड़बड़ी पैदा कर सकता है। हलाल प्रक्रिया के अनुसार, खून को तेजी से बहने के लिए जानवर को उसके बायीं तरफ लिटाना चाहिए। यह भी मक्का (क़िबला) की दिशा में होना चाहिए।

Slaughter practices of different faiths in different countries – Scientific Figure on ResearchGate

अलग-अलग जानवरों को अलग-अलग तरीकों से हलाल किया जाता है। उदाहरण के लिए, एक भेड़ को क्षैतिज स्थिति में हलाल किया जाता है, जबकि जुगाली करने वालों को एक सीधी स्थिति में लिटाकर, पिछले पैर से दबाकर हलाल किया जाता है। दिलचस्प बात यह है कि अधिकांश हलाल बूचड़खाने जानवर को लिटाकर ही हलाल करते हैं।

पार्श्व स्थिति में जिबह किए गए जुगाली करने वाले जानवरों में रक्तस्राव सबसे अधिक होता है और जब सीधी स्थिति में रखा जाता है तो सबसे कम होता है। लंबवत रूप से लटकाए गए बकरे या जानवरों से सीधे रखे गए जानवरों की तुलना में अधिक खून बहता है।

हलाल के लिए, चीरा गर्दन पर और आहार नली नीचे लगाया जाना चाहिए। श्वासनली, आहारनाल, गले की नसें और जानवर की कैरोटिड धमनियों को बिना किसी रुकावट या देरी के तेज गति में काटा जाना चाहिए।

अब्दुल्ला. एफ. बोरिलोवा ने कहा, “चीरा निचले जबड़े के पास गर्दन लगाया जाना चाहिए लेकिन रीढ़ तक नहीं पहुँचना चाहिए। इसका मतलब है कि हलाल के दौरान सिर को शरीर से पूरी तरह से अलग नहीं किया जाना चाहिए।”

बेहोश कर जानवरों को काटना और हलाल के साथ असंगति

जबकि हलाल कहता है कि हत्या के समय जानवर को पूरी तरह से सचेत होना चाहिए, जो आश्चर्यजनक रूप से चेतना की स्थिति के बारे में चिंता पैदा करता है। जबकि स्टन्निंग या बेहोशी की प्रक्रिया में ऐसा माना जाता है कि किसी जानवर की चेतना का अंत (मृत्यु) बिना परेशानी, पीड़ा, चिंता और दर्द के होनी चाहिए।

यूरोप में जानवरों की हत्या में स्टनिंग अनिवार्य है। अपेक्षाकृत दर्द रहित वध प्रक्रिया का कुरान और हदीसों में कोई उल्लेख नहीं मिलता है, मुस्लिम समुदाय के बीच आम सहमति यह है जानवरों को हलाल से पहले बेहोश नहीं किया जाना चाहिए।

शोधकर्ताओं अब्दुल्ला एफ और बोरिलोवा के अनुसार, “खासकर एनिमल वेलफेयर की दृष्टि से बिना बेहोशी के मवेशियों को जिबह करने के कई नुकसान हैं। जानवर काटे जाने पर तनाव और दर्द का अनुभव करता है और झूठे एन्यूरिज्म (तनाव या दर्द से जुड़े हार्मोन आदि) विकसित करता है जिससे उसकी मृत्यु में में देरी होती है।”

उन्होंने कहा, “जानवरों को काटने के बाद यदि यंत्रवत् रूप से नियंत्रित नहीं किया जाता है, तो धीमी गति से रक्तस्राव होता है इस प्रकार, लंबे समय तक उसे अनावश्यक पीड़ा होती है।”

हलाल पोल्ट्री उद्योग में, स्टनिंग को ‘अस्वीकार्य’ माना जाता है। उन्होंने कहा, “हालाँकि बिजली के माध्यम से बेहोशी में पक्षियों के आकार को मानकीकृत किया गया है, कुछ पक्षी मारे जाने से पहले बेहोशी की प्रक्रिया या लगने वाले समय में देरी के कारण मर जाते हैं।”

“एक ही वोल्टेज के करंट को झेलने और बिजली से बेहोश होने के बाद भी जीवित रहने की पोल्ट्री की क्षमता एक विशेष वजन के पैरामीटर के भीतर भी भिन्न होती है।” यहाँ तक ​​​​कि नॉनपेनेट्रेटिव पर्क्यूसिव रिवर्सिबल स्टनिंग के मामलों में भी, यह देखा गया है कि बड़ी संख्या में मवेशियों में असामान्य रक्तस्राव होता है।

जबकि स्टनिंग एक प्रक्रिया के रूप में मुस्लिमों में स्वीकार्य होने के लिए, हलाल को नियंत्रित करने वाले मानकों का पालन करना चाहिए। इसमें रिवर्सिबल स्टनिंग शामिल है जो जानवर को मारता नहीं है या स्थायी चोट नहीं पहुँचता है। जिसे कलमा पढ़ते हुए एक मुस्लिम व्यक्ति द्वारा किया जाना चाहिए। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि सूअरों पर स्टनिंग उपकरणों का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए।

फिर भी, ‘मानवीय प्रक्रिया’ में संसाधनों की कमी, उचित स्टनिंग (बेहोशी) उपकरणों और तकनीकी प्रशिक्षण के आभाव के कारण कई अन्य चुनौतियाँ हैं। वर्तमान में, मुस्लिम बहुसंख्यक मलेशिया (जो इस्लाम के शफी विचारधारा का अनुसरण करता है) में हलाल से पहले स्टनिंग स्वीकार्य है, लेकिन पाकिस्तान में नहीं (जो इस्लाम के हनफी विचार का पालन करता है)।

यह देखते हुए कि इस्लामिक कानून (शरिया) 1400 साल पहले स्थापित किए गए थे, जिससे यह स्पष्ट है कि कुछ आधुनिक तकनीकें और मानदंड इस्लामी नियमों से मेल नहीं खाते हैं। ऐसे में वे मुस्लिम, जो मानते हैं कि शरिया हर समय और जगह के लिए मान्य है। वे मांस उद्योग में भी स्लॉटर की आधुनिक तकनीकी को अपनाने से इनकार करते हैं।

References: Abdullah, F., Borilova, G., & Steinhauserova, I. (2019). Halal Criteria Versus Conventional Slaughter Technology. Animals : an open access journal from MDPI, 9(8), 530. https://doi.org/10.3390/ani9080530

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Dibakar Dutta
Dibakar Duttahttps://dibakardutta.in/
Centre-Right. Political analyst. Assistant Editor @Opindia. Reach me at [email protected]

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -